न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पृथ्वी का चुंबकीय क्षेत्र तेजी से बदल रहा है, वैज्ञानिक वर्ल्ड मैग्नेटिक मॉडल में बदलाव को तैयार

पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र में तेजी से आ रहा बदलाव के कारण वैज्ञानिक वर्ल्ड मैग्नेटिक मॉडल (WMM) के नये अपडेट की तैयारी कर चुके हैं.

50

 NW Desk : पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र में तेजी से रहा बदलाव के कारण वैज्ञानिक वर्ल्ड मैग्नेटिक मॉडल (WMM) के नये अपडेट की तैयारी कर चुके हैं.  बता दें कि अपडेट 15 जनवरी को होना था. लेकिन अमेरिका में शटडाउन की वजह से इसमें देर हो गयी. अब नयी तारीख 30 जनवरी  हैजान लें कि भौगोलिक उत्तरी ध्रुव और चुंबकीय उत्तरी ध्रुव में अंतर है. भौगोलिक ध्रुव हमेशा अपनी जगह पर कायम रहते हैं. लेकिन चुंबकीय ध्रुव लगातार खिसकते रहते हैं. विज्ञान मामलों की पत्रिका नेचर की रिपोर्ट के अनुसार चुंबकीय उत्तरी ध्रुव अनुमान से कहीं ज्यादा तेजी से अपनी जगह बदल रहा है.जानकारी के अनुसार वर्ल्ड मैग्नेटिक मॉडल हर पांच साल में अपडेट किया जाता है. आखिरी बार यह अपडेट 2015 में किया गया था. लेकिन 2016 में पता चला कि चुंबकीय उत्तरी ध्रुव अनुमान से ज्यादा तेज रफ्तार से जगह बदल रहा है.

 2018 में यूएस नेशनल ओशनिक एंड एटमोस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन और ब्रिटिश जियोलॉजिकल सर्वे के वैज्ञानिकों ने दावा किया कि जल्द ही WMM को अपडेट करने की जरूरत है. वैज्ञानिकों के अनुसार मौजूदा WMM में इतनी ज्यादा त्रुटियां चुकी हैं कि इसके चलते नेविगेशन में आने वाली गलतियों को स्वीकार नहीं किया जा सकता.

चुंबकीय क्षेत्र में तेज बदलाव की सटीक वजह क्या, जानकारी नहीं

hosp3

 पृथ्वी के गर्भ में होने वाली हलचलों का असर चुंबकीय क्षेत्रों पर पड़ता है. धरती के भीतर लोहे के बहाव का इस पर सीधा असर होता है. रोजमर्रा की जिंदगी में हम अक्सर नेविगेशन के लिए जीपीएस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं. हवाई जहाज, समुद्री जहाज और स्मार्टफोन WMM के जरिए ही नेविगेशन को सटीक बनाते हैं. अमेरिका के भूअंतरिक्ष इंटेलिजेंस एजेंसी के वैज्ञानिक जेम्स फ्रीडरिष  का कहना है कि आपका रुख, आप किस दिशा का सामना कर रहे हैं, यह सब चुंबकीय क्षेत्र पर ही निर्भर है.फ्रीडरिष के अनुसार हमारे युद्ध के लड़ाके इसी के आधार पर नक्शे की जानकारी अमल में लाते हैं. आपके स्मार्टफोन का कैमरा और कई ऐप्स मैग्नेटिक फील्ड की मदद लेकर तय करते हैं कि आप किस दिशा का सामना कर रहे हैं.  

इन सभी उदाहरणों के लिए यह जरूरी है कि WMM आपको सही रुख की जानकारी दे.हालांकि वैज्ञानिकों को अभी यह नहीं पता कि चुंबकीय क्षेत्र में तेज बदलाव की सटीक वजह क्या है. समुद्र की जलधाराएं और धरती के गर्भ का पिघला लोहा इस पर असर डालते हैं. लेकिन इतनी तेज रफ्तार से परिवर्तन होना रहस्य पैदा कर रहा है.  

इसे भी पढ़ें ;  राफेल अधिक दाम में खरीदने पर लेख बकवास अंकगणित पर आधारित : जेटली 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: