JharkhandKhas-KhabarRanchi

डबल इंजन की सरकार ने दो साल में बंद किये 4532 सरकारी विद्यालय, 2300 प्राइवेट स्कूलों को दे दी मान्यता

Ranchi: पांच साल तक शासन करने वाली बहुमत वाली सरकार की शिक्षा के प्रति गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि दो साल में सरकार ने जितने सरकारी स्कूलों का विलय कराया, उसके आधे संख्या के प्राइवेट स्कूलों को मान्यता दे दी.

नि:शुल्क व अनिवार्य शिक्षा की बात करने वाली डबल इंजन वाली सरकार में सबसे ज्यादा स्कूल जमशेदपुर में विलय हुए या बंद हुए हैं. इनकी संख्या 393 है और कोडरमा के 81 स्कूलों का विलय किया गया. स्कूल विलय/बंद होने के आंकड़े और प्राइवेट स्कूल खुलने के आंकड़े यह स्पष्ट करते हैं कि सरकार ने स्वयं ही स्कूली शिक्षा के प्राइवेटाइजेशन की ओर कदम उठाया है.

advt

इसे भी पढ़ेंःकोनार डैम का टूटना क्यों न बने चुनावी मुद्दा? लगभग 25 सौ करोड़ की योजना को चूहों ने कुतरा था!

दो साल में 4532 स्कूल हुए बंद

आंकड़ों के मुताबिक, राज्य में केवल बीते दो साल में 4532 स्कूल बंद हुए हैं. जबकि ठीक इन्हीं दो साल में 2305 प्राइवेट स्कूल खोलने की अनुमति सरकार ने दी है.

दरअसल, पिछले एक-दो सालों में सरकार ने सरकारी स्कूलों में बच्चों की कमी बताते हुए स्कूलों का विलय कराया. सरकार की योजना के तहत दो सालों में 4532 स्कूलों को विलय कराया गया. विलय के बाद करीब 3700 सरकारी स्कूल बंद हो गये.

स्कूल बंद होने वाले आंकड़े में 100 से 150 की संख्या और जुड़ सकती है, क्योंकि इन स्कूलों को बंद करने की फाइल पर निर्णय लेना बाकी है.

इसे भी पढ़ेंः#JharkhandElection: विक्रम पांडेय को टुंडी से टिकट दिये जाने के बाद BJP किसान मोर्चा के उपाध्यक्ष का इस्तीफा

जिस तर्क के आधार पर सरकार ने सरकारी स्कूलों को बंद करने का निर्णय लिया, वह सवाल खड़े करते हैं. स्कूलों के बंद करने या विलय करने के पीछे सरकार का तर्क था कि सरकारी स्कूलो में बच्चे नहीं मिल रहे हैं. लेकिन इसके ठीक उलट प्राइवेट स्कूलों की संख्या धड़ल्ले से बढ़ी है. प्राइवेट स्कूलों में बच्चे मिल रहे हैं और सरकार बच्चे नहीं मिलने की बात कह स्कूल बंद कर रही है.

स्कूल बंद होने का फायदा सीधे तौर पर निजी स्कूलों का धंधा चलाने वाले लोगों को हुआ. सरकार को जहां छात्र नहीं मिल रहे हैं, वहीं लगातार प्राईवेट स्कूल खुल रहे हैं और उन स्कूलों में छात्रों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. स्कूलों के विलय के बाद राज्य में नये 2305 प्राईवेट स्कूल खोले जा चुके हैं.

इसे भी पढ़ेंःदेश नहीं झुकने दूंगा-देश नहीं बिकने दूंगा कहते-कहते सब बेचते जा रहे

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: