Education & CareerJharkhandRanchi

11वीं में डायरेक्ट एडमिशन की बात आयी तो DPS और जेवीएम श्यामली प्रबंधन ने बढ़ा दिये कट ऑफ

Ranchi : राजधानी के जेवीएम श्यामली व डीपीएस जेसै स्कूलों में इस बार 2019 शैक्षणिक सत्र में डायरेक्ट एडमिशन में काफी परेशानियां हो रही हैं. आईसीएसई बोर्ड के नतीजों की घोषणा होने के बाद इन दोनों स्कूलों ने अपनी पुरानी शर्तों को ही बदल दिया.

इससे अभिभावकों की परेशानी बढ़ गयी है. क्योंकि 91 से 95 प्रतिशत अंक लानेवाले कई मेधावी बच्चों का दाखिला अच्छे स्कूलों में नहीं हो पा रहा है. पहले डीपीएस स्कूल प्रबंधन ने यह संदेश भेजा था कि जिन बच्चों का 90 प्रतिशत अंक आईसीएसई 10वीं बोर्ड में आयेगा, उनका सीधा नामांकन स्कूल में होगा.

आईसीएसई बोर्ड के नतीजे घोषित होने के बाद बदले नियम

जेवीएम श्यामली प्रबंधन ने डायरेक्ट एडमिशन को लेकर 92 प्रतिशत अंक होने की घोषणा प्रेस कांफरेंस में की थी. इसके लिए ऑनलाइन एप्लीकेशन दिये जाने की बातें भी प्रेस कांफरेंस में की गयी थी. सात मई 2019 को दोपहर तीन बजे, जब आईसीएसई बोर्ड के नतीजे घोषित किये गये. तो पांच मिनट में ही जेवीएम श्यामली की सारी सीटें (फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स ग्रुप तथा फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलोजी व बायोटेक्नोलाजी ग्रुप) की सभी सीटें भरे जाने का मेसेज दिया जाने लगा.

advt

इस संबंध में विद्यालय के प्राचार्य समरजीत जाना से पूछे जाने पर उन्होंने अपना मोबाइल ऑफ कर दिया. एडमिशन इंचार्ज एचएस मिश्रा ने कहा कि सभी आठ सौ सीटें फूल हो गयी हैं, अब कुछ नहीं होगा.

इसे भी पढ़ें- Urban Transport की भूमि अधिग्रहण के लिए 97 करोड़ राशि स्वीकृत, पीपीपी मोड पर भी हो रहा विचार

adv

बुधवार को अचानक जेवीएम प्रबंधन ने डायरेक्ट एडमिशन का परसेंटेज 96 कर दिया

बुधवार को सुबह अभिभावकों ने जब जेवीएम श्यामली प्रबंधन को इस कदाचार की जानकारी दी, तब स्कूल परिसर में यह एनाउंस कराया गया कि अब डायरेक्ट एडमिशन के लिए 96 प्रतिशत कट ऑफ तय कर दिया गया है. जिन बच्चों को बेस्ट ऑफ 5 में 96 फीसदी आया है, वे ही साइंस विषय के लिए योग्य हो सकते हैं. ऐसे में पूर्व की घोषणा को जेवीएम प्रबंधन ने दो दिन में ही एक सिरे से खारिज कर दिया.

गोड्डा के संजीव कुमार सिंह की बेटी श्रुति को आईसीएसई की परीक्षा में 94 प्रतिशत अंक आया है. उन्होंने श्यामली के लिए एडमिशन का ड्राफ्ट भी बनवा लिया है. दो दिनों से चक्कर लगाने के बाद उन्हें यह समझ में नहीं आ रहा है कि उनकी बेटी का एडमिशन होगा या नहीं.

डीपीएस ने भी ICSE के नतीजे घोषित होने के बाद बढ़ाया कट ऑफ, किया 95%

डीपीएस प्रबंधन ने भी आईसीएसई बोर्ड के नतीजों की घोषणा के बाद पांच फीसदी की बढ़ोत्तरी कट ऑफ में कर दी गयी. पहले 90 फीसदी कट ऑफ तय किया गया था. इसके बाद बेस्ट ऑफ थ्री सब्जेक्ट्स (अंगरेजी, गणित और विज्ञान) में 95 प्रतिशत से अधिक अंक लानेवालों को ही स्कूल के गेट से अंदर जाने दिया गया.

अभिभावकों से अंक पत्र लेकर उसे स्कूल के एडमिशन कमेटी के पास भेजा गया. एडमिशन कमेटी की हरी झंडी मिलने पर ही कुछेक बच्चों का सीधा एडमिशन लिया गया. ऐसे अभिभावकों से 69 हजार रुपये से 70 हजार रुपये तक के चेक डीपीएस स्कूल के नाम से लिये गये.

इसे भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ : सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में एक महिला नक्सली समेत दो की मौत

कुछ स्कूलों ने 85 प्रतिशत अंक वालों के सीधे एडमिशन का निकाला है विज्ञापन

आज टेंडर हर्ट, ब्रिजफोर्ड, कैंब्रियन स्कूल और अन्य ने 85 प्रतिशत अंक लानेवालों का सीधा एडमिशन लिए जाने संबंधी विज्ञापन निकाला है. जेवीएम श्यामली और डीपीएस के बाद कैराली पब्लिक स्कूल, संत जेवियर्स स्कूल, बिशप वेस्टकॉट स्कूल, डीएवी कपिलदेव कडरू, डीएवी गांधीनगर, डीएवी बरियातू, सुरेंद्रनाथ सेंटीनरी, फिरायालाल पब्लिक स्कूल और अन्य स्कूलों में भी 11वीं के दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो गयी है. इनमें पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर एडमिशन लिए जा रहे हैं.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: