न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

“फेथई” चक्रवात के कारण बेरमो, बोकारो थर्मल और आसपास के क्षेत्रों में जनजीवन प्रभावित

स्कूली बच्चों को हो रही परेशानी

265

Bermo(Bokaro) : बेरमो अनुमंडल के नावाडीह, चंद्रपुरा, गोमिया, ललपनिया, तेनुघाट, नेटरवार, कसमार, कथारा बोकारो थर्मल एवं आसपास के क्षत्रों में “फेथई” चक्रवात का असर पूरी तरह से दिख रहा है. चक्रवात के कारण सोमवार की तड़के सुबह से ही मौसम पूरी तरह से बदल गया है और आसमान में बादल छाए हुए हैं. सुबह से हो रही बारिश के कारण जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हो गया है.

अचानक मौसम के करवट लेने से जनजीवन प्रभावित हुआ है. लोग अपनी दिनचर्या व रोजी-रोजगार छोड़कर अपने-अपने घरों में दुबकने को विवश हो गये हैं. बदलते मौसम का सबसे बुरा असर स्कूली बच्चों एवं दिहाड़ी पर काम करने वाले मजदूरों पर पड़ा है. बदलते मौसम एवं बारिश को देखते हुए कई अभिभावकों ने सोमवार को अपने-अपने छोटे बच्चों को स्कूल भेजना मुनासिब नहीं समझा.

जो बच्चे स्कूल गये वो भी वापसी में भींगकर लौटते हुए देखे गये. इसी प्रकार स्थानीय पावर प्लांटों में दिहाड़ी पर काम करने वाले मजदूरों को भी भींगकर काम करना पड़ा या फिर उन्हें बिना काम किये ही वापस घरों को लौट जाना पड़ा. सोमवार की सुबह से हो रही लगातार बारिश के कारण बोकारो थर्मल स्थित डीवीसी के आवासीय कॉलोनी की कच्ची सड़कों पर चलना कहीं से भी मुनासिब नहीं रह गया है.

19 से पड़ेगी कड़ाके की ठंड

मौसम विभाग का कहना है कि अगले दो दिनों तक “फेथई” चक्रवात का असर रहेगा. साथ ही 19 दिसंबर के बाद से कड़ाके की ठंड पड़ने के आसार हैं. दिनभर आसमान में बादल छाए रहेंगे और छिटपुट बारिश भी होती रहेगी. धूप नहीं निकलने के कारण तापमान में गिरावट दर्ज होने की भी संभावना है जिससे ठिठुरन बढ़ेगी. चक्रवात का असर 19 दिसंबर बुधवार को समाप्त हो जाएगा. मौसम विभाग के अनुसार दिन में धूप खिलेगी, लेकिन शाम होते ही कड़ाके की ठंड पड़ने की संभावना है.

13 डिग्री तक पहुंचा तापमान

सोमवार को बोकारो थर्मल का अधिकतम तापमान 17 डिग्री जबकि न्यूनतम तापमान 13 डिग्री के आस-पास रहा. अगले दो दिनों तक तापमान में हल्का उतार चढ़ाव आयेगा, लेकिन 19 के उपरघाट के ग्रामीण क्षेत्रों में बुरे हालात-बारिश के कारण कनकनी भरे मौसम से छुटकारा पाने के लिए नावाडीह प्रखंड अंतर्गत उपरघाट के ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रामीणों को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है. ग्रामीणों का कहना है कि प्रखंड प्रशासन की ओर से ठंढ से बचाव के लिए अब तक किसी भी प्रकार की व्यवस्था उपलब्ध नहीं कराई गयी है. ग्रामीणों का यह भी कहना है कि प्रखंड के अलावा जनप्रतिनिधि भी उनकी इस समस्या को दूर करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं, सभी चुप्पी साधे हुए हैं. ठंढ से राहत पाने के लिए ग्रामीणों के बीच इस बार कंबलों का भी वितरण अब तक नहीं किया गया है जिसके कारण हालात और भी खराब हैं.

इसे भी पढ़ें : पलामू: हथियार समेत छह अपराधी गिरफ्तार, हत्याकांड का उद्भेदन-लूट की योजना विफल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: