BokaroJharkhand

#DVC अध्यक्ष का निर्देश- 500 MW के पावर प्लांट को 9 अक्टूबर तक हर हाल में करना होगा लाइटअप

Bermo : बेरमो अनुमंडल के बोकारो थर्मल स्थित डीवीसी के 500 मेगावाट के ए पावर प्लांट को हर हाल में 9 अक्टूवर तक चालू करना होगा.

डीवीसी के प्रभारी अध्यक्ष गुरदीप सिंह ने 4 अक्टूबर को कोलकाता में डीवीसी मुख्यालय के अधिकारियों के साथ बैठक में उक्त निर्देश दिये.

प्रभारी अध्यक्ष ने अधिकारियों से कहा कि 500 मेगावाट के पावर प्लांट से बिजली का उत्पादन बाधित रहने से एक ओर जहां डीवीसी को आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ रहा है, वहीं दूसरी ओर बिजली संकट का भी सामना करना पड़ रहा है.

प्रभारी अध्यक्ष के निर्देश के बाद बोकारो थर्मल में पौंड की मरम्मत को लेकर स्थानीय पावर प्लांट के इंजीनियर एवं अधिकारी काफी दवाब में हैं.

टूटे हुए एक नंबर पौड सहित दोनों स्टेलिंग पौंड के मरम्मत का काम युद्ध स्तर पर किया जा रहा है. दुर्गापूजा की छुट्टी में भी इंजीनियर व अधिकारी रात्रि 11 बजे तक काम पूरा करने में लगे हुए हैं.

इसे भी पढ़ें : #JanAashirwadYatra : नक्सल हिंसा में मारे गये शख्स के बेटे ने नौकरी मांगी, CM बोले- फोटो खिंचवाने के लिए कर रहा प्रदर्शन

मीजिया एवं डीएसटीपीएस का उत्पादन प्रभावित होने से बढ़ा दबाव

डीवीसी के मीजिया एवं डीएसटीपीएस पावर प्लांटों से बिजली का उत्पादन प्रभावित होने से बोकारो थर्मल के 500 मेगावाट के पावर प्लांट को चालू करने को लेकर दवाब बढ़ गया है.

डीवीसी के उक्त दोनों ही पावर प्लांटों को कोयला की कमी का सामना करना पड़ रहा है जिसके कारण बिजली का उत्पादन प्रभावित हो रहा है.

जबकि बोकारो थर्मल पावर प्लांट के पास लाख टन से भी ज्यादा कोयले का स्टॉक मौजूद है.

जांच कमेटी कर रही है जांच

बोकारो थर्मल में 12 सितंबर को एक नंबर ऐश पौंड के टूटने वाले मामले की जांच डीवीसी मुख्यालय कोलकाता के द्वारा गठित कमेटी के द्वारा की जा रही है जो कि अब तक पूरी नहीं हो पायी है.

जांच कमेटी में डीवीसी मैथन के चीफ इंजीनियर सिविल सत्यव्रत बनर्जी, कोलकाता के मुख्य अभियंता मो यासीन सहित छह इंजीनियरों की टीम शामिल है.

जांच कमेटी का चेयरमैन कोलकाता के मुख्य अभियंता मो यासीन को बनाया गया है.

इसे भी पढ़ें : #BJP डराती है, कांग्रेस और जेएमएम ईसाइयों को ठगती है : बिशप अमृत

जांच कमेटी के अध्यक्ष खुद रहे हैं जांच के घेरे में

ऐश पौंड टूटने के मामले में बनायी गयी जांच कमेटी के चेयरमैन मो यासीन खुद ही सवालों के घेरे में हैं.

विगत वर्ष डीवीसी के रघुनाथपुर में बतौर प्रोजेक्ट रहते हुए मो यासीन पर कोयला शॉर्टेज के मामले को लेकर विजिलेंस की छापामारी के बाद जांच रिपोर्ट के आधार पर 7 जून को प्रोजेक्ट हेड सहित डिप्टी चीफ एसएन प्रसाद को तत्कालीन डीवीसी अध्यक्ष सह सदस्य सचिव पीके मुखोपाध्याय ने निलंबित कर रघुनाथपुर से तबादला कर दिया था.

आइएसएफ के राष्ट्रीय अध्यक्ष आफताब आलम ने पौंड टूटने के मामले को लेकर कोलकाता के द्वारा गठित जांच कमेटी का चेयरमैन मो यासीन को बनाये जाने पर सवाल उठाते हुए डीवीसी के वर्तमान अध्यक्ष एवं केंद्रीय उर्जा मंत्री से कहा है कि जो इंजीनियर खुद ही जांच के घेरे में हो उससे निष्पक्ष जांच की उम्मीद कैसे की जा सकती है.

उन्होंने कमेटी का अध्यक्ष को बदलने की मांग की है.

हाइवा चालकों ने नहीं आरंभ किया छाई उठाव का काम

डीवीसी के स्थानीय पौंड से छाई उठाव का काम में लगे हाइवा के चालकों एवं मालिकों ने वाहनों की सुरक्षा की मांग को लेकर छाई उठाव का काम शनिवार को भी बंद कर रखा.

वाहन मालिकों तथा चालकों का कहना है कि बिना सुरक्षा के छाई लदे वाहनों को कोनार डैम तक के जंगली रास्तों में ले जाना संभव नहीं है.

शनिवार को पौंड मरम्मत का काम में मिट्टी की ढुलाई में लगे हाइवा को भी पिलपिलो के ग्रामीणों ने आपसी विवाद के कारण बंद कर दिया.

ग्रामीणों का कहना था कि पिलपिलो की मिट्टी का उपयोग पौंड मरम्मत में किया जा रहा है तो उन्हें भी पौंड में काम मिलना चाहिए. बाद में मामला सलटने पर मिट्टी ढुलाई का काम आरंभ किया जा सका.

इसे भी पढ़ें : फोटो फीचरः बोकारो जेनरल अस्पताल- बाहर से टिप-टॉप, अंदर से मोकामा घाट

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close