JharkhandMain SliderRanchi

DoubleEngine की सरकार का कमाल! 52 लाख में बनी और 32 लाख सालाना मेंटेनेंस वाली CMO की साइट 20 दिनों से बंद

  • रघुवर सरकार में बनी (http://cm.jharkhand.gov.in/) साइट का हेमंत सरकार आते ही बंद होना फर्जीवाड़े का संकेत
  • CMO Jharkhand के वेबसाइट और मोबाइट एप्प की मदद के लिए बनी थी साइट 
  • सीईओ जैपआइटी ने माना, इतने दिनों तक साइट का बंद होना सही नहीं
  • बंद पड़े दिनों में साइट पर कंपनी को राशि का भुगतान करना सरकारी राशि का दुरुपयोग

Ranchi :  राज्य के मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) के अंतर्गत कार्यरत मोबाइल ऐप और वेबसाइट को टेक्निकल सपोर्ट देने वाली साइट (http://cm.jharkhand.gov.in/) पिछले 20 से अधिक दिनों से बंद पड़ी है.

पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के कार्यकाल में झारखंड एजेंसी फॉर प्रमोशन ऑफ़ इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (जैप-आइटी) अंतर्गत कार्यरत यह साइट CMO Jharkhand के मोबाइल ऐप और वेबसाइट को टेक्निकल सपोर्ट देने के लिए बनाया गया था.

52 लाख रुपये की लागत वाली इस साइट को बनाने का काम Ahmedabad की एक कंपनी को मिला था. राज्य में नयी सरकार के सत्ता में आने के बाद मेंटेनेंस के नाम पर बंद होना एक फर्जीवाड़े की ओर संकेत करता है.

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर: घर घुसकर मां-बेटी के साथ की मारपीट व छेड़छाड़, रघुवर दास के समर्थकों पर आरोप

32 लाख मेंटेनेंस पर खर्च, पूर्व सीएम के कार्यक्रम को भी हैंडल करता था साइट

बंद हुई साइट (http://cm.jharkhand.gov.in/) को बनाने का जिम्मा रघुवर सरकार में Ahmedabad  की एक कंपनी Silver Touch Technologies ltd को मिला था.

सूत्रों का कहना है कि पूर्व मुख्ममंत्री रघुवर दास के कार्यकाल में बनायी गयी साइट का खर्च करीब 52 लाख रुपये हुआ है. वही साइट के मेनटेनेंस के लिए एक साल का खर्च करीब 32 लाख रुपये दिया जा रहा है.

आइटी के जानकारों की मानें तो एक साइट को बनाने का खर्च अधिकतम 1 से 1.25 लाख के बीच ही आता है. बताया तो यह भी जा रहा है कि CMO झारखंड की मदद के लिए बनी इस साइट का काम पूर्व सीएम के सरकारी कामों को भी हैंडल करना होता था.

अब अगर यह साइट बंद है, तो कंपनी को बंद पड़े 20 दिनों की राशि का दिया जाना एक तरह सरकारी राशि का दुरुपयोग ही है.

इसे भी पढ़ें : अब ग्रेजुएशन अपीयरिंग छात्र भी दे सकेंगे B.Ed एंट्रेंस टेस्ट, सीट खाली रहने के बाद लिया गया फैसला

इतने दिन साइट का बंद होना सही नहीं :  दिव्यांशु झा

बंद पड़ी साइट को लेकर जैप-आइटी के सीईओ दिव्यांशु झा से बातचीत में पता चला कि उन्हें भी इसकी जानकारी नहीं है कि जैपआइटी के अंतर्गत कार्यरत साइट बंद क्यों है.

उन्होंने कहा कि वे पता लगायेंगे कि साइट क्यों बंद है. उन्होंने यह भी बताया कि सिक्यूरिटी को लेकर पिछले माह साइट में कुछ कुछ समस्या आयी थी. चूंकि सीएमओ के अंतर्गत आने वाली यह साइट काफी मह्त्वपूर्ण साइट है.

इसे देखते हुए एजेंसी को निर्देश दिया गया है कि टेक्निकल खराबी ठीक की जाये. दिव्यांशु झा ने यह भी माना कि मेनटेनेंस के नाम पर इनते दिन साइट का बंद होना सही नहीं है.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह में #CAA के समर्थन में निकाली गयी रैली के दौरान पथराव, भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button