BiharHazaribaghJharkhandKodermaLead NewsRanchiTOP SLIDER

बरही-कोडरमा फोर लेन का 37 फीसदी काम पूरा, रांची से बिहार को जोड़ने वाला पूरा हाइवे फरवरी 22 तक हो जायेगा फोर लेन

276 करोड़ का है प्रोजेक्ट, काम में तेजी लाने का निर्देश

Special correspondent

Ranchi :  बरही से कोडरमा फोरलेनिंग का काम 37 फीसदी पूरा हो गया है. 27.65 किमी लंबी इस महत्वपूर्ण सड़क की भौतिक प्रगति 17.30 किमी तक हो गयी है. एनएचएआई ने संवेदक को काम में तेजी लाने का निर्देश दिया है और तय डेडलाइन में काम कंप्लीट करने को कहा है. फोरलेन बन रहे इस हाइवे को इपीसी (इंजीनियरिंग प्रोक्योरमेंट कंस्ट्रकशन) मोड पर बनाया जा रहा है. इसके निर्माण का जिम्मा मेसर्स रामकृपाल कंसट्रक्शन को दिया गया है.

अथॉरिटी इंजीनियर मेसर्स थीम को नियुक्त किया गया है. मेसर्स चैतन्य प्रोजेक्ट ने इस सड़क की डीपीआर बनायी थी. लगभग 27.65 किमी लंबे इस सेक्शन की सड़क के फोरलेन बन जाने से रांची से रामगढ़-हजारीबाग-बरही-कोडरमा के झारखंड-बिहार सीमा तक 166 किमी से अधिक लंबाई की पूरी सड़क फोरलेन हो जायेगी.

advt

बता दें कि पहले ही रांची से रामगढ़-हजारीबाग व बरही तक सड़क फोरलेन हो गयी है. ऐसे में बरही-कोडरमा सेक्शन फोरलेन होने से वाहनों का आवागमन काफी आसान हो जायेगा. चार लेन सड़क में वाहन- बस से चलने में काफी कम समय में बिहार के रजौली नवादा-बिहार शरीफ होते हुए पटना जाया जा सकेगा.

बता दें कि अभी एनएच 33 के रांची से जमशेदुपर प्रोजेक्ट जो इसके बाद सबसे बड़ी परियोजना है 10 वर्षों में भी फोरलेन नहीं हो पायी है. अभी भी कई जगह काम जारी है.

इसे भी पढ़ें :विश्व हिंदी दिवसः क्या मीडिया की हिंदी से आपको भी शिकायत है?

276.17 करोड़ का है प्रोजेक्ट, 109 करोड़ हुए खर्च

बरही-कोडरमा फोरलेनिंग का काम 276.17 करोड़ की परियोजना है. इसमें अभी तक 17 किमी रोड बना है. 109 करोड़ रुपये की राशि खर्च की गयी है. इस सड़क में दो मेजर ब्रिज व दो माइनर ब्रिज भी होगा. 44 को कल्वर्ट बनाये जायेंगे. 14 किमी सड़क पूरी तरह सर्विस रोड के रूप में इस्तेमाल किया जायेगा. दो आरओबी भी बनाया जाना है. करीब एक किमी सड़क का कर्व इंपु्रवमेंट भी  किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें :सांसद प्रिंस राज के खिलाफ दिल्ली में रेप का केस दर्ज, चिराग पासवान पर भी आरोप

फरवरी तक बनाने का है टारगेट

बरही-कोडरमा रोड़ के फोरलेनिंग का काम फरवरी 2022 तक हर हाल में बनाने का टारगेट हैं. हालांकि, एनएचएआई ने 17 नवंबर 2021 तक ही इसका काम कराने का तय समय दिया है,लेकिन नियमों के अनुसार फरवरी तक का इसे समय मिला है. हालांकि,अभी इस सड़क के लिए 33 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया जाना है. इसके लिए जिला प्रशासन को एनएचआई ने पत्र लिखा है.

इसे भी पढ़ें :Ranchi: सिपाही ने प्रेमिका को किसी लड़के के साथ देखा था , इसलिए चला दी थी गोली

जर्जर सड़क पर हाइकोर्ट ने जतायी है नाराजगी

एनएच हाइवे 31 में पड़ने वाली यह सड़क बिहार को जोड़ने वाली प्रमुख एनएच है. यह एनएच 33 बरही से जुड़ता है. रांची से बिहार को जोड़ने वाली महत्वपूर्ण एनएव का यह हिस्सा है. लेकिन अभी तिलैया घाटी में कई जगह और कोडरमा के आगे रजौली घाटी से बिहार बार्डर तक यह सड़क काफी जर्जर हो गयी है. बड़े-बड़े गढ्ढे हो गये हैं. हजारों छोटे-बड़े वाहन इन गढ्ढों में फंसते हैं.

झारखंड हाइकोर्ट ने इस पर संज्ञान भी लिया है और एनएच को सुधारने का आदेश दिया है. हालांकि,सड़क फोरलेनिंग का काम प्रगति पर है इसलिए बड़े पैमाने पर अभी तक मरम्मत का काम पूरा नहीं किया गया है. बरसात के कारण भी काम नहीं हो रहा है.

इसे भी पढ़ें :CM हेमंत को भोजपुरी, मगही से झारखंड के बिहारीकरण का डर,  भाजपा ने कहा-पूरे समाज को अपमानित करने पर लगी सरकार

 

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: