JamshedpurJharkhandKhas-KhabarOpinion

अर्थ डे पर विशेष : अगर नहीं चेते तो एक दिन पृथ्वी पर रहना हो जाएगा मुश्किल

Jamshedpur: पृथ्वी सभी जीवों के लिए जीवनदायिनी है. जीवन जीने के लिए जिन प्राकृतिक संसाधनों की जरूरत एक पेड़, एक जानवर या फिर एक इंसान को होती है. पृथ्वी वह सब हमें प्रदान करती है. हालांकि वक्त के साथ सभी जरूरी प्राकृतिक संसाधनों का दोहन इस कदर हो रहा है कि समय से पहले संसाधन खत्म हो सकते हैं. ऐसे में मनुष्य के लिए पृथ्वी पर जीवित रहना मुश्किल हो जाएगा. इसी मुश्किल को हल करने के लिए प्रकृति प्रदत्त चीजों का संरक्षण करने की आवश्यकता है. इस आवश्यकता के बारे में सभी को जागरूक करने के उद्देश्य से हर साल 22 अप्रैल को ‘पृथ्वी दिवस’ मनाया जाता है.

शहर के विभिन्न स्कूल के बच्चों ने शुक्रवार को पृथ्वी दिवस मनाकर इसे बचाने का संकल्प लिया. इस दिन को मनाने का मकसद यह है कि हम विशेष रूप से बच्चे पृथ्वी के महत्व को समझें और पर्यावरण को बेहतर बनाए रखने के प्रति जागरूक हों. यही वजह है कि इस दिन पर्यावरण संरक्षण और पृथ्वी को बचाने का संकल्प लिया जाता है. विश्व पृथ्वी दिवस के दिन पेड़ लगाकर, सड़क के किनारे कचरा उठाकर, लोगों को टिकाऊ जीवन जीने के तरीके अपनाने के लिए प्रेरित करने जैसे विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं.
जानिए क्या है इसका इतिहास
विश्व पृथ्वी दिवस वैश्विक स्तर पर 192 देशों द्वारा मनाया जाता है. 60-70 के दशक में जंगलों और पेड़ों की अंधाधुंध कटाई को देखते हुए सितम्बर 1969 में सिएटल, वाशिंगटन में एक सम्मलेन में विस्कोंसिन के अमेरिकी सीनेटर जेराल्ड नेल्सन ने इसे मनाने की घोषणा की. इस राष्ट्रव्यापी जन आंदोलन में अमेरिका के स्कूल और कॉलेजों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया. और इस सम्मेलन में 20 हजार से अधिक लोग इक्कट्ठा हुए. साल 1970 से लगातार ये दिवस मनाया जा रहा.
193 देशों में मनाया जाता है
साल 1970 से हर साल 22 अप्रैल को पृथ्वी दिवस मनाया जाता है. इस दिन को जैव विविधता के नुकसान, बढ़ते प्रदूषण जैसे पर्यावरणीय मुद्दों को उजागर करने के लिए मनाया जाता है. इस दिन अर्थ डे ऑर्गेनाइजेशन (पूर्व में अर्थ डे नेटवर्क) द्वारा विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. इसमें 193 देशों के 1 बिलियन से अधिक लोग शामिल हैं.
‘अर्थ डे’ शब्द कहां से आया?
पृथ्वी दिवस या अर्थ डे शब्द को सबसे पहले जूलियन कोनिग दुनिया के सामने लाए थे. उनका जन्म दिन 22 अप्रैल को होता था. इसलिए पर्यावरण संरक्षण से जुड़े आंदोलन की शुरुआत 22 अप्रैल को अपने जन्मदिन के दिन करते हुए उन्हें इसे अर्थ डे नाम दिया. उनका मानना था कि अर्थ डे और बर्थडे एक अच्छा ताल मिलाता है.
पृथ्वी दिवस की थीम
साल 1970 से हर साल पृथ्वी दिवस मनाया जाने लगा. हर साल पृथ्वी दिवस के लिए एक खास थीम रखी जाती है. पृथ्वी दिवस 2020 की थीम जलवायु कार्रवाई थी. पृथ्वी दिवस 2022 की थीम ‘इन्वेस्ट इन अवर प्लानेट (Invest in Our Planet) है.

ये भी पढ़ें- Jharkhand Panchayat Election 2022 : धालभूमगढ़ प्रखंड में मुखिया और वार्ड सदस्य के लिए दो-दो नामांकन, घाटश‍िला में टूटा र‍िकार्ड

Catalyst IAS
SIP abacus

Related Articles

Back to top button