न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आदिवासी विद्यालय की छात्रा की संदेहास्पद स्थिति में मौत, परिजनों ने की जांच की मांग

सवालों के घेरे में स्कूल प्रबंधन व कल्याण विभाग

17

Giridih : जिले के पीरटांड़ प्रखंड में संचालित राजकीय अनुसूचित जनजाति आवासीय बालिका उच्च विद्यालय में शनिवार को आठवीं कक्षा की छात्रा मुनिया मुर्मू की मौत संदेहास्पद स्थिति में हो गई, हालांकि जिला कल्याण पदाधिकारी रामेश्वर चौधरी और विद्यालय की वार्डेन आरती कुमारी का कहना है कि छात्रा के सीने में दर्द होने की शिकायत होने के बाद अस्पताल ले जाने के क्रम में उसकी मौत हो गई. जबकि सदर अस्पताल में छात्रा को लाये जाने के बाद उसके मुंह से काफी मात्रा में झाग निकल रहा था. जिससे साफ पता चलता है कि छात्रा की मौत का कारण कुछ और ही है. जिसे जिला कल्याण पदाधिकारी और वार्डेन द्वारा छुपाया जा रहा है.

धनबाद के टुंडी प्रखंड की रहने वाली थी छात्रा

बताया जाता है कि धनबाद जिले के टुंडी के जाताखुंटी गांव के रहने वाले महेश मुर्मू की बेटी मुनिया कुमारी पीरटांड़ प्रखंड में संचालित राजकीय अनुसूचित जनजाति आवासीय बालिका उच्च विद्यालय में आठवीं कक्षा की छात्रा थी. शनिवार को करीब चार बजे उसकी मौत संदेहास्पद स्थिति में हो गई. जिससे विद्यालय में गहमागहमी का माहौल बन गया. विद्यालय की वार्डेन सहित अन्य शिक्षकों के द्वारा सदर अस्पताल में लाया गया, तो उसके मुंह से सफेद झाग निकल रहा था. इस दौरान उसकी कक्षा में पढ़नेवाली सहेलियां भी रो रही थीं.

पोस्टमार्टम के बाद ही पता चलेगा मौत का कारण

इधर मामले को लेकर जब जिला कल्याण पदाधिकारी रामेश्वर चौधरी व वार्डेन आरती कुमारी से पूछा गया तो उनका कहना था कि शाम को चार बजे मुनिया ने छाती में दर्द होने की शिकायत की थी. जिसके बाद उसे पीरटांड़ स्वास्थ्य केन्द्र ले जाया गया. जहां से उसे गिरिडीह सदर अस्पताल भेज दिया गया. लेकिन गिरिडीह सदर अस्पताल पहुंचने के बाद चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. छात्रा के मुंह से झाग निकलने के सवाल पर सभी टाल मटोल कर गये. हालांकि सच्चाई क्या है यह तो पोस्टमार्टम के बाद ही पता चलेगा. स्कूल के शिक्षकों द्वारा छात्रा के परिजनों को सूचना दे दी गई है.

परिजनों ने स्कूल प्रबंधन पर लगाया आरोप

इधर मृत छात्रा की मौत की सूचना पर उसके परिजन गिरिडीह पहुंचे. परिजनों ने स्कूल प्रबंधन को इस मौत के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए इसकी जांच की मांग की है. मृतका छात्रा के चाचा महेंद्र मुर्मू ने बताया कि कक्षा 1 से ही उसकी भतीजी उक्त स्कूल में पढ़ती आ रही है. उसे कभी किसी तरह की कोई बीमारी नहीं रही है. मृतका छात्रा की मां ने आरोप लगाया कि किसी साजिश के तहत उसकी बेटी को मार दिया गया है. अब स्कूल के लोग इसे छुपा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – सोनुआ में हुई भूख से मौतः आप ने फूंका सरयू राय का पुतला

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: