न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इलाज के अभाव में किसी की मौत ना हो : उपायुक्‍त

89

Lohardaga : केंद्र एवं राज्य सरकार की ओर से स्वास्थ्य विभाग के द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ सुदूरवर्ती क्षेत्र में रहने वाले ग्रामीणों तक पहुंचे तभी योजनाओं की सार्थकता सिद्ध होगी. उक्त बातें उपायुक्त बिनोद कुमार ने समाहरणालय में आयोजित स्वास्थ्य विभाग व आईसीडीएस की समीक्षात्मक बैठक में चिकित्सकों एवं कर्मियों को निर्देशित करते हुए कही. उन्होंने कहा कि इलाज के अभाव में जिले के किसी भी व्यक्ति की मौत नहीं हो इसके लिए सभी का इलाज सुनिश्चित करें. उन्होंने स्पष्ट कहा कि योजना संचालन में थोड़ी सी भी लापरवाही हुई तो चिकित्सक एवं कर्मी बख्से नहीं जायेंगे. साथ ही समन्वय बनाकर जिले को कुपोषण मुक्त बनाने का निर्देश भी उन्होंने दिया.

इसे भी पढ़ें :रांची : सुरक्षा और कानून को ताक में रख कर युवतियां चलाती है. दोपहिया वाहन

100 प्रतिशत संस्थागत प्रसव कराने का निर्देश

कुपोषण मुक्ति के लिए आंगनबाड़ी केंद्रों से समन्वय बनाकर जिले को कुपोषण मुक्त किया जा सकता है. बैठक में स्वास्थ्य केन्द्र तथा उप स्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थापित चिकित्सकों एवं कर्मियों को ईमानदारी से कार्य कर विभाग के माध्यम से दिए जाने वाले योजनाओं को ईमानदारी पूर्वक पहुंचाने को लेकर निर्देशित किया. बैठक में संस्थागत प्रसव की जानकारी ली. सीएस को 100 प्रतिशत संस्थागत प्रसव कराने का निर्देश दिया. सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों का संबंधित स्वास्थ्य संस्थान में आवासन संबंधित प्रमाण पत्र स्टॉफ से दो दिन में प्राप्त कर जिला को भेजने का निदेश उन्होंने दिया। जबकि प्रखंड स्तरीय समीक्षा बैठक स्वास्थ्य उप केंद्र में करने को कहा गया, ताकि स्वास्थ्य उप केंद्र की वस्तुस्थिति आमजनों से प्राप्त की जा सके.

बैठक में भौतिक तथा वित्तीय प्रतिवेदन की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने अन्य कई निर्देश दिये. इसके बाद पिछले वर्ष मई एवं वर्तमान वर्ष मई के प्रतिवेदनों की समीक्षा की. बैठक में सिविल सर्जन विजय कुमार, समाज कल्याण पदाधिकारी मनीषा तिर्की, डॉक्टर शंभुनाथ चौधरी, सुनील मिंज, जिले के डीपीएम तथा सभी सीडीपीओ उपस्थित थीं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: