West Bengal

दुर्गापुर : बाल शिक्षा केंद्र की हालत जर्जर, बंगलाभाषी बच्चे स्थानांतरित, हिन्दीभाषी यहीं पढ़ने को मजबूर

Durgapur : प्रशासनिक उदासीनता के कारण शहर के पुराना कोर्ट मोड़ इलाके में स्थित बाल शिक्षा केंद्र एक टूटे हुए भवन मे चल रहा है जहां हिन्दी भाषा भाषी 62 बच्चे पढ़ते हैं.

बताया जाता है कि 2001 में इस शिक्षा केंद्र को शुरू किया गया था. स्कूल दुर्गापुर इस्पात कारखाने में एक परित्यक्त स्वास्थ्य केंद्र में चल रहा है. इस पुराने स्वास्थ्य केंद्र में एस्बेस्टस टूट गया है. पानी या पंखे की कोई समुचित व्यवस्था नहीं है. इसे बच्चों के साथ-साथ शिक्षण कर्मचारियो को भी असुबिधा का सामना करना पड़ता है.

इसे भी पढ़ें : #NewTrafficRule पर खुल कर बोल रहे हैं- पढ़ें लोग क्या कह रहे हैं (हर घंटे जानें नये लोगों के विचार)

ram janam hospital
Catalyst IAS

बांग्लाभाषियों को एक साल पहले शिफ्ट कर दिया गया

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

बताया जाता है कि इस शिक्षण केंद्र मे 45 बांग्लाभाषी बच्चे भी पढ़ते थे जिन्हें एक साल पहले स्थानीय एक तृणमूल कार्यालय मे पढ़ाया जा रहा है. लेकिन जगह की कमी के कारण हिन्दीभाषी इसी पुराने भवन मे पढ़ने को मजबूर होना पढ़ रहा है.

इसे भी पढ़ें : #NewTrafficRule :  ड्राइविंग लाइसेंस के डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन व स्क्रूटनी के लिए घंटों लाइन में लगना पड़ रहा है

नवीनीकरण के लिए धन मांगा गया है

महकमा शासक अनिर्वान कोले ने कहा की उन्हें इसकी जानकारी नहीं है. शिक्षा केंद्र के बारे मे जानकारी प्राप्त कर उचित व्यवस्था की जायेगी. उन्होंने कहा कि जिला शासक से बच्चों के शिक्षा केंद्र के नवीनीकरण के लिए धन की मांग की है और एक बार यह प्राप्त हो जाने के बाद सुधारों पर काम शुरू हो जायेगा.

इलाके के पार्षद राखी तिवारी का कहना है कि भवन की मरम्मत के लिए डीएसपी से बात चल रही है. जल्द ही भवन का मरम्मत कर लिया जायेगा. वहीं मरम्मत नहीं होने तक बचे हुए बच्चों के लिए उपयुक्त जगह की तलाश की जा रही है.

इसे भी पढ़ें : पलामू : घरेलू विवाद में पति ने की पत्नी की गला रेतकर हत्या, गिरफ्तार

Related Articles

Back to top button