JamshedpurJharkhand

नक्सलियों के झारखंड बंद का असर  : जमशेदपुर से दूसरे राज्यों और शहरों को जानेवाली बसें नहीं चलीं  

नक्सली नेता प्रशांत बोस के इलाज और राजनीतिक बंदी का दर्जा देने को लेकर माओवादियों ने बुलाया है एक दिन का बंद

Jamshedpur :  सरायकेला से गिरफ्तार किये गये नक्सली कमांडर प्रशांत बोस उर्फ किशन दा को राजनीतिक बंदी का दर्जा देने तथा उन्हें बेहतर चिकित्सा सुविधा देने की मांग को लेकर गुरुवार को नक्सलियों द्वारा बुलाये गये एक दिवसीय झारखंड बंद का जमशेदपुर में सड़क यातायात पर काफी असर पड़ा. बंदी के कारण जमशेदपुर से खुलने वाली लंबी दूरी की अधिकतर बसें बंद रहीं. यात्रियों की भीड़ भी बस अड्डे पर नहीं दिखी, जमशेदपुर से घाटशिला, बहरागोड़ा, रांची, धनबाद ,चास एवं बोकारो जैसी लंबी दूरी की बसें बस अड्डे पर ही खड़ी दिखीं. गुरुवार को सुबह से ही मानगो बस स्टैंड पर शहर से बंगाल उड़ीसा बिहार जाने वाली बसों की संख्या में काफी कमी हुई है. इस कारण यात्रियों को काफी पेरशानी का सामना करना पड़ रहा है. कई

Advt

सभी जिलों को किया गया है अलर्ट 

नक्सलियों के बंद के एलान के बाद से ही झारखंड पुलिस मुख्यालय ने सभी जिले के एसपी को अलर्ट कर दिया था. खुफिया विभाग ने मुख्यालय को सूचना दी थीं कि बंद के दौरान नक्सली झारखंड में अपने प्रभाव वाले क्षेत्र में पुलिस की टीम पर हमला कर सकते हैं. नक्सली इस दौरान पुलिस पिकेट, कैंप, पोस्ट या पेट्रोलिंग पार्टी के अलावा स्कॉर्ट वाहन को निशाना बना सकते हैं. पुलिस मुख्यालय यह भी सूचना मिली है कि रेलवे ट्रैक या सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जा सकता है. मानगो बस स्टैंड के बस के मालिकों ने बताया की पहले ही दो साल से कोरोना के कारण हम लोगों की हालत पहले से ही बेहाल है. अब किसी न किसी कारण से बंद के कारण हम लोगों को काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें – आदित्यपुर में मेडिकल स्टोर में घुसा अनियंत्रित ट्रक, मची अफरातफरी, बड़ा हादसा टला

Advt

Related Articles

Back to top button