न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आरके आनंद, मधुकांत पाठक, दिनेश गोप, गेंदा सिंह समेत आठ के खिलाफ ईडी ने जारी किया समन

आरोपियों के बैंक खाते होंगे सील, रेड कार्नर नोटिस भी होगा जारी, पिछले सप्ताह दर्ज की गयी थी प्राथमिकी

239

Ranchi: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने राष्ट्रीय खेल घोटाले के आरोपी आरके आनंद, मधुकांत पाठक, एचएम हाशमी, पीसी मिश्रा समेत, सुधाकरण, आरआरडीए के अध्यक्ष परमा सिंह के तत्कालीन आप्त सचिव शशि भूषण सिंह, अपराधी गेंदा सिंह और पीएलएफआइ के दिनेश गोप के खिलाफ समन जारी कर दिया है. पिछले सप्ताह ईडी की तरफ से सभी आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी. दर्ज प्राथमिकी में इनके कार्यकलापों को संदिग्ध और वित्तीय अनियमितता से जुड़ा हुआ बताया गया था. इन सभी आरोपियों के बैंक खातों को भी सील करते हुए इनके खिलाफ रेड कार्नर नोटिस भी जारी किया जायेगा. ईडी से मिली जानकारी के अनुसार खेल घोटाले मामले में और शशि भूषण सिंह के खिलाफ एसीबी में भी जांच चल रही है.

इसे भी पढ़ें-एससी/एसटी को प्रमोशन में आरक्षण, सुप्रीम कोर्ट 2006 के फैसले पर कायम

करोड़ों की संपत्ति के मालिक हैं शशि भूषण सिंह

राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के वर्तमान अंचल निरीक्षक शशि भूषण सिंह करोड़ों की संपत्ति के मालिक हैं. इनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला एसीबी में चल रहा है. इतना ही नहीं पूर्व में चल रहे एक मामले में इनपर कोई कार्रवाई नहीं हुई थी. आरआरडीए के अध्यक्ष परमा सिंह के आप्त सचिव रहते हुए श्री सिंह के खिलाफ तत्कालीन सदस्य मनोज कुमार पांडेय ने भी ईडी से शिकायत की थी. उस पर ही कार्रवाई की गयी है. श्री सिंह पर संजीवनी बिल्डकॉन घोटाले में शामिल होने का आरोप है. इतना ही नहीं नगड़ी, ओरमांझी, नामकुम, रातू, गुमला, सिमडेगा अंचल में हल्का कर्मचारी रहते हुए करोड़ों की संपत्ति अर्जित करने का भी आरोप है. रांची के हवाई नगर के रोड नंबर 5 में किथत तौर पर इनका एक आलीशान मकान है.

इसे भी पढ़ें- चतरा: टीपीसी ने शहर में फेंका पर्चा, दहशत में शहरवासी

34वें राष्ट्रीय खेल में हुआ था 21 करोड़ से अधिक का घोटाला

palamu_12

रांची में आयोजित 34वें राष्ट्रीय खेल में 21 करोड़ से अधिक का वित्तीय घोटाला हुआ था. घोटाले में राष्ट्रीय खेल आयोजन समिति के अध्यक्ष आरके आनंद, कोषाध्यक्ष मधुकांत पाठक, सचिव एसएम हाशमी, तत्कालीन खेल निदेशक पीसी मिश्रा को आरोपी बनाया था. आठ वर्ष की जांच में एसीबी ने सिर्फ तीन आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दायर की है. अध्यक्ष आरके आनंद की सहभागिता पर कुछ खास प्रगति नहीं हो पायी. दो आरोपी पीसी मिश्रा और एसएम हाशमी जमानत पर हैं, जबकि कोषाध्यक्ष सरेंडर करने के बाद जेल में बंद हैं.

इसे भी पढ़ें- रांची में जमीन को लेकर हो सकता है गैंगवार, सीआईडी को जमीन कारोबार से जुड़े अपराधियों की जानकारी जुटाने का आदेश

सुधाकरण समेत 19 नक्सलियों को पैसे भेजने का मामला

झारखंड पुलिस द्वारा भाकपा माओवादी सुधाकरण समेत 19 नक्सलियों द्वारा लेवी के जरिये वसूली गयी राशि व अर्जित संपत्ति की जांच का मामला ईडी को सौंपा गया था. इसका ब्योरा सरकार की ओर से ईडी को दिया जा चुका है. राज्य पुलिस मुख्यालय की अनुशंसा के आधार पर ईडी ने सुधाकरण और पीएलएफआइ के दिनेश गोप पर प्राथमिकी दर्ज की है. पीएलएफआइ के दिनेश गोप की रांची में ली गयी जमीन हेहल, मिसिरगोंदा कांके, वृजवीणा अपार्टमेंट के फ्लैट और कार को भी जब्त करने का निर्णय लिया है. इसके अलावा अपराधी गेंदा सिंह, उसके भाई लखन के खिलाफ भी रांची में कई जगहों पर गलत तरीके से जमीन हथियाने के खिलाफ भी ईडी मामले की जांच करेगी. इन पर हटिया, तुपुदाना, नगड़ी, नामकुम समेत अन्य जगहों पर गलत तरीके से रैयतों की जमीन को कब्जा करने और कई जमीन कारोबारियों की हत्या करने और रंगदारी मांगने का भी आरोप है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: