न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

5.5 तीव्रता से हिली धरती, बिहार-बंगाल समेत पूरे नॉर्थ-ईस्ट में भूकंप के झटके

जानमाल का नुकसान नहीं

191

NW Desk: बुधवार सुबह बिहार-बंगाल समेत पूर्वोत्तर भारत में भूकंप के झटके महसूस किये गये. रिएक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 5.5 मापी गई. सुबह करीब 10 बजकर 20 मिनट पर बिहार के किशनगंज, पूर्णिया और कटिहार इलाके में भूकंप आया. भूकंप का केंद्र असम का कोकराझार बताया जा रहा है. हालांकि अभी किसी तरह के जान-माल के नुकसान की खबर नहीं है.

इसे भी पढ़ेंःबेरोजगारों के साथ ठगी की कोशिश करने वालों पर क्यों ना हो कार्रवाई ?

कोकराझार था भूकंप का केंद्र

भूकंप का केंद्र असम का कोकराझार रहा. मिली जानकारी के मुताबिक, बुधवार सुबह 10 बजकर 20 बजे 5.5 तीव्रता का भूकंप आया. नैशनल सिस्मॉलजी सेंटर के निदेशक विनीत गहलोत ने एक चैनल को बताया कि भूकंप सतह से करीब 10-12 किलोमीटर नीचे आया था. गौरतलब है कि असम, नगालैंड,  अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए. वही बुधवार सुबह ही हरियाणा के झज्जर में भी भूकंप आया था.

इसे भी पढ़ेंःराज्यकर्मियों को रक्तदान करने पर मिलेगा विशेष अवकाश

सुबह-सुबह की भागदौड़ के बीच भूकंप आने के बाद कई क्षेत्रों में हलचल मच गई. भूकंप के कारण घरों के पंखे हिलने लगे और लोग अपने-अपने घरों से बाहर सुरक्षित स्थानों पर आ गए. हालांकि अबतक मिली जानकारी में किसी भी तरह के जान-माल के नुकसान की खबर नहीं है. ज्ञात हो कि अभी कुछ दिन पहले ही दिल्ली-एनसीआर में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड में भी शुरू हो सकती है सेवाओं की होम डिलीवरी

क्यों आता है भूकंप? 

ज्ञात हो कि धरती की ऊपरी सतह सात  टेक्टोनिक प्लेटों से मिल कर बनी है. जहां भी ये प्लेटें एक दूसरे से टकराती हैं, वहां भूकंप का खतरा पैदा हो जाता है. लेकिन भूकंप तब आता है जब ये टेक्टोनिक प्लेट्स एक दूसरे के क्षेत्र में घुसने की कोशिश करती हैं. ऐसे में प्लेट्स एक दूसरे से रगड़ खाती हैं, उससे भारी ऊर्जा निकलती है और उस घर्षण से ऊपर की धरती डोलने लगती है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: