Business

#DelayINSalary और कारोबार में सुस्ती की वजह से कर्जदार समय पर कर्ज की किस्त नहीं चुका पा रहे  :  सर्वे

Mumbai :  व्यक्तिगत कर्जदार यदि समय पर अपने कर्ज की किस्त नहीं चुका पा रहे हैं तो उसकी सबसे बड़ी वजह वेतन मिलने में होनी वाली देरी है.  इसके अलावा कारोबार में संकट की वजह से भी वे कर्ज नहीं चुका पा रहे हैं.  एक सर्वे में यह निष्कर्ष सामने आया है.

यह सर्वेक्षण ऐसे समय आया है जबकि कुछ माह पहले जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार देश में बेरोजगारी की दर चार दशक के उच्चस्तर पर पहुंच गयी है. जान लें कि कॉरपोरेट ऋण की मांग कम होने की वजह से बैंक अपने बही खाते को आगे बढ़ाने के लिए काफी हद तक खुदरा कर्ज पर निर्भर हैं.

इसे भी पढ़ें : #GST मुआवजे को लेकर सात राज्य केंद्र सरकार के खिलाफ #SupremeCourt जाने को तैयार

advt

  सुस्ती की वजह से देशभर में ऋण वसूली प्रभावित हो रही है

पेटीएम के समर्थन वाली वित्तीय प्रौद्योगिकी कंपनी क्रेडिटमेट की सोमवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि मौजूदा सुस्ती की वजह से देशभर में ऋण वसूली प्रभावित हो रही है. यह रिपोर्ट पिछले छह माह के दौरान 30 राज्यों में गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) सहित 40 बैंकों के दो लाख से अधिक ऋणों के विश्लेषण पर आधारित है.

कर्ज के भुगतान में देरी की सबसे प्रमुख वजह वेतन मिलने में होने वाली देरी को माना गया है.  36 प्रतिशत मामलों में कर्ज भुगतान में देरी की वजह वेतन में विलंब है.  वहीं 29 प्रतिशत मामलों में कर्ज चुकाने में देरी की वजह कारोबार में आई सुस्ती को बताया गया है.

कुल कर्ज चुकाने में असफल रहने के मामलों में 12 प्रतिशत में रोजगार नुकसान वजह है.  वहीं इलाज की जरूरतों के चलते 13 प्रतिशत मामलों में कर्ज चूक हुई है, 10 प्रतिशत मामलों में संबंधित कर्जदार के दूसरे स्थान पर स्थानांतरित होना रहा है. सर्वे में एक रोचक तथ्य सामने आया है.

इसे भी पढ़ें : #India केवल पांच साल में 2,000 अरब डॉलर से 3,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था वाला देश बना: राजदूत

adv

82 प्रतिशत कर्ज चूक के मामले पुरुषों से जुड़े हैं

महिलाओं की तुलना में कर्ज नहीं चुकाने के मामले पुरुषों के अधिक हैं.  82 प्रतिशत कर्ज चूक के मामले पुरुषों से जुड़े हैं. कर्ज भुगतान करने में तो महिलाएं आगे हैं हीं,  बकाया का भुगतान करने में भी महिलाएं आगे हैं.  पुरुषों की तुलना में महिलाएं 11 प्रतिशत अधिक तेजी से बकाया का भुगतान करती हैं.

शहरों की बात की जाये तो मुंबई, अहमदाबाद और सूरत में कर्ज भुगतान की दर सबसे बेहतर है.  इस मामले में दिल्ली, बेंगलुरु और पुणे की स्थिति काफी खराब है.  राज्यों में ऋण प्रतिबद्धताओं को पूरा करने में ओड़िशा, छत्तीसगढ़, बिहार और गुजरात का प्रदर्शन सबसे अच्छा है. वहीं मध्य प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली-एनसीआर और तमिलनाडु का प्रदर्शन सबसे खराब है.

इसे भी पढ़ें : #JNUStudents का फीस बढ़ोतरी को लेकर राष्ट्रपति भवन मार्च, पुलिस का लाठीचार्ज

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button