न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमकाः करमांटाड़ गांव के लोग आज भी ढिबरी युग में जीने को विवश

1,037

Dumka: एक ओर रघुवर सरकार ने 2018 तक झारखंड के हर गांव और हर घर को बिजली पहुंचाने का वादा किया था. वही राज्य की उपराजधानी दुमका का करमांटाड़ गांव इन दावों की पोल खुलता है. यहां के लोग आज भी ढिबरी युग में जीने को विवश हैं. इस गांव में करीब 75 घर हैं. ग्रामीणों का कहना है कि करीब सात साल पहले पोल, तार और छोटे ट्रांसफॉर्मर तो लगाये गए थे, लेकिन बिजली कभी नहीं आयी.

बिजली के इंतजार में टूटने लगे तार

Trade Friends

इतने सालों से बिजली का इंतजार कर रहे बिजली के तार और पोल भी अब तो कई जगहों से टूटने लगे हैं, या गिर गए हैं. बिजली नहीं होने से ग्रामीणों को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. हालात ये हैं कि ग्रामीणों को पैसा देकर बैटरी से मोबाइल फोन की बैटरी चार्ज करनी पड़ती है. जनप्रतिनिधियों से कई बार गुहार लगाकर हार चुके ग्रामीणों ने अब इसकी शिकायत सीएम जनसंवाद केंद्र में की है. नाराज ग्रामीणों को कहना है कि गांव में बिजली नहीं आयी तो आनेवाले चुनाव में वो वोट नहीं डालेंगे.

Related Posts
WH MART 1

बिजली के साथ-साथ नेटवर्क की भी यहां काफी समस्या है. यहां मोबाइल टावर का सिग्नल भी ना के बराबर आता है. ऐसे में ग्रामीणों को परिजनों से बात करने में भी समस्या होती है. ग्रामीणों ने एकबार फिर बिजली की मांग को लेकर प्रदर्शन किया. इस मौके में सुभाष टुडू, लखीराम हांसदा, चारलेस मुर्मू, होपा हांसदा, कोर्नेलुस मुर्मू, मानवेल हांसदा,निकोलस हांसदा, संजय हांसदा, शिवधन हांसदा, रोशन मरांडी, फिलिप हांसदा, अन्दिरियास हांसदा के साथ काफी संख्या में लोग शामिल थे.

इसे भी पढ़ेंः32 की बजाए 27 हो सिविल सर्विसेज में जनरल के लिए अधिकतम उम्र सीमा: नीति आयोग

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like