JharkhandLead NewsRanchi

ऊर्जा विभाग की लापरवाही से जनता को बिजली बिल से लग रहा ‘करंट’: बाबूलाल मरांडी

Ranchi : बिजली बिल में त्रुटियों को लेकर लगातार लोग परेशान हो रहे हैं. इसे लेकर भारतीय जनता पार्टी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने झारखंड ऊर्जा वितरण निगम लिमिटेड के अध्यक्ष सह प्रबन्ध निदेशक के नाम चिठ्ठी लिखा है. बुधवार को लिखे पत्र में जनता के साथ हो रही परेशानियों पर ध्यानाकृष्ट कराया है. कहा है कि लगभग सभी विद्युत उपभोक्ताओं को पिछले वर्ष से ही मासिक विद्युत विपत्र समय पर नहीं दिया जा रहा. इससे समस्या हो रही है.

साथ ही उन्होंने विद्युत बिल विपत्र में हो रही त्रुटियों में सुधार की भी मांग की है. जनवरी-2020 से ही अनियमित रूप से सभी उपभोक्ताओं को बिल दिया जा रहा है. 3-4 महीने में एक बार बिल विपत्र दिया जा रहा है.

इसमें चक्रवृद्धि ब्याज जोड़ने से काफी बड़ी राशि हो जाती है. इसका भुगतान करने में लोगों को काफी दिक्कत हो रही है. यह सुलभ भी नहीं है. इस पर सुधार हो.

advt

इसे भी पढ़ें–जम्मू कश्मीर के नेताओं के साथ कल इन मुद्दों पर होगी पीएम मोदी की बात, New Wing के पास बैठक के एजेंडे की Exclusive जानकारी

राजधानी से लेकर छोटे कस्बे तक समस्या

बाबूलाल मरांडी के मुताबिक उन्हें उनके विधानसभा क्षेत्र के लोगों ने बिजली बिल संबंधी समस्या बतायी है. साथ ही रांची में भी सैकड़ों लोगों की यही समस्या है. उपभोक्ताओं ने विद्युत बिल विपत्र में भी कई गड़बड़ियों की शिकायत की है.

त्रुटिपूर्ण मीटर की वजह से ज्यादा बिल उपभोक्ताओं को मिल रहा है. कई बार विद्युत विभाग के कर्मचारी, इंजीनियरों को शिकायत करने के बावजूद इसके निदान के लिए कोई पहल नहीं की गयी है.

खुद उनके रांची स्थित आवास में विद्युत बिल विपत्र पिछले डेढ़ वर्षों से 4-6 महीने के अंतराल में आ रहा है. त्रुटिपूर्ण मीटर रहने के कारण बिल असामान्य रूप से आ रहा है. इसकी शिकायत भी कार्यपालक अभियन्ता (गोन्दा प्रमण्डल) को की गयी, लेकिन कोई सुधार नहीं किया गया. यहां तक कि बिल में चक्रवृद्धि ब्याज भी जोड़कर दिया गया है.

दिये गये बिल विपत्र में हुई गड़बड़ियों के बारे में भी बताया लेकिन विभाग द्वारा इस पर संज्ञान नहीं लिया गया. अनियमित तरीके से बिल दिये जाने एवं बिल में चक्रवृद्धि ब्याज जोड़े जाने से उपभोक्ताओं में बहुत गुस्सा है.

इसे भी पढ़ें– बगैर किसी नयी छूट के स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह 1 जुलाई तक बढ़ा

इन पर उठायें कदम

उन्होंने कहा है कि सरकार को कई बिंदुओं पर काम करना चाहिए. विद्युत बिल विपत्र सभी उपभोक्ताओं को मासिक दिया जाये. यदि मासिक देना संभव नहीं हो तो बिल में चक्रवृद्धि ब्याज नहीं जोड़ा जाये.

भुगतान के लिए मासिक Prepaid या Postpaid व्यवस्था की जानी चाहिए. शिकायत मिलने पर त्रुटिपूर्ण मीटर की जांच करा कर ही बिल-विपत्र निर्गत किया जाना ठीक रहेगा.

इसे भी पढ़ें–रांची-आनंद विहार-रांची के बीच चलेगी सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: