न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमका : विकास योजना की बाट जोह रहा है रानेश्वर का करीकादर गांव, पेयजल संकट से जूझ रहे आदिवासी

23

Dumka : दुमका जिला के रानेश्वर प्रखंड स्थित करीकादर गांव के डाहार टोला के ग्रामीण पेयजल संकट से जूझ रहे हैं. यह टोला मूलभूत सुविधाओं से तो महरूम रहा ही है, पेयजल संकट ने भी ग्रामीणों का गांव में रहना मुश्किल कर दिया है. डाहार टोला में करीब 40 संताल परिवारों का घर है. टोला में दो चापाकल थे, जिनमें से एक चापाकल, जो संतोष मुर्मू के घर के सामने है, वह तीन वर्ष से खराब पड़ा है. दूसरा सुनीराम हांसदा के घर के सामने का चापाकल रुक-रुक कर अपर्याप्त पानी दे रहा है. इस कारण ग्रामीणों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. जिला प्रशासन और जनप्रतिनिधियों द्वारा गांव के विकास में ध्यान नहीं देने पर ग्रामीणों ने रोष प्रकट किया है.

महिलाओं को होती है परेशानी

ग्रामीण सोनाली सोरेन कहते हैं कि पानी की समस्या के कारण गांव की महिलाओं को काफी परेशानी होती है. इस टोला में बहुत कम ग्रामीणों को लाल कार्ड/राशन कार्ड मिला है, जिस कारण बच्चों को स्कूल आदि में भर्ती करने और विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ लेने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. ग्रामीणों का यह भी कहना है कि पूरे गांव में बिजली नहीं है, जिस कारण ग्रामीणों को आधुनिक और डिजिटल युग होते हुए भी डिबिया युग में जीना पड़ रहा है.

जनप्रतिनिधियों से दुःखी हैं ग्रामीण

ग्रामीण जनप्रतिनिधियों के समक्ष कई बार गांव की बदहाली की बात रख चुके हैं. साथ ही, गांव के दोनों चापाकल की मरम्मत करवाने और दो नये चापाकल लगवाने की बात पंचायत से लेकर विधायक प्रतिनिधियों से कर चुके हैं. लेकिन, जनप्रतिनिधियों की उदासीनता के कारण पेयजल संकट का हल नहीं होने से ग्रामीण दुःखी और आक्रोशित हैं. ग्रामीणों की मांग है कि जल्द से जल्द पेयजल समस्या का समाधान किया जाये, साथ ही गांव के गरीब परिवारों को खाद्य सुरक्षा से जोड़ने के लिए राशन कार्ड दिया जाये एवं जल्द गांव में बिजली बहाल की जाये. ग्रामीणों की बैठक में रॉबिन मिर्धा, बिमला देवी, सरिता मरांडी, सोनाली सोरेन, बाजुन सोरेन, दारोगा हांसदा, सुनीराम हांसदा, लुखीमुनि किस्कू, फुलेश्वरी देवी, चांदमुनी हांसदा, एलियस मुर्मू, चुड़की सोरेन, सुरोबली बेसरा, गोबिंद हांसदा आदि उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- बिजली व्यवस्था चरमरायी, राजधानी सहित सभी जिलों में दो-तीन घंटे पावर कट

इसे भी पढ़ें- मेडिकल प्रोटेक्शन के नाम पर डॉक्टरों को मर्डर करने का लाइसेंस देगी सरकारः मोर्चा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: