न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#DoubleEngine सरकार में बेबस छात्र- 6 : सिर्फ विज्ञापन और आवेदन तक ही सिमटी रही 56 सहायक लोक स्वास्थ्य पदाधिकारियों की नियुक्ति

283

Kumar Gaurav

Ranchi: डबल इंजन की सरकार. विकास के वादे. स्वास्थ्य के प्रति सजग सरकार होने का दावा. इन चीजों से इतर एक बात यह भी है कि 24 जिलोंवाले राज्य झारखंड में सहायक लोक स्वास्थ्य पदाधिकारियों की भारी कमी है.

राज्य सरकार के लिए नियुक्ति करनेवाली संस्था जेपीएससी ने कुल 56 सहायक लोक स्वास्थ्य पदाधिकारियों के लिए नियुक्ति संबंधी विज्ञापन जारी किया था.

31 अगस्त 2018 से 14 अक्टूबर 2018 तक ऑनलाइन माध्यम से आवेदन मांगे गये थे. एक साल हो जाने के बाद भी प्रक्रिया अभी तक जस की तस है.

इसे भी पढ़ें – सरकारी दावा झारखंड #ODF: गुमला ने पूरा किया 90% टारगेट लेकिन निर्माण के नाम पर एक करोड़ का घोटाला

सिर्फ विज्ञापन आया और छात्रों ने नौकरी की आस में आवेदन भरे भी. पर हुआ यह कि छात्र एक साल होने के बाद भी अभी तक सिर्फ इंतजार में ही हैं.

बिना सहायक लोक स्वास्थ्य पदाधिकारी के स्वास्थ्य विभाग की स्थिति कैसी होगी यह तो जगजाहिर है. बावजूद सरकार इनकी नियुक्ति को लेकर जरा भी गंभीर नहीं दिख रही है.

27 अगस्त को दोबारा फॉर्म में सुधार के लिए नोटिफिकेशन हुआ था जारी

इस परीक्षा की गति का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि नियुक्ति विज्ञापन के एक साल के ठीक बाद फिर से आवेदन में ही सुधार के लिए नोटिफिकेशन जारी किया गया था. जिसमें छात्रों को अपने आवेदन में दोबारा सुधार का मौका दिया गया था.

WH MART 1

छात्र 14 अक्टूबर तक सुधार कर सकते हैं. इस मौके के बाद शायद छात्रों को लगे की प्रक्रिया में तेजी आयी है. पर इस परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों का कहना है कि अब सिर्फ हम यही उम्मीद करते हैं कि परीक्षा जितनी जल्दी से जल्दी ले ली जाये उतना बेहतर होगा.

इसे भी पढ़ें – # अब Moody’s ने भारत का #GDP ग्रोथ रेटअनुमान 6.2 फीसदी से घटाकर 5.8 पर्सेंट किया

परीक्षा के इंतजार में निकल रही है छात्रों की उम्र

जेपीएससी और जेएसएससी की अधिकतर परीक्षाएं सिर्फ विज्ञापन और आवेदन तक ही सीमित हैं. जेपीएससी के एक परीक्षा के एवरेज समय की बात करें तो करीब तीन साल से भी अधिक है.

जेपीएससी के जरिये सरकारी सेवाओं में जाने की इच्छा रखनेवालों के लिए आयोग उम्र सीमा तय करता है. परीक्षा प्रक्रिया में ही सरकार इतना देर कर देती है कि एक परीक्षा के बाद दोबारा विज्ञापन आने पर अधिकतर छात्र आवेदन करने की स्थिति में नहीं होते.

परीक्षा प्रक्रिया में ही इतनी देर हो जाती है कि एक ही परीक्षा के बाद छात्रों की उम्र निकल जाती है. वे अधिकतम उम्रवाली सीमा को पार कर जाते हैं.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection: 25 Oct से लेकर 5 Nov तक हो सकती है झारखंड में चुनाव की घोषणा, पार्टियां बड़ी रैली की तैयारी में

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like