न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमका : विकास योजना में अनियमितता का आरोप लगा सीपीआई माले ने दिया धरना

44

Dumka : जिला में विकास योजना में हो रही अनियमितता के खिलाफ दुमका प्रखंड कार्यालय के समक्ष सीपीआई माले ने शनिवार को धरना दिया. धरना को संबोधित करते हुए जिला सचिव बाबूलाल राय ने कहा कि राज्य में गरीबों से जुड़ी योजनाओं में भ्रष्टाचार चरम पर है, जिसकी सरकार अनदेखी कर रही है. सरकार वादे और घोषणाओं में व्यस्त है. यहां गरीबों का विकास नहीं हो रहा है. मनरेगा, राशन कार्ड, डीलरों द्वारा गरीबों का राशन का गबन कर जाना आम बात हो गयी है. दुमका जिला में स्वच्छ भारत अभियान के तहत कराये गये शौचालय निर्माण की गुणवत्ता में अनियमितता बरती गयी है, जिसकी जिला प्रशासन जांच कराये.

इसे भी पढ़ें- महिला की जलकर मौत, परिजनों ने कहा- कार मांग रहे थे ससुरालवाले, नहीं दे सके, तो जलाकर मार डाला

सरकार से की ये मांगें

धरना के उपरांत प्रखंड विकास पदाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को 10 सूत्री मांगपत्र सौंपा गया. मांगपत्र में 60 साल से ऊपर सभी वृद्धों को वृद्धा अवस्था पेंशन सुनिश्चित करने, लाल कार्ड एवं अंत्योदय राशन कार्ड से वंचित सभी गरीब परिवारों को कार्ड मुहैया कराने, जॉब कार्डधारियों को 200 दिनों तक काम सुनिश्चित करते हुए 600 रुपये मजदूरी देने, तमिलनाडु की तर्ज पर झारखंड के सभी विद्यालयों में कार्यरत रसोइयों-संयोजीकाओं को चतुर्थवर्गीय पद पर बहाल करते हुए सरकारी कर्मचारी घोषित करने, दुमका जिला अंतर्गत विलय किये गये विद्यालयों को पुनः चालू करने, बाल विकास परियोजना पदाधिकारी दुमका द्वारा आंगनबाड़ी केंद्र चोराकाटा, नीचे टोला गांदो, बेदिया, सागरभंगा, केवटपाड़ा दुमका में कोलकाता के फर्जी संस्थान द्वारा निर्गत एएनएम सर्टिफिकेट के आधार पर पोषण सखी की बहाली की गयी, जिसकी जांच करने और दोषियों पर कार्रवाई की करने, दुमका प्रखंड की पंचायत दरबारपुर के ग्राम कुलडीहा के जन वितरण प्रणाली दुकानदार परमे सोरेन द्वारा कुलडीहा, मुर्गीथली के लाल एवं अंत्योदय कार्डधारियों का जुलाई से अक्टूबर 2018 तक का राशन गबन कर लिया गया है, इसकी जांच की करने और दोषियों पर कार्रवाई करने, स्वच्छ भारत अभियान के तहत प्रखंड में बने शौचालय निर्माण में की गयी गड़बड़ी के दोषियों पर कार्रवाई करने की मांग की गयी है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: