न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अर्थशास्त्री और समाज शास्त्री आर्थिक आंकड़ों में राजनीतिक हस्तक्षेप को लेकर चिंतित

108 विशेषज्ञों ने एक संयुक्त बयान में सांख्यिकी संगठनों की संस्थागत स्वतंत्रता बहाल करने का आह्वान किया है.

46

 NewDelhi :  अर्थशास्त्रियों और समाज शास्त्रियों ने आर्थिक आंकड़ों में राजनीतिक हस्तक्षेप को लेकर चिंता जतायी है.   108 विशेषज्ञों ने एक संयुक्त बयान में सांख्यिकी संगठनों की संस्थागत स्वतंत्रता बहाल करने का आह्वान किया है.  सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) आंकड़ों में संशोधन करने तथा एनएसएसओ द्वारा रोजगार के आंकड़ों को रोक कर रखे जाने के मामले में पैदा हुए विवाद के मद्देनजर यह बयान आया है. बयान के अनुसार उन्होंने कहा कि दशकों से भारत की सांख्यिकी मशीनरी के आर्थिक-सामाजिक मानदंडों पर आंकड़ों को लेकर बेहतर साख रही है. विशेषज्ञों ने एक अपील में कहा, आंकड़ों के अनुमान की गुणवत्ता को लेकर प्राय: उसकी (सांख्यिकी मशीनरी) आलोचना की जाती रही है लेकिन निर्णय को प्रभावित करने तथा अनुमान को लेकर राजनीतिक हस्तक्षेप का कभी आरोप नहीं लगा.  उन्होंने सभी पेशेवर अर्थशास्त्रियों, सांख्यिकीविद और स्वतंत्र शोधकर्ताओं से साथ आकर प्रतिकूल आंकड़ों को दबाने की प्रवृत्ति के खिलाफ आवाज उठाने को कहा. साथ ही उनसे सार्वजनिक आंकड़ों तक पहुंच और उसकी विश्वसनीयता तथा संस्थागत स्वतंत्रता बनाये रखने को लेकर सरकार पर दबाव देने को कहा है.

बयान पर हस्ताक्षर करने वालों में राकेश बसंत (आईआईएम-अहमदाबाद), जेम्स बॉयस (यूनिवर्सिटी आफ मैसाचुसेट्स, अमेरिका), सतीश देशपांडे (दिल्ली विश्वविद्यालय), पैट्रिक फ्रांकोइस (यूनिवर्सिटी आफ ब्रिटिश कोलंबिया, कनाडा), आर रामकुमार (टीआईएसएस, मुंबई), हेमा स्वामीनाथन (आईआईएम-बी) तथा रोहित आजाद (जेएनयू) शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंः आरबीआई सिस्टम में नकदी तरलता बढ़ायेगा, 35,000 करोड़ डालेगा बेंकों में

एनएसएसओ जैसी एजेंसियों को राजनीतिक हस्तक्षेप से परे रखा जाये

SMILE

अर्थशास्त्रियों तथा समाज शास्त्रियों के अनुसार यह जरूरी है कि आंकड़े एकत्रित करने तथा उसके प्रसार से जुड़े केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) तथा राष्ट्रीय नमूना सर्वे संगठन (एनएसएसओ) जैसी एजेंसियों को राजनीतिक हस्तक्षेप से परे रखा जाये और वह पूरी तरह विश्वसनीय मानी जायें.  हालांकि, बयान के अनुसार हाल के दिनों में भारतीय सांख्यिकी तथा उससे जुड़े संस्थानों के राजनीतिक प्रभाव में आने की बातें सामने आयीं हैं. बयान में इस संबंध में सीएसओ के 2016-17 के संशोधित जीडीपी वृद्धि अनुमान के आंकड़ों का हवाला दिया गया है.  इसमें संशोधित वृद्धि का आंकड़ा पहले के मुकाबले 1.1 प्रतिशत अंक बढ़ाकर 8.2 प्रतिशत हो गया जो एक दशक में सर्वाधिक है.  इसको लेकर संशय जताया गया है.  वक्तव्य में एनएसएसओ के समय समय पर जारी होने वाले श्रम बल सर्वेक्षण के आंकड़ों को रोकने और 2017- 18 के इन आंकड़ों को सरकार द्वारा निरस्त किये जाने संबंधी समाचार रिपोर्ट पर भी चिंता जताई गयी है.

इसे भी पढ़ेंः अजीम प्रेमजी एशिया के दानवीर कर्ण, अबतक 1.45 लाख करोड़ रुपये कर चुके हैं दान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: