न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमका : स्वच्छता के महत्व को समझाने की जरूरत नहीं : डीडीसी

230

Dumka : इंडोर स्टेडियम दुमका में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत ‘स्वच्छता ही सेवा‘ अभियान की शुरूआत की गयी. अभियान 15 सितंबर से दो अक्टूबर तक चलाया जाना है. स्वच्छता अभियान का शुभारंभ डीडीसी वरुण रंजन ने दीप प्रज्जवलित कर किया. मौके पर डीडीसी वरूण रंजन ने कहा कि ‘स्वच्छ्ता ही सेवा‘ कार्यक्रम चलाया जा रहा है. स्वच्छता के महत्व को समझाने की जरूरत नहीं है. पिछले 3 से 4 वर्षों में देश स्वच्छ्ता के मानकों पर कहीं ऊपर है. हम सभी को स्वच्छता अपनाने की आवश्यकता है. आंगनबाड़ी सेविका सहायिका, सहिया, स्वच्छ्ता ग्रही संदेश वाहक बनकर घर-घर जायें और लोगों को स्वच्छता के बारे में जागरुक करने का अपील की.

mi banner add

इसे भी पढ़ें : पत्रकार से जाति विशेष बातचीत के दौरान IPS  इंद्रजीत महथा ने अपने जूनियर-सीनियर अफसरों को भला-बुरा कहा

श्रमदान कर एक बेहतर संदेश समाज तक पहुंचाये

अभियान के दौरान गांव, पंचायत, प्रखंड, ब्लॉक, स्कूल में अनकों कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है. आंगनबाड़ी केंद्रों में भी इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा. समाज के प्रबद्ध वर्ग के लोगों को इसमें जोड़ने का कार्य करने को प्रेरित किया. जब तक प्रत्येक व्यक्ति अपनी आदत को नहीं बदलेंगे तबतक स्वच्छता का माहौल नहीं बनेगा. सभी लोग श्रम दान कर एक बेहतर संदेश समाज, राज्य, देश तक पहुंचाये. मुखिया अपने पंचायत के एक गांव को गोद लें और इसस अभियान के भागीदार बनें. जिससे यह कार्य एक अभियान का रूप लेने और सभी 206 पंचायत मॉडल के रूप में उभर कर सामने आने की बात कही. ‘स्वच्छता ही सेवा‘  में अपने गांव, स्कूल, आंगनबाड़ी को मॉडल बनाने का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि दो अक्टूबर को झारखंड को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया जाना है.

इसे भी पढ़ें : फेस्टिव सीजन शुरू होने से पहले प्रशासन अलर्ट, सभी थानों को किया गया सतर्क

पेंट योर टॉयलेट प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा

योग्य लाभुक अभी भी शौचालय से वंचित है. जिला प्रशासन ने उन्हें चिन्हित कर शौचालय उपलब्ध कराने का कार्य कर रही है. प्राथमिक रूप से आप सभी शौचालय का निर्माण करने और खुले में शौच से मुक्त झारखण्ड बनाने में सहयोग का अपील की. स्वच्छ भारत अभियान एक लड़ाई है गंदगी के खिलाफ  और यह लड़ाई तभी हम जीतेंगे जब सभी लोगों मिलकर इस लड़ाई को एक साथ लड़ेंगे. इस अभियान के दौरान पेंट योर टॉयलेट प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा. सबसे बेहतरीन पेंटिंग करने वाले प्रतिभागी दो अक्टूबर को सम्मानित किया जायेगा. उन्होंने सभी से बढ़-चढ़ कर भाग लेने का अपील किया.

Related Posts

शिक्षा विभाग के दलालों पर महीने भर में कार्रवाई नहीं हुई तो आमरण अनशन करूंगा : परमार

सैकड़ो अभिभावक पांच सूत्री मांगों को लेकर शनिवार को रणधीर बर्मा चौक पर एक दिवसीय भूख हड़ताल पर बैठे

इसे भी पढ़ें : आरयू के टीआरएल विभाग में स्‍थायी शिक्षकों की कमी, फिर भी थोक के भाव बंट रही पीएचडी की…

सोंच नहीं बदलेगा तब तक कोई भी अभियान सफल नहीं

अपर समाहर्ता इंदु गुप्ता ने कहा कि इस अभियान के दौरान स्कूलों के बच्चों को विशेष रूप से स्वच्छता के बारे में जानकारी दी जाये. मुखिया, जलसहिया अपने कर्तव्य का निर्वहण पूरी तत्परता से करने का अपील की. जब तक लोगों की सोंच नहीं बदलेगा तबतक कोई भी अभियान सफल नहीं हो सकेगा. दुमका स्वच्छता के मानकों में सबसे ऊपर रहे यही इस कार्यक्रम का उद्देश्य है. स्वच्छता के प्रति जबतक लोग जागरूक नहीं होंगे तब प्रधानमंत्री का सपना पूरा नहीं होने की बात कही. इस अवसर पर निदेशक एनइपी विनय कुमार सिंकु ने कहा कि सरकार के द्वारा ‘‘स्वच्छता ही सेवा‘‘ अभियान चलाया जा रहा है. ये एक आदमी से संभव नहीं है, इसमें सभी का सहयोग आवश्यक है.

इसे भी पढ़ें : अनशन स्थल पर एनएसयूआइ कार्यकर्ताओं ने मचाया बवाल, प्रोवीसी के वाहन में की तोड़फोड़

स्वच्छता आपके व्यक्तित्व पर दिखना भी चाहिए

इस अभियान को गांव स्तर पर बहुत ही व्यापक रुप से चलाया जायेगा. उन्होंने कहा कि सिर्फ शौचालय निर्माण कराने से ओडिएफ घोषित नहीं हो सकता, शौचालय का उपयोग को भी जानना जरुरी है. निदेशक डीआरडीए दिलेश्वर महतो ने कहा कि स्वच्छता अभियान के तहत सभी गांव को ओडिएफ घोषित करने का लक्ष्य है. इस स्वच्छता अभियान से आप बड़ी संख्या में जुड़कर जिला को निर्धारित समय में ओडिएफ बनाने में सफल बनायें. मौके पर एसडीओ राकेश कुमार ने कहा कि स्वच्छता जीवन के लिए महत्वपूर्ण है. ओडीएफ तभी माना जाता है, जब शौचालय का उपयोग किया जाता है. स्वच्छ्ता का मतलब सिर्फ शौचालय का उपयोग करना नहीं होता बल्कि स्वच्छता आपके व्यक्तित्व पर दिखना भी चाहिए. कई बार लोग शौचालय निर्माण तो करते हैं, लेकिन टंकी का निर्माण नहीं करते हैं। जागरूक बनें, शौचालय आपके लिए है. इस अवसर पर कार्यपालक अभियंता पीएचईडी एवं बड़ी संख्या में मुखिया, सहिया, जल सहिया तथा सेविका आदि भी उपस्थित थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: