न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दिल्ली विश्वविद्यालयः नॉर्थ कैंपस में एबीवीपी ने सावरकर की प्रतिमा लगायी, एनएसयूआइ ने उस पर पोती कालिख, पहनायी जूतों की माला

383

New Delhi: दिल्ली विश्वविद्यालय के नॉर्थ कैंपस में भगत सिंह और सुभाष चंद्र बोस के साथ वीर सावरकर की प्रतिमा लगाये जाने का विवाद थम नहीं रहा है. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने सावरकर की जिस प्रतिमा को लगाया था, उसी प्रतिमा पर कांग्रेस से जुड़े छात्र संगठन एनएसयूआइ ने जूते की माला पहना दी. और तो और प्रतिमा के चेहरे पर कालिख भी पोत दी. एनएसयूआइ ने गुरुवार 22 अगस्त को इसकी जिम्मेवारी भी ले ली. एनएसयूआइ के नेताओं ने कहा कि एबीवीपी द्वारा लगायी गयी प्रतिमा पर कालिख पोत दी है.

इसे भी पढ़ें – गुरुग्रामः यौन उत्पीड़न के आरोपों से एक और बाबा ज्योतिगिरी महाराज घिरे, एफआइआर दर्ज, फरार

Aqua Spa Salon 5/02/2020

प्रतिमा पर विवाद

एबीवीपी की अगुवाईवाले डूसू ने मंगलवार को कला संकाय के बाहर वीर सावरकर, भगत सिंह और नेताजी सुभाषचंद्र बोस की प्रतिमाएं स्थापित की थीं. इस कदम की आलोचना करते हुए छात्र संगठनों ने कहा था सावरकर को बोस और सिंह के साथ एक ही स्थान पर नहीं रखा जा सकता.

इसे भी पढ़ें – ममता की नकारात्मक छवि सुधारने की कवायद, टीएमसी सांसदों को निर्देश, संसद में केंद्र सरकार के अच्छे कामों का समर्थन करें

20 सदस्यों ने पोती कालिख

एनएसयूआइ ने कहा कि हमारे संगठन के करीब 20 सदस्यों ने सावरकर की प्रतिमा पर कालिख पोती है. उस दौरान उन्होंने ‘भगत सिंह अमर रहें और बोस अमर रहें के नारे भी लगाये.’ एनएसयूआइ के दिल्ली प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अक्षय लकड़ा ने कहा कि वे बोस और भगत सिंह के साथ सावरकर की प्रतिमा कैसे लगा सकते हैं, वह भी रातोंरात. इसी कारण हमें मामले को अपने हाथों में लेना पड़ा. विश्वविद्यालय प्रशासन ने भी इस मामले में चुप्पी साध रखी थी. विश्वविद्यालय एबीवीपी के इशारों पर काम कर रहा है.

इसे भी पढ़ें – मुख्य आर्थिक सलाहकार सुब्रमण्यम के बयान के बाद सेंसेक्स 669 अंक लुढ़का, DLF के शेयर 20 फीसदी गिरे

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like