BusinessLead NewsNational

इकोनॉमी : एफपीआइ ने मार्च में अबतक भारतीय बाजारों से 5,156 करोड़ रुपये निकाले

New Delhi : अमेरिका में बांड पर प्राप्ति बढ़ने तथा मुनाफावसूली के सिलसिले के बीच मार्च के पहले सप्ताह में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआइ) ने भारतीय बाजारों से 5,156 करोड़ रुपये की निकासी की है. इससे पिछले दो माह के दौरान एफपीआइ भारतीय बाजार में शुद्ध निवेशक रहे थे.

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार एक से पांच मार्च के दौरान एफपीआइ ने शेयर बाजारों से शुद्ध रूप से 881 करोड़ रुपये और ऋण या बांड बाजार से 4,275 करोड़ रुपये निकाले हैं. इस तरह उनकी शुद्ध निकासी 5,156 करोड़ रुपये रही है.

इससे पहले फरवरी में एफपीआइ ने भारतीय बाजारों में 23,663 करोड़ रुपये और जनवरी में 14,649 करोड़ रुपये डाले थे. मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक-प्रबंधक शोध हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि एफपीआइ की निकासी की वजह बाजार के सर्वकालिक उच्चस्तर पर पहुंचने की वजह से निवेशकों द्वारा मुनाफा काटा जाना है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसके अलावा बांड पर प्राप्ति बढ़ने तथा मुद्रास्फीति की वजह से भी शेयरों में एफपीआइ का निवेश प्रभावित हुआ. जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने कहा कि मार्च में एफपीआइ की निकासी की मुख्य वजह अमेरिका में बांड पर प्राप्ति बढ़ना और डॉलर इंडेक्स का मजबूत होना है. ग्रो के सह-संस्थापक एवं मुख्य परिचालन अधिकारी (सीओओ) हर्ष जैन ने कहा कि जब भी अमेरिका में बांड पर प्राप्ति बढ़ती है, इसी तरह का रुख देखने को मिलता है.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

Related Articles

Back to top button