न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमका : नमोडीह के ग्रामीणों ने कहा- सड़क, पानी, बिजली की समस्या का समाधान नहीं, तो वोट भी नहीं

127

Dumka : सड़क, पानी, बिजली,  पीएम आवास योजना आदि जन समस्याओं को लेकर गोपीकांदर प्रखंड स्थित खरोनीबाजार पंचायत के नमोडीह गांव के चेडे डुगरी मैदान में कई गावों के ग्रामीणों ने रविवार को बैठक की. मांझी बाबाओं की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में नमोडीह, दुंदवा, लकड़ा, खरनी, अरीचुआ, झिकरह, कैरासोल, खलड़ी आदि गांवों के ग्रामीण शामिल थे. ग्रामीणों ने कहा कि इस क्षेत्रों में विकास का काम बहुत ही धीमा है. राजनीतिक पार्टियां विकास के नाम पर वोट तो मांगती हैं, लेकिन चुनाव होने के बाद किसी भी नेता का इन क्षेत्रों के विकास पर कोई ध्यान नहीं रहता है. ऐसे में सभी ग्रामीणों ने एकमत होकर निर्णय लिया है कि इन गांवों की जनसमस्याओं का समाधान जल्द नहीं होता है, तो सभी गांव के ग्रामीण वोट का बहिष्कार करेंगे. अपनी मांगों के साथ ग्रामीणों ने सर्वसम्मति से एक सामाजिक संगठन बनाने का निर्णय लिया है.

बैठक में गिनायीं ये समस्याएं

जनसमस्या को लेकर आयोजित इस बैठक में ग्रामीणों ने निम्न समस्याएं गिनायीं-

सड़क

  • झिकरा हाट से खरोनी बाजार तक (लगभग आठ किलोमीटर) जर्जर सड़क की मरम्मत की जाये. यह सड़क 1990 में बनी थी, जो अब जर्जर हो चुकी है.
  • नमोडीह कमार टोला से अमलादेहि मोड़ तक (लगभग पांच किमी) जर्जर सड़क की मरम्मत की जाये.
  • दुंदवा स्कूल से जोजोगाडा तक (लगभग चार किमी) नयी सड़क की मांग.
  • अरीचुआ आरईओ सड़क से बाड़ी टोला कुल्ही होते हुए कल्याणपुर पीडब्ल्यूडी सड़क तक लगभग तीन किमी तक नयी सड़क बनायी जाये.

पानी

Related Posts

दुमका : आदिवासी दिवस पर संगठनों ने 1932 खतियान आधारित स्थानीय नीति लागू करने की मांग की

विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर विभिन्न संगठनों ने निकाली रैली, उपायुक्त को सौंपा ज्ञापन.

SMILE
  • नमोडीह में डीप बोरिंग कर जल मीनार बनायी जाये.
  • सभी गांवों में तीन-तीन कर नये चापाकल लगाये जायें.

इसके अलावा ग्रामीणों ने इन सभी गांवों में पीएम आवास योजना लागू करने, इन गांवों में मांझीथान और जाहेरथान पक्कीकरण करने, दुंदवा, अरीचुआ गांव में बिजली की मांग की है. इसके साथ ही ग्रामीणों ने गांव के ही बिजली मिस्त्री प्रदीप दास (बेंघा) (पंचायत सरकारी अनुबंध कर्मी) के कार्यों पर सवाल खड़ा किया है. ग्रामीणों का कहना है कि जब भी इनसे बिजली समस्या की बात की जाती है, तो वह इसके लिए पैसा की बात करते हैं. जबकि हकीकत यह है कि कई इलाकों में बिजली की समस्या बनी रहती है.

बैठक में ये रहे मौजूद

इस बैठक में अकलू रॉय,  बोनेश्वर मुर्मू, दुर्गा देहरी (मुखिया), गोविंद किस्कू, जोसेफ मुर्मू, सुजीत पररिया, बेंजामिन हेम्ब्रोम, जोगेश किस्कू, सुधीर कुमार देहरी, सीता राम किस्कू, एमेली मरांडी, जेम्सवाट मरांडी, अर्नेस्ट हांसदा, मनोज दास, मितना रॉय, भगवान मुर्मू, अर्नेस्ट मुर्मू, रविलाल मुर्मू, सोपोल हेम्ब्रोम, नाथानियल किस्कू, सवित्री मरियन, रमेश किस्कू, जर्मन मुर्मू सहित काफी संख्या में पुरुष व महिला उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- “कांग्रेस लाओ देश बचाओ महारैली और हल्लाबोल पोलखोल” का आयोजन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: