Corona_UpdatesJharkhandOFFBEATRanchiTOP SLIDER

‘कभी खुशी कभी गम’ से ‘बाबा का ढाबा’ जाने के लिए भी बन जाता है ई-पास, ऐसे बन रहा मजाक

Ranchi: राज्य में 27 मई तक कड़े प्रतिबंधों के साथ लॉकडाउन जारी है. लोगों का अनावश्यक मूवमेंट कम से कम हो, इसके लिये उन्हें सरकार के स्तर से ई-पास लेना अनिवार्य कर दिया गया है. कुछ सीमित कार्यों को छोड़कर लोगों को ई-पास बनवाना अनिवार्य है.

16 मई से इसकी शुरुआत हो चुकी है. हर दिन इसके लिये लोगों को असहज स्थिति का भी सामना करना पड़ रहा. बगैर पास निकलने पर पुलिस धर पकड़ भी कर रही. जुर्माना भी भरना पड़ रहा. पर सरकारी पोर्टल की हालत कई लिहाज से ठीक नहीं दिखती. इसे लेकर सवाल उठने लगे हैं.

advt

इसे भी पढ़ें :चक्रवाती तूफान ‘ताउते’ पड़ा कमजोर, कई राज्यों में बारिश का अनुमान

बगैर फोन नंबर के भी पास संभव

ई-पास के लिये झारखंड सरकार ने वेबसाइट epassjharkhand.nic.in की सुविधा दे रखी है. पर इसमें कई ऐसी खामियां हैं जो दिलचस्प हैं. खूंटी विधायक और पूर्व मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा ने इसे लेकर सवाल भी उठाया है.

उनके मुताबिक राज्य में ई-पास बगैर फोन नंबर के भी बन जा रहा है. कारण कि इसमें OTP की व्यवस्था ही नहीं है. इसके नहीं होने के कारण कोई भी किसी का नंबर उपयोग कर सकता है. ऐसी खामियों के बावजूद ऐसे एप्लिकेशन को मान्यता कैसे मिल जा रही है. पोर्टल तो एक मजाक बनकर रह गया है.

‘यहां वहां जहां तहां’ से वहां देहरादून तक के लिये बनता पास

ई-पास बनाने के दौरान फोन नंबर के तौर पर कुछ भी लिख दे रहे. जैसे जग्गू नाम के व्यक्ति ने पास (परमिट का क्रमांक e-PASSJH/756714/2021) बनाने के दौरान मोबाइल नंबर की जगह पर लिखा-1234567899.

वाहन संख्या की जगह Aby27290 लिखा. स्थान की वैधता में लिखा है- कभी खुशी कभी गम, गिरिडीह झारखंड से बाबा का ढ़ाबा, नई दिल्ली. यात्रा का प्रयोजन में शादी और पहचान पत्र संख्या में **3784 दे दिया. इस पर भी पास तैयार हो गया.

इसी तरह पटेल बाबू (परमिट का क्रमांक e-PASSJH/740440/2021) ने वाहन संख्या AB01CD2345 डाली. मोबाइल नंबर की जगह 1234567890 दिया.

स्थान की वैधता वाले सेक्शन में लिखा- यहां वहां जहां तहां, रांची से वहां, देहरादुन लिख दिया. यानि ऐसी हरकतों पर भी ई-पास बन जा रहा. वहीं जब वाजिब कार्यों के लिये भी लोग वेबसाइट पर प्रयास करते हैं तो कभी लिंक नहीं खुलता या कभी कुछ और समस्या आती रहती है.

इसे भी पढ़ें :प्रवासियों के लिये गुजरात और मधुपूर के बीच चलेगी स्पेशल ट्रेन, 20 मई से होगा परिचालन

हो रहा विरोध

झामुमो के केंद्रीय प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य अपील कर चुके हैं कि लोग जारी लॉकडाउन को सफल बनायें. स्टेटस सिंबल के लिये या अनावश्यक पास ना बनायें. भाजपा विधायक भानू प्रताप शाही के मुताबिक ई-पास के नाम पर लोगों को पुलिस प्रताडित कर रही.

सरकार ने अव्यवहारिक नियम बनाये हैं. भाकपा के राज्य कार्यकारिणी सदस्य अजय सिंह के अनुसार ई-पास के झमेले के कारण हजारों मजदूर, फल सब्जी विक्रेताओं और गरीबों के सामने संकट गहरा गया है. सख्त नियमों में ढील दी जाये.

इसे भी पढ़ें :राजद नेता तेजस्वी यादव ने सरकारी आवास को कोरोना केयर सेंटर में बदला, मुफ्त में होगा इलाज

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: