JharkhandRanchiTOP SLIDER

शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो इंटर की परीक्षा से हुए बाहर

ठंड कम होने के बाद लौटेंगे हॉस्पिटल से

Anuj Tiwari

Ranchi: झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो इंटरमीडिएट की परीक्षा से बाहर हो गये हैं. 53 वर्षीय मंत्री जगरनाथ महतो इस वर्ष इंटर की परीक्षा देने वाले थे, लेकिन बीमार होने के कारण वे इस बार परीक्षा फॉर्म ही नहीं भर सके. मंत्री ने डुमरी विधानसभा क्षेत्र के नवाडीह इंटर कॉलेज में कला संकाय में नामांकन लिया था. मंत्री के करीबियों ने बताया कि उनके फेफड़े के संक्रमण के कारण उनका लंबा इलाज चल रहा है. इस बीच वे इस वर्ष की परीक्षा में शामिल नहीं हो सकेंगे. मंत्री जी अब अगले वर्ष इंटर की परीक्षा दे पाएंगे. मालूम हो कि उनका फिलहाल चेन्नई स्थित एमजीएम अस्पताल में इलाज चल रहा है, जहां उनके फेफड़े का सफल ऑपरेशन हुआ है.

जिस कॉलेज की स्थापना की थी वहीं लिया था एडमिशन

जगरनाथ महतो ने मैट्रिक से आगे इंटर की पढ़ाई के लिए अपने विधानसभा क्षेत्र-डुमरी स्थित देवी महतो स्मारक इंटर महाविद्यालय नावाडीह में एडमिशन कराया था. बच्चों को शिक्षित करने के लिए उन्होंने अपने विधानसभा क्षेत्र-डुमरी में स्कूल-कॉलेजों का निर्माण कराया था. जिस इंटर महाविद्यालय में शिक्षा मंत्री ने एडमिशन लिया था उसकी स्थापना भी उन्होंने खुद ही की है.

इसे भी पढ़ें-सरकारी नौकरी : अगर आप ग्रेजुएट हैं तो 1090 पोस्ट पर एप्लाई करने का सुनहरा मौका

इंटर में एडमिशन लेने के बाद मंत्री ने कहा था कि इससे शिक्षा के प्रति जनता में अच्छा संदेश जाएगा. उन्होंने कहा था कि राज्य के बच्चों को पढ़ाने की सुदृढ़ व्यवस्था कराने के साथ ही वे स्वयं भी पढ़ाई करेंगे. मालूम हो कि मंत्री जगरनाथ महतो ने वर्ष-1995 में मैट्रिक की परीक्षा देकर द्वितीय श्रेणी से पास हुए थे. लेकिन राजनीतिक व्यस्तताओं के कारण आगे की पढ़ाई जारी नहीं रख सके थे.

इसे भी पढ़ें-आपके काम की खबरः बिजली बिल नहीं आया है? Don’t worry…खुद जेनरेट कीजिए अपना बिल

ठंड में कमी के बाद लौटेंगे

जानकारी के अनुसार सूबे में ठंड में थोड़ी कमी होने के बाद मंत्री जगरनाथ महतो के लौटने की बात कही जा रही है. चेन्नई में इलाज कर रहे डॉक्टरों के अनुसार अब वे पूरी तरह से ठीक हैं और कभी भी जा सकते हैं. लेकिन झारखंड सरकार का ओर से उन्हें कुछ और दिन आराम करने की सलाह दी है. मुख्यमंत्री ने खुद कहा है कि जबतक ठंड में थोड़ी गिरावट ना आ जाए तब तक वे चेन्नई में ही आराम करें. चेन्नई का मौसम थोड़ा गर्म है, जिससे उन्हें लाभ मिल रहा है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: