Education & CareerLead NewsRanchi

आपदा प्रबंधन विभाग की लेटलतीफी से कहीं JAC के 62 हजार स्टूडेंट्स के करियर पर न आ जाये ‘आपदा’

  • कंपार्टमेंटल परीक्षा नहीं होने से बर्बाद हो जायेगा इन स्टूडेंट्स का एक साल
  • JAC को मैट्रिक-इंटर के 62 हजार स्टूडेंट्स की लेनी है कंपार्टमेंटल परीक्षा
  • आपदा प्रबंधन विभाग से ग्रीन सिग्नल नहीं मिलने के कारण परीक्षा नहीं ले पा रहा JAC

Rahul Guru

Jharkhand Rai

Ranchi : राज्य के 62 हजार स्टूडेंट्स को इस बात की चिंता सता रही है कि कहीं उनका एक साल बर्बाद न हो जाये. ये 62 हजार स्टूडेंट्स हैं वे हैं, जो इस बार मैट्रिक-इंटर की कंपार्टमेंटल परीक्षा देनेवाले हैं. पूरे झारखंड से मैट्रिक की कंपार्टमेंटल परीक्षा में 32 हजार और इंटर की कंपार्टमेंटल परीक्षा में 30 हजार स्टूडेंट्स शामिल होंगे. जैक की ओर से जुलाई में ही मैट्रिक-इंटर परीक्षा का रिजल्ट जारी किया जा चुका है, पर अब तक कंपार्टमेंटल परीक्षा नहीं ली जा सकी है.

इसे भी पढ़ें-कौन देगा जवाब… जो रिम्स मरीजों को पर्याप्त ट्रॉली तक नहीं दे रहा, वही जनता के पैसों से स्वास्थ्य मंत्री के लिए खरीदने जा रहा गाड़ी!

आपदा प्रबंधन विभाग के निर्देश का इंतजार

जैक की ओर से कंपार्टमेंटल परीक्षा के आयोजन को लेकर तैयारी पूरी की जा चुकी है. राज्य में सेंटर का निर्धारण भी किया जा चुका है. लेकिन, कंपार्टमेंटल परीक्षा आयोजन को लेकर राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग को भेजे गये पत्र का अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है. आपदा प्रबंधन विभाग की तरफ से अभी तक ग्रीन सिग्नल नहीं मिलने की वजह से ही जैक कंपार्टमेंटल परीक्षा का आयोजन नहीं कर पा रहा है. ऐसे में राज्य के 62 हजार स्टूडेंट्स को इस बात की चिंता सता रही है कि कहीं आपदा प्रबंधन विभाग की लेटलतीफी उनके एक साल को बर्बाद न कर दे.

Samford

मैट्रिक के स्टूडेंट्स के इस साल 11वीं में एडमिशन पर मंडरा रहा खतरा

मैट्रिक के बच्चों को तो भविष्य की दोहरी चिंता सता रही है. ऐसा इसलिए कि अभी राज्य के स्कूलों में 11वीं की परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन और एग्जामिनेशन फॉर्म भराया जा रहा है. अब मैट्रिक की कंपार्टमेंटल परीक्षा नहीं होने की वजह से मैट्रिक के बच्चे 11वीं में न तो रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं और न ही एडमिशन करा सकते हैं. जो बच्चे अभी 11वीं में रजिस्ट्रेशन और एडमिशन नहीं करा पायेंगे, वे वर्ष 2022 की इंटर परीक्षा में भी शामिल नहीं हो पायेंगे. इतना ही नहीं, राज्य के कॉलेजों में इंटर में एडमिशन लगभग बंद होने को है. जब तक मैट्रिक की कंपार्टमेंटल परीक्षा का रिजल्ट जारी नहीं हो जाता है, मैट्रिक के 32 हजार स्टूडेंट्स इंटर में एडमिशन भी नहीं ले सकते हैं.

दूसरी तरफ, जैक अगर अभी कंपार्टमेंटल परीक्षा ले भी लेता है, तो रिजल्ट जारी करने और सर्टिफिकेट देने में दो माह से अधिक का समय लग सकता है. इस हिसाब से दिसंबर में 11वीं में एडमिशन लेनेवाले स्टूडेंट्स को फरवरी में होनेवाली 11वीं की परीक्षा देनी होगी. यानी बिना कोर्स कंप्लीट किये ही परीक्षा सिर पर आ जायेगी.

इसे भी पढ़ें- 2016 से डॉरमेट्री में दिन गुजारने को मजबूर प्लेयर्स, होटवार में 750 बेड के हॉस्टल निर्माण के लिए 8 महीनों से पड़े हैं 60 करोड़

इंटर वालों को ग्रेजुएशन में एडमिशन नहीं मिल पाने का है डर

वहीं, इंटर के 30 हजार बच्चे, जो कंपार्टमेंटल परीक्षा का इंतजार कर रहे हैं, उन्हें ग्रेजुएशन में एडमिशन नहीं मिल पाने का डर सता रहा है. राज्य के सभी यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में ग्रेजुएशन में नामांकन अंतिम चरण में है. कुछ कॉलेजों में एडमिशन प्रोसेस बंद भी हो गयी है. ऐसे में कंपार्टमेंटल परीक्षा में सफल होने के बाद भी ग्रेजुएशन में नामांकन लेना इन स्टूडेंट्स के लिए मुश्किल होगा.

CBSE-ICSE ने ले ली कंपार्टमेंटल परीक्षा

राज्य के सरकारी स्कूल-कॉलेज के बच्चे कंपार्टमेंटल परीक्षा के लिए विभागीय आदेश का इंतजार ही कर रहे हैं, जबकि सीबीएसई ने सितंबर में ही कंपार्टमेंटल परीक्षा ले ली है. आईसीएसई बोर्ड के विद्यार्थियों की भी कंपार्टमेंटल परीक्षा हो चुकी है.

इसे भी पढ़ें-कोरोना संकट में ऑनलाइन चल रहा कोर्ट, फिजिकल सुनवाई की मांग के साथ CJJ से मिलेगा बार काउंसिल

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: