न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मजदूरों की मांगों को अनसुना कर रहा है डीवीसी प्रबंधन : सदन सिंह

सात सूत्री मांगों को लेकर डीवीसी कर्मचारी संघ ने प्रदर्शन कर सभा की

93

Bermo :  डीवीसी पावर प्लांट मेन गेट के समक्ष शनिवार को कर्मचारी संघ के द्वारा कर्मचारियों की सात सूत्री मांगों को लेकर प्रदर्शन  किया. साथ ही डीवीसी प्रबंधन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गयी. प्रदर्शन के बाद नुक्कड़ सभा का भी आयोजन किया गया. सभा को संबोधित करते हुए संघ के सचिव सदन सिंह एवं अध्यक्ष टीएन सिंह ने कहा कि डीवीसी में काम करने वाले कामगारों की कई मांगें वर्षों से लंबित है, जिसे पूरा करने में मुख्यालय प्रबंधन के द्वारा उपेक्षा की जा रही है. मांगों को लेकर बराबर प्रदर्शन एवं सभा की गयी. बावजूद प्रबंधन का ध्यान इस ओर नहीं गया.

वक्ताओं ने कहा कि प्रबंधन संघ की मांगों को अनसुना करता रहा तो आने वाले दिनों में लगातार आंदोलन किये जायेंगे. सभा में सप्लाई मजदूरों के मसले पर बेरमो इंटक के अध्यक्ष प्रमोद सिंह एवं गणेश राम ने भी अपने विचार रखे.

क्या है सात सूत्री मांग

संघ की सात सूत्री मांगों में कामगारों की नयी पेंशन योजना को समाप्त कर पुरानी पेंशन को लागू किया जाय, क्षेत्र प्रतिपूरक भत्ता में सुधार कर उसे तत्काल लागू किया जाय, कामगारों को रात्रि भत्ता, हजार्ड भत्ता, छुट्टी, नकदीकरण समेत एलटीसी जैसे लाभों में सुधार, 1 जनवरी 2016 के बाद छुट्टी नकदीकरण के वेतन के अंतर का भुगतान करना, बचे हुए ग्रुप सी एवं डी के कामगारों का उन्नयन करना और चिकित्सा योगदान एवं बिजली की दर में सुधार करना शामिल है.

इनकी रही भागीदारी

कर्मचारी संघ के प्रदर्शन में अध्यक्ष एवं सचिव के अलावा मनोज कुमार सिंह, रामलाल पासवान, अनिल कुमार अमर, बिरेंद्र प्रसाद, अमल प्रताप, जितेंद्र कुमार रजक, राजीव रंजन, कंतराज प्रसाद, अबुल मियां, दिनेश सिंह, रामधार सिंह, मो शमीम, मुरली साव, बिजय शंकर झा, सुनील कुमार, बीएन प्रसाद, बसंत सिंह, केके सिंह आदि की सकारात्मक भूमिका रही. संचालन राजकुमार रजक ने किया.

सीई को सौंपा मांग पत्र

सभा की समाप्ति के बाद संघ के पदाधिकारियों ने स्थानीय मुख्य अभियंता निखिल कुमार चौधरी को सात सूत्री मांगों का स्मार पत्र सौंपा और कहा कि वे मांग पत्र को उचित माध्यम से डीवीसी कोलकाता भेज दें.

इसे भी पढ़ें : विश्व स्तर पर हिंदी की जड़ें गहरी और विस्तृत हैं : कमलेश कुमार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: