JamshedpurJharkhandJharkhand PoliticsNEWS

जमशेदपुर के पूर्व सांसद डॉक्‍टर अजय कुमार ने की पेंशन छोड़ने की पेशकश, पीएम नरेंद्र मोदी के समक्ष रखी ये चुनौती, कमेंट्स पढ़कर हंस उठेंगे

Jamshedpur : देशभर में सांसद व व‍िधायकों का पेंशन बंद करने की उठ रही मांग के बीच जमशेदपुर के पूर्व सांसद डॉक्‍टर अजय कुमार ने दो कदम आगे बढ़कर पेंशन छोड़ने की पेशकश की है. हालांक‍ि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष चुनौती पेश करते हुए सवाल पूछ डाले हैं क‍ि क्‍या प्रधानमंत्री पेंशन छोड़ने के ल‍िए तैयार हैं. पूर्व आइपीएस, सीडब्‍ल्‍यूसी के स्‍थायी आमंत्रित सदस्‍य और स‍िक्‍किम, त्रिपुरा एवं नागालैंड के प्रभारी के साथ झारखंड कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष डॉक्‍टर अजय सोशल मीड‍िया पर लगातार एक्‍टिव रहते हैं. गुरुवार को उन्‍होंने ट्वीट करने के साथ ही फेसबुक पोस्‍ट भी डाला ज‍िसमें ल‍िखा क‍ि युवाओं के लिए एक पूर्व सांसद होने के नाते मैं अपना पेंशन छोड़ने को तैयार हूं, क्या हमारे प्रधानमंत्री ऐसा करेंगे?

ram janam hospital
Catalyst IAS

ट्वीट और फेसबुक पोस्‍ट के साथ ही तरह-तरह के कमेंट्स भी आने शुरू हो गए हैं. इसमें सकारात्‍मक और नकारात्‍मक दोनों तरह के कमेंट्स हैं. तापस कुमार ने कमेंट्स क‍िया-   जब सत्ता में थे तब तो घोटाले में दिमाग लगाया. तभी ऐसे सुबिचार दिमाग में नहीं आए थे. व‍िपक्ष में रहने से ही ऐसे व‍िचार आते हैं. अंबुज कुमार ने डॉक्‍टर अजय कुमार की पेशकश को सराहा और ल‍िखा- पद, पैसा इत्यादि का परित्याग आपने कई मौकों पर किया है. आप देशवासियों के लिए प्रेरणास्रोत हैं. डॉक्टर साहब जिंदाबाद. हालांकि‍, अरविन्द सिंह भारद्वाज का कमेंट्स नकारात्‍मक रहा. उन्‍होंने ल‍िखा- सौदेबाजी, आप अपना नहीं पेंशन मोह नहीं त्याग पा रहे हैं, दूसरे से आशा कर रहे हैं. आदर्श स्थापित करके दूसरे से अपेक्षा करेंगे तब आप महान माने जायेंगे. सोशल मीडिया पर आपने लिखा और सौदेबाजी के भाव से लिखा, क्या आपको आशा है कि आपकी पोस्ट प्रधानमंत्री देखते होंगे कि आपको जवाब देंगे. श्रीमान. इस कमेंट्स पर एक व्‍यक्‍त‍ि अरवि‍ंंद सि‍ंह को समझाते दिखे. ल‍िखा-  अरविन्द सिंह भारद्वाज भैया आप इनकी शख्सियत से भलीभांति वाकिफ हैं. जहां कोई एक चपरासी की नौकरी को छोड़ता नहीं है वही डॉ अजय कुमार ने आईपीएस की नौकरी को अपने उसूलों के लिए छोड़ दिया था.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

बहरहाल, अजय ने पेंशन के अलावा महाराष्‍ट्र में स‍ियासी घमासान और राष्‍ट्रपत‍ि चुनाव को परिप्रेक्ष्‍य में भी ट्वीट और फेसबुक पोस्‍ट क‍िये हैं. महाराष्‍ट्र प्रकरण पर ल‍िखा- असम में बाढ़ ने कहर बरपा रखा है लेकिन असम सरकार महाराष्ट्र से आए ‘मेहमानों’ की खातिरदारी में व्यस्त. प्राथमिकताएं स्पष्ट हैं. इसी तरह एक ट्वीट में ल‍िखा- भारत को एक ‘उपयुक्त राष्ट्रपति’ की आवश्यकता है जो ‘संवैधानिक शासन की सर्वोच्चता’ सुनिश्चित करता है.

ये भी पढ़ें- Bagbera Water Project: अब सिर्फ नौ महीने का इंतजार, चीफ इंजीनियर का दावा-बागबेड़ा जलापूर्ति योजना से मार्च से मिलने लगेगा पानी VIDEO

Related Articles

Back to top button