न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राज्य में शिक्षा का हालः कॉलेजों में 5 लाख छात्र, चाहिए 12,500 शिक्षक, हैं सिर्फ 2493

राज्य को है तीन यूनिवर्सिटी की जरूरत- नॉलेज कमिशन, 45 हजार छात्रों में होना चाहिए एक विवि

919

Ranchi: राज्य में उच्च शिक्षा व्यवस्था बेपटरी होती नजर आती है. उच्च शिक्षा का स्तर बढ़ाने और इसे व्यवस्थित करने के लिए प्रोफेसर्स की दरकार है. राज्य के यूनिवर्सिटी में पांच लाख से ज्यादा छात्र हैं, लेकिन इन स्टूडेंड्स को पढ़ाने के लिए सिर्फ 2493 प्रोफेसर-रीडर हैं.

इसे भी पढ़ेंःनौ जिले के पानी में घुल रहा जहर ! फ्लोराइड, आर्सेनिक व शीशा की मात्रा WHO के मानकों से ज्यादा

हालांकि राज्य में सात यूनिवर्सिटी हैं, लेकिन इसमें से दो डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी और बिनोद बिहारी महतो अबतक फुल-फ्लेज में नहीं आ पाये हैं. इन विश्वविद्यालयों में पांच लाख से अधिक छात्र हैं. लेकिन इन्हें पढ़ाने के लिये सिर्फ 2493 शिक्षक ही हैं. यूजीसी के गाइडलाइन के अनुसार, शिक्षक-छात्र का अनुपात 40:1 होना चाहिए. जबकि हाल यह है कि 200 छात्रों में एक ही शिक्षक हैं. इस कमी को पाटने के लिये कम से कम 1400 शिक्षकों की और जरूरत है.

hosp3

क्या कहती है नॉलेज कमीशन की रिपोर्ट

नॉलेज कमीशन के रिपोर्ट के अनुसार, 45 हजार छात्र पर एक यूनिवर्सिटी होना चाहिए. बिनोबा भावे विश्वविद्यालय में शिक्षकों के 850 पद हैं. इसमें 625 शिक्षक ही कार्यरत हैं. जबकि 198 पद रिक्त हैं. वहीं रांची विश्वविद्यालय में 200 स्थायी शिक्षकों की जरूरत है. कोल्हान, नीलांबर-पीतांबर और सिद्धो-कान्हू विश्वविद्यालय में 1000 शिक्षकों की जरूरत है.

इसे भी पढ़ेंःमसानजोर : बांध पर अधिकार की बात तो छोड़िये, करार तक पूरा नहीं किया बिहार, झारखंड और बंगाल सरकार ने

किसी भी विवि को नहीं मिला सेंट्रल यूनिवर्सिटी का दर्जा

राज्य के पहले से स्थापित पांचों विश्वविद्यालय में से किसी भी यूनिवर्सिटी को सेंट्रल यूनिवर्सिटी का दर्जा नहीं मिल पाया है. राज्य गठन के बाद कितनी सरकारें आयीं और गय़ीं लेकिन किसी ने भी उच्च शिक्षा को प्राथमिकता की सूची में नहीं रखा. हर बार घोषणा की गयी, प्रस्ताव तैयार किया गया. लेकिन सभी ठंढ़े बस्ते में चले गये. शिक्षा के स्तर में गिरावट का यह भी प्रमुख कारण रहा.

होते रहे हैं प्रयोग पर प्रयोग

उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए, राज्य में प्रयोग पर प्रयोग होता रहा है. हायर सकेंडरी व्यवस्था , सेमेस्टर सिस्टम और इंटर की अलग से पढ़ाई की बात सामने आई. लेकिन कोई भी व्यवस्था टिक नहीं सकी. सेमेस्टर सिस्टम में लेटलतीफी अबतक है. सरकार के आंकड़ों के अनुसार, संबद्ध और अनुशंसित कॉलेज में आर्ट्स, कॉमर्स और साइंस में क्रमश: 67840, 54784 और 54784 सीटें हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि इनमें से अधिकांश कॉलेज एक या दो कमरे में चलते हैं. न तो ढंग के शिक्षक हैं और ना ही पढ़ाई के साधन.

इसे भी पढ़ेंःगिरिडीह में हार्डकोर नक्सली ने किया आत्मसमर्पण, अजय महतो दस्ते का था सदस्य

राजभवन के निर्देश नहीं मानती यूनिवर्सिटी

कॉलेज में हो दक्ष एकाउंटेंट
हर दिन शिक्षक कक्षाओं का रजिस्टर में लिखेंगे ब्योरा
छात्रों की उपस्थिति शत-प्रतिशत हो.
शिक्षकों की कमी को दूर किया जाये
सत्र समय पर पूरा हो
कॉलेजों में आधारभूत संरचनाओं का हो विकास
गुणवत्ता युक्त शिक्षा को बढ़ावा मिले

क्या नहीं हो पाया

इंटर कॉलेज विकल्प के तौर पर स्थापित नहीं हो पाये
दो पालियों में पढ़ाई शुरू नहीं हुई
पिछड़े क्षेत्रों में दो से तीन कॉलेज खोलने की घोषणा धरी रह गयी
हर जिला में महिला कॉलेज नहीं खुला

इसे भी पढ़ेंःअवैध उगाही का अड्डा बना लातेहार जेल ! हर कदम पर होती है वसूली

कॉलेज में सीटों की स्थिति

विश्वविद्यालय       कितने कॉलेज     कितनी सीटें
सिद्धो-कान्हो        12                      21810
बिनोबा भावे        18                       33330
रांची विवि           15                        29823
नीलांबर-पीतांबर  चार                       7475
कोल्हान              14                        17765
कुल संबद्ध कॉलेज 18 हैं, इसमें 32100 सीटे हैं.

किस यूनिवर्सिटी में कितने छात्र -कितने शिक्षकों की है जरूरत

विवि               छात्रों की संख्या      टीचर की संख्या       कितने टीचर की जरूर
रांची विवि        एक लाख                           1046                200
नीलंबर-पीतांबर  38 हजार                          126                 400
कोल्हान            62 हजार                           356                 300
बिनोबा भावे       1.5 लाख                           600                 350
सिद्धो-कान्हो          60 हजार                       350                 300

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: