Ranchi

रामगढ़ घाटी में पुलिस वाहन दुर्घटनाग्रस्त होने से चालक की मौत, कई पुलिसकर्मी घायल

Ranchi: पुलिस वाहन दुर्घटनाग्रस्त होने से चालक की मौत हो गई. जिसमें कई पुलिसकर्मी घायल हो गए. यह घटना शनिवार की रात रामगढ़ घाटी के पास हुई. चतरा जिला बल से आये पुलिस स्कॉट पार्टी जो हटिया स्टेशन से मजदूर को लेने आए थे.

इसे भी पढ़ेंः#Bermo: शादी की नीयत से 17 वर्षीय नाबालिग का अपहरण, मामला दर्ज, आरोपी गिरफ्तार

वापस जाने के क्रम में रामगढ़ घाटी के पास उनकी गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई. घायलों को रिम्स रांची लाने के दौरान चालक दिनेश कुमार की मृत्यु हो गई. हालांकि बाकी जवान एवं पदाधिकारी खतरे से बाहर हैं. सभी घायल पुलिसकर्मियों का इलाज चल रहा है.

advt

मजदूरों को लेने आई थी पुलिस की टीम

सरकार की पहल पर तेलंगाना के लिंगमपेल्ली से 1176 मजदूरों को लेकर 24 बोगियों की एक स्पेशल ट्रेन शुक्रवार देर रात रांची के हटिया स्टेशन पहुंची थी. इन्हीं मजदूरों में से चतरा जिले के मजदूर को लेने पुलिस की टीम रांची आई थी.

मजदूरों को लेकर जब पुलिस की टीम वापस चतरा जा रही थी तो इसी दौरान रामगढ़ घाटी घाटी के पास पुलिस की गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई. इसके बाद वाहन में फंसे घायल पुलिसकर्मियों को बाहर निकाला गया. और तत्काल इलाज के लिए सभी को रिम्स भेजा गया, लेकिन रास्ते में ही स्कॉट वाहन के चालक दिनेश कुमार की मौत हो गई.

इसे भी पढ़ेंः#Kota से आ रहे छात्रों का खर्च राज्य सरकार कर रही है वहन :  हेमंत सोरेन

1176 मजदूरों को स्पेशल ट्रेन पहुंची थी रांची

तेलंगाना राज्य में फंसे मजदूरों का पहला जत्था शुक्रवार की देर रात हटिया स्टेशन पहुंचा. स्टेशन पर ट्रेन से उतरे सभी मजदूरों को मास्क और गुलाब भेंट कर स्वागत किया गया. इस ट्रेन के 24 कोच में करीब 1176 लोगों को लिंगमपट्टी से हटिया के लिए रवाना किया गया था.

adv

यह सभी मजदूर लॉकडाउन के कारण तेलंगाना के विभिन्न जिलों में फंसे हुए थे. हटिया स्टेशन में ट्रेन से उतरने के बाद इन सभी मजदूरों की जांच कर बसों से उनके शहर भेज दिया गया. रवानगी के समय सभी को भोजन पैकेट और पानी की बोतलें भी दी गई. इससे पूर्व व्यवस्था को देखने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन हटिया स्टेशन पहुंचे. उन्होंने स्टेशन में अधिकारियों से व्यवस्था का जायजा लिया.

झारखंड पहुंचे मजदूरों में पलामू, गढ़वा, कोडरमा, हजारीबाग, चतरा,गिरिडीह, देवघर, जामताड़ा, गोड्डा, सरायकेला, लातेहार, पाकुड़ और साहेबगंज जिलों के थे. कुछ मजदूर बिहार, यूपी और छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती इलाकों के भी थे. इन्हें घर पहुंचाने के लिए बसों की व्यवस्था की गई थी.

इसे भी पढ़ेंः#Dhanbad : लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों में फंसे लोगों की वापसी के लिए शनिवार को सौ बसों की होगी रवानगी

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button