न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमका : आदिवासी दिवस पर संगठनों ने 1932 खतियान आधारित स्थानीय नीति लागू करने की मांग की

विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर विभिन्न संगठनों ने निकाली रैली, उपायुक्त को सौंपा ज्ञापन.

832

Dumka : विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर शुक्रवार को सारजोम बेड़ा क्लब, आदिवासी युवा सेवा मंच, चांद-भैरो जीवन अखड़ा, जयस आदिवासी युवा शक्ति, दिसोम मारंग बुरु संताली अरिचाली आर लेगचार अखड़ा दुमका के संयुक्त तत्वधान में एक विराट पैदल सह मोटर सायकिल रैली निकाली गयी.

रैली सारजोम बेडा क्लब से शुरू हुई. बिरसा मुंडा, आम्बेडकर, तिलका मांझी, वीर कुंवर सिंह, सिदो-कान्हू मुर्मू, विवेकानंद महापुरुषों की प्रतिमाओं पर माल्यार्पण करने के बाद समाहरणालय में उपायुक्त के माध्यम से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल, मुख्यमंत्री और उपायुक्त को मांग पत्र व ज्ञापन दिया गया.

इस अवसर पर कारगिल शहीद राम मुर्मू की पत्नी सीतह बास्की, मंजुलता सोरेन, ब्रह्मदेव सोरेन, राजेश सोरेन, निक्सन सोरेन, राहुल मुंशी टुडू, राजेशटिन मुर्मू, पीटर टुडू, राजू मुर्मू, निखिल मुर्मू, बिनिलाल टुडू, सीताराम सोरेन, अनिल सोरेन, नन्दलाल सोरेन के साथ काफी संख्या में युवा उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : सुखदेव भगत हो सकते हैं प्रदेश कांग्रेस के नये अध्यक्ष, तीन कार्यकारी अध्यक्ष भी संभव

hotlips top

ज्ञापन में ये मांगें की गयीं 

  1. विश्व आदिवासी दिवस 9 अगस्त को झारखंड के साथ पूरे देश में राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाय.
  2. स्वतंत्रता संग्राम संताल हुल के प्रतिफल बना संताल परगना का स्थापना दिवस 22 दिसम्बर को झारखंड में राजकीय अवकाश घोषित किया जाय.
  3. विजयपुर चौक, दुमका में करगिल शहीद राम मुर्मू की प्रतिमा लगायी जाये.
  4. आदिवासी पर्व-त्यौहार में राजकीय अवकाश दिया जाय.
  5. मुख्यमंत्री जन संवाद केंद्र 181 संताली, मुंडारी, हो आदि जनजातीय भाषा में भी शुरू किया जाय ताकि अधिक से अधिक आदिवासी इसका लाभ ले सकें.
  6. संताल परगना में स्वतंत्रता संग्राम संताल हुल के नायक सिदो मुर्मू, कान्हू मुर्मू, चांद मुर्मू, भैरो मुर्मू, फूलो मुर्मू, झानो मुर्मू के साथ-साथ स्थानीय स्वतंत्रता सेनानी व देश के लिए शहीद जवानों के नाम स्कूल, कॉलेज, सड़क, भवन, योजना आदि का नामकरण किया जाय.
  7. दुमका बस पड़ाव जो पूरे संताल परगना के आवागमन की ह्रदय स्थली है, का नाम संताल हूल के महानायक चांद-भैरो मुर्मू के नाम समर्पित किया जाय.
  8. झारखंड में वर्तमान स्थानीय नीति रद्द कर 1932 खतियान आधारित स्थानीय नीति लागू किया जाय.
  9. दुमका शहर के आसपास 42 गांवों को दुमका नगरपालिका क्षेत्र में नही जोड़ा जाय. उन्हें ग्राम पंचायत में रखकर ही उसका विकास सुनिश्चित किया जाय.
  10. अखबार आदि में संताल परगना के जगह संताल शब्द का प्रयोग बंद किया जाय, क्योकि संताल जाति सूचक शब्द है और संताल परगना स्वतंत्रता संग्राम संताल हूल का प्रतिफल मिला भू भाग का नाम है. जो संताल परगना प्रमंडल कहलाता है.
  11. संताल परगना प्रमंडल के सभी सरकारी कार्यालय भवनों में संताल परगना या स.प. शब्द का प्रयोग किया जाय. जैसे उपायुक्त कार्यालय, दुमका (स.प.), सदर अस्पताल, दुमका (स.प.) आदि. ताकि संताल परगना के गौरवपूर्ण इतिहास को बचाये रखा जा सके.
  12. पेसा, SPT, CNT एक्ट को झारखंड में सख्ती से लागू किया जाय.
  13. सरकार द्वारा खनन, फैक्ट्री आदि के लिय भूमि अधिग्रहण करने पर भूमि देने वाले ग्रामीणों को खनन, फैक्ट्री आदि का शेयर होल्डर भी बनाया जाय.
  14. दुमका मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल का नाम स्वतंत्रता सेनानी सिदो-कान्हू मुर्मू के नाम समर्पित किया जाय.
  15. राजकीय जनजातीय हिजला मेला, दुमका (स.प.) को राष्ट्रीय मेला घोषित किया जाय.
  16. विजयपुर गांव में नवनिर्मित तीरंदाजी स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का नाम स्वतंत्रता सेनानी फूलो-झानो मुर्मू के नाम समर्पित किया जाय.

इसे भी पढ़ें : झारखंड में बननेवाली फिल्म मदरसा का मुहूर्त, कांके के दो गांवों में की गयी शूटिंग  

30 may to 1 june

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like