न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमका विशेष न्यायालय ने दुष्कर्म के दोषी को सुनाई मौत की सजा

154

Dumka : विशेष न्यायालय सह अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कमल नयन पांडेय के न्यायालय द्वारा एक अभियुक्त को मौत की सजा सुनायी गई. अभियुक्त सरैयाहाट थाना क्षेत्र के जियाजोर गांव के रोहित राय है. जिसे भादवि की धारा 364, 376 एवं 4 पोक्सो एक्ट के तहत आजीवन कारावास एवं 5 हजार रुपये करके अलग-अलग धाराओं में जुर्माना किया गया.

इसे भी पढ़ें : टाइम्स स्कवायर का पहला ही चरण लटका, सीएम के मौखिक आदेश के बाद ज्यूडको कर रहा लिखित आर्डर का इंतजार

जुर्माना नहीं देने पर अतिरिक्त कारावास

बता दें कि जुर्माना की रकम अदा नहीं करने के स्थिति में तीन साल सश्रम कारावास की सजा अतिरिक्त भुगतनी होगी. वहीं भादवी की धारा 302 में मृत्युदंड एवं 5 हजार रुपये जुर्माना किया गया. जुर्माना की रकम नहीं देने पर अतिरिक्त तीन साल सश्रम कारावास की सजा भुगतनी होगी. वहीं भादवी की धारा 201 के तहत सात साल की सजा एवं 5 हजार रुपये जुर्माना किया गया. जुर्माना नहीं देने पर अतिरिक्त एक साल का सश्रम कारावास भुगतना पड़ेगा.

इसे भी पढ़ें : मानव तस्करी की शिकार पहाड़िया बच्ची की मौत की हो उच्चस्तरीय जांच: झाविमो

क्या है मामला

वादिनी मृतका की मां यशोदा देवी अपने मायके तीन वर्षीय अबोध बच्ची के साथ रहती थी. जिसका अपने ननिहाल में ही 31 दिसंबर को करीब शाम पांच बजे जब वह बाहर खेल रही थी. उसी समय अभियुक्त द्वारा अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म किया. दुष्कर्म के बाद बच्ची के गला दबाकर हत्या कर दिया था. उक्त घटना सरैयाहाट थाना क्षेत्र के जियाजोर गांव की है. अबोध बच्ची के परिजन बांका जिले के बाराहाट थाना क्षेत्र के रतनपुर गांव निवासी है.

इसे भी पढ़ें : शिकारीपाड़ा थाना के एएसआई समेत पांच पुलिसकर्मी निलंबित

बच्ची मां-पिताजी के साथ अपने ननिहाल जियाजोर आयी थी. 31 दिसम्बर 2016 को बच्ची को उसी गांव के रोहित राय ने बहला-फुसलाकर उसका अपहरण कर लिया. इस दौरान घर के लोगों द्वारा काफी खोजबीन किया गया. अंत में थक हारकर परिजन द्वारा सरैयाहाट थाना में प्राथमिकी दर्ज कराया गया. पुलिस ने 2 जनवरी 2017 को रोहित राय को हंसडीहा चौक के समीप बैंक ऑफ इंडिया के सामने से आरोपी को गिरफ्तार किया. उक्त बच्ची का शव गांव से एक किलोमीटर दूर दंतुआवरन डंगाल के पास अरहर के खेत में मिला था. अभियोजन पक्ष ने कुल 11 गवाहों को न्यायालय में प्रस्तुत किया गया था. अभियोजन पक्ष की ओर से सहायक, एपीपी दिनेश कुमार ओझा एवं बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता शिकंदर मंडल ने केस की पैरवी की।

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: