न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

तकनीकी कमियों के कारण फिर रुका हरमू प्लाइओवर निर्माण कार्य, मेकॉन फिर बनाएगा नया डीपीआर

15 नवंबर तक काम शुरू करने का सचिव ने दिया था निर्देश

33
  • चुनाव तक काम नहीं शुरू होने की अटकलें तेज
  • डीपीआर में खामी बता रोका गया निर्माण कार्य, टेंडर कार्य भी है अधूरा
  • जमीन अधिग्रहण, राजभवन की बाउंड्री वॉल को तोड़ने के प्रस्ताव से पहले ही योजना में विवाद थी

Ranchi : राजधानी में बनने वाले प्रस्तावित हरमू प्लाइओवर निर्माण कार्य एक बार फिर jरुक गया है. मेकॉन द्वारा बने डीपीआर में तकनीकि खामियां के कारण यह कार्य रोका गया है. इससे पहले नगर विकास सचिव अजय कुमार सिंह ने गत वर्ष 15 नवंबर को पुल निर्माण कार्य शुरू करने का निर्देश दिया था. लेकिन उस समय यह काम शुरू नहीं हो पाया. बाद में न्यूज विंग संवाददाता ने सचिव से प्लाइओवर निर्माण कार्य शुरू होने के तिथि पर सवाल किया था. उन्होंने इस वर्ष जनवरी माह से काम शुरू करने की बात कही थी. लेकिन मेकॉन द्वारा बने गए डीपीआर में तकनीकी खामी आने के कारण प्लाइओवर निर्माण फिर से रूक गया है.

गोलचक्कर बनाने को लेकर उत्पन्न हुआ पेंच

जुडोको के इसी डीपीआर को लेकर पथ निर्माण विभाग ने जताई आपत्ति

मालूम हो कि रातू रोड चौराहा के ऊपर बनने वाले गोलंबर को कारण बताकर योजना को रोकी गयी है. पथ निर्माण विभाग ने गोलंबर बनाकर हरमू फ्लाइओवर और रातू रोड प्लाइओवर को पार करने पर आपत्ति की है. विभाग ने इसमें सुधार कर दोनों पुलों को ऊपर-नीचे से गुजारने के लिए कहा है. इसपर नगर विकास विभाग ने प्रस्ताव पर सहमति दे दी है. विभाग ने मेकॉन को नये सिरे से डिजाइन और डीपीआर तैयार करने का निर्देश दिया है. सचिव ने मेकॉन को दोनों प्लाइओवर को एक-दूसरे के नीचे से गुजारने का तकनीकि स्वरूप देने के लिए कहा है. अगर मेकॉन नये डीपीआर का समाधान नहीं निकाल पाता है, तो उस दशा में विभाग ने विश्व बैंक से कंसल्टेंट सुझाने का निर्देश दिया है.

अधिकारी ने बताया, चुनाव तक रुक सकता है काम

विभाग के अधिकारियों ने बताया कि हरमू प्लाइओवर और रातू रोड एलिवेटड रोड में पहले से ही कई अड़चने आ चूकी है. इसके कारण निर्माण कार्य से जुड़ी फाइलें दो साल से जुडको के पास पड़ी हुई है. सबसे पहले डिजाइन में दो फ्लाइओवर को क्रॉस करने का प्रावधान नहीं होने से समस्या बनी थी. फिर राजभवन की बाउंड्री तोड़ने के प्रस्ताव, जमीन अधिग्रहण का मुद्दा भी फ्लाइओवर बनाने पर समस्या बनाता रहा. अब मेकॉन के बने डिजाइन पर ही पथ निर्माण विभाग ने आपत्ति जता दी है.

उन्होंने कहा कि अब सचिव ने मेकॉन को नया डीपीआर बनाने का निर्देश दिया है, तो एक बार फिर हरमू निर्माण कार्य बनने की तिथि अनिश्चित हो गयी है. अगर मेकॉन नया डिजाइन और टेंडर अगले दो माह में बना लेता है, तो टेंडर प्रक्रिया भी एक से दो माह तक चलेगी. ऐसे में लोकसभा चुनाव तक काम का रूकना तय है. वहीं अगर मेकॉन नया डीपीआर नहीं बनाता है, तो विभाग को दो टेंडर निकालना पड़ेगा. ऐसे में विधानसभा चुनाव तक भी कार्य पूरा हो जाए, यह कहना संभव नहीं लगता है.

करीब 398 करोड़ की आयेगी लागत

रातू रोड चौराहा स्थित जज कॉलोनी से लेकर हरमू रोड स्थित कॉर्तिक उरांव चौक तक तीन लेन के बनने वाले हरमू प्लाइओवर की लंबाई 2.34 किमी प्रस्तावित है. मेकॉन के पूर्व बने डीपीआर के मुताबिक 186 करोड़ रुपये की लागत इस प्लाइओवर के निर्माण में आने की बात कही गयी थी. वहीं पिस्का मोड़ से जाकिर हुसैन पार्क तक बनने वाले एलिवेटेड रोड का निर्माण राष्ट्रीय उच्च पथ प्राधिकार द्वारा निर्माण किया जाना है. इस पथ की लंबाई करीब 3.5 किमी प्रस्तावित है. योजना में कुल लागत राशि करीब 212 करोड़ रुपये आकलित की गयी है.

इसे भी पढ़ेंः सरकार 25 करोड़ खर्च कर खरीदेगी सैनिटरी नैपकिन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: