न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ राजीव कुमार ने कहा- झरिया पुनर्वास से संबंधित कार्यों में तेजी लायें

222
  • राज्य सरकार ने नीति आयोग से की दामोदर और स्वर्णरेखा नदी को जोड़ने की मांग
  • जमशेदपुर-धनबाद-धामरा पोर्ट तक 790 किलोमीटर 4 लेन सड़क को जोड़ने में सहयोग करे नीति आयोग
eidbanner

Ranchi: नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ राजीव कुमार ने कहा कि झारखंड सरकार ने भारतमाला परियोजना में साहेबगंज से लेकर झारखंड के अन्य बड़े शहरों को जोड़ते हुए जमशेदपुर-धनबाद-धामरा पोर्ट तक 790 किलोमीटर 4 लेन सड़क को जोड़ने में सहयोग मांगा है.

इसे भी पढ़ें – दर्द-ए-पारा शिक्षक : पति-पत्नी दोनों हैं पारा शिक्षक, मानदेय के अभाव में नहीं करा पा रहे बेटी का इलाज

दिल्ली में होगी बैठक

कैंपा फंड से दामोदर नदी और स्वर्णरेखा नदी को भी जोड़ने की मांग की गयी है. झरिया पुनर्वास से संबंधित कार्यों में तेजी लाने का निर्देश आयोग की ओर से दिया गया है. बैठक में इस मसले पर विचार-विमर्श भी हुआ. सहमति बनी कि इस मसले पर दिल्ली में झारखंड के मुख्यमंत्री और कोयला मंत्रालय व नीति आयोग की बैठक होगी, जिसमें झरिया पुनर्वास से संबंधित मुद्दों के निराकरण के उपाय खोजे जायेंगे.

इसे भी पढ़ें – प्रधानमंत्री आवास योजना का हाल : कुल लक्ष्य का मात्र 44.14 प्रतिशत ही बन सका आवास

शिक्षा के क्षेत्र में हुई प्रगति की सराहना

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार के साथ कई महत्वपूर्ण मुद्दों की समीक्षा की गयी. राज्य और केंद्र से जुड़े मुद्दों का समाधान कैसे हो और नीति आयोग उसमें अपनी भूमिका बेहतर तरीके से निभाये, इस पर जोर दिया गया. नीति आयोग ने झारखंड में शिक्षा के क्षेत्र में हुई प्रगति की सराहना की. कम उम्र में विवाह, कुपोषण इत्यादि समस्या को दूर करने के लिए राज्य सरकार द्वारा उठाये गये कदम की तारीफ की.

इसे भी पढ़ें- झारखंड : गोवंश हत्या प्रतिषेध अधिनियम को मंजूरी मिले हुए 14 साल, फिर भी पशु तस्करी पर रोक नहीं

10 लाख महिलाओं के कौशल विकास का बेहतर प्रयास

नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ राजीव कुमार ने कहा कि झारखंड में शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर काम हुआ है. 10 लाख महिलाओं का कौशल विकास किया जा रहा है, जो बेहतर प्रयास है. बैठक को संतोषजनक बताते हुए नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ राजीव कुमार ने कहा कि झारखंड सरकार के साथ आपसी समन्वय बना कर यह बैठक साल में दो बार आयोजित की जायेगी.

सीएम रघुवर दास ने कहा कि झारखंड सरकार राज्य के सवा तीन करोड़ लोगों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है. लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सुविधा, शिक्षा और आधारभूत संरचना मिले, इसके लिए लगातार कार्य किये जा रहे हैं. समयबद्ध तरीके से योजनाओं को लागू किया जा रहा है. उनके नतीजे भी दिख रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में सरकारी वेकेंसी का नहीं भरना और उद्योग का विकास नहीं होना बेरोजगारी का बड़ा कारण

सामाजिक क्षेत्र में हुआ है काफी सुधार

सीएम ने कहा क सामाजिक क्षेत्र और शिक्षा के क्षेत्र में झारखंड में काफी सुधार हुआ है. आनेवाले समय में इसमें और सुधार होगा. इसी प्रकार स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी राज्य सरकार लगातार बेहतर कर रही है. हमारा लक्ष्य है इन क्षेत्रों में राज्य को प्रथम पंक्ति में पहुंचाने का है. राज्य सरकार और नीति आयोग मिल कर अच्छा काम कर रहे हैं. आनेवाले समय में यह साझेदारी इसी प्रकार से बनी रहे. आयोग हमारी अपेक्षाओं को समझ रहा है और हमारी कमियों में सुधार के लिए सहयोग कर रहा है. इसी का नतीजा है कि सभी क्षेत्रों में झारखंड की रैंकिंग में न केवल सुधार हो रहा है, बल्कि कई क्षेत्रों में झारखंड अग्रणी राज्य है.

इसे भी पढ़ें – आर्थिक संकट में फंसे पाकिस्तान की सेना ने रक्षा बजट में स्वेच्छा से कटौती का फैसला लिया

नीति आयोग के साथ बैठक राज्य हित में सफल रहीः मुख्य सचिव

मुख्य सचिव डॉ डीके तिवारी ने कहा कि नीति आयोग के साथ बैठक काफी अच्छी रही. समय-समय पर नीति आयोग का महत्वपूर्ण मार्गदर्शन राज्य सरकार को मिलता रहता है. नीति आयोग ने झारखंड में शिक्षा के क्षेत्र में हुए कार्यों की सराहना की है. झारखंड में शिक्षा के स्तर में गुणवत्तापूर्ण सुधार हुआ है. साहेबगंज से लेकर राज्य के अन्य बड़े बड़े शहरों को जोड़ते हुए धनबाद-जमशेदपुर-धामरा पोर्ट को भारतमाला परियोजना में जोड़ने का प्रयास राज्य सरकार कर रही है.

इसे भी पढ़ें – पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ने सरकारी खर्च से चुनाव कराने की वकालत की, कॉरपोरेट चंदे पर लगे पाबंदी

बोकारो में टूल सेंटर स्थापित करने पर चर्चा

सीएस ने बताया कि बोकारो में टूल सेंटर स्थापित करने पर चर्चा हुई. कैंपा फंड में दामोदर और स्वर्णरेखा की सफाई पर भी फोकस के लिए अनुरोध किया गया. आनेवाले समय में झारखंड में शिक्षा और स्वास्थ्य पर फोकस पूरा फोकस रहे इस कार्ययोजना पर विचार किया गया. उन्होंने कहा कि स्कूलों के विलय से शिक्षा के गुणवत्ता पर थर्ड पार्टी मूल्यांकन का कार्य आइआइएम रांची कर रही है. राज्य में जल संचयन को लेकर डोभा बेहतरीन प्रयोग रहा है.

इसे भी पढ़ें – जिस युवक की हत्या के बाद भड़का था मुजफ्फरनगर दंगा, उस हत्याकांड के पांच आरोपी छह साल बाद गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: