न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#DonaldTrump ने #WorldBank से कहा, चीन के पास है बहुत पैसा,  कर्ज देना बंद करें

ट्रंप ने सोशल मीडिया पर ट्वीट करते हुए लिखा, विश्व बैंक क्यों चीन को लगातार लोन दे रहा है? यह कैसे हो रहा है? चीन के पास बहुत पैसा है, अगर नहीं है तो वो उसे उगा सकते हैं. 

61

Washington : विश्व बैंक चीन को लगातार लोन दे रहा है? यह कैसे हो रहा है? चीन के पास बहुत पैसा है.अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को विश्व बैंक द्वारा चीन को लगातार लोन दिये जाने पर सवाल उठाते हुए इसे तत्काल बंद करने के लिए कहा. ट्रंप ने सोशल मीडिया पर ट्वीट करते हुए लिखा, विश्व बैंक क्यों चीन को लगातार लोन दे रहा है? यह कैसे हो रहा है? चीन के पास बहुत पैसा है, अगर नहीं है तो वो उसे उगा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें :  केंद्र सरकार ने नित्यानंद का पासपोर्ट कैंसल किया, इक्वाडोर ने कहा, खबर झूठी, हमने नहीं दी शरण

Sport House

गरीब देशों को मिलने वाली वित्तीय सहायता पर असर

ट्रंप के इस बयान के बाद दोनों देशों में 18 महीनों से व्यापार युद्ध को लेकर पहले से चल रही तनातनी और बढ़ सकती है. जान लें कि विश्व बैंक पूरे साल चीन को कई सारे कार्यक्रमों को पूरा करने के लिए लोन देता है. विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था को लोन दिये जाने से गरीब देशों को मिलने वाली वित्तीय सहायता पर असर पड़ता है.

व्यापार युद्ध को लेकर भी अभी दोनों देशों के बीच किसी तरह का फैसला नहीं हुआ है. इसका कब एलान होगा, यह किसी को नहीं पता है. विश्व बैंक में चीनी मामलों के निदेशक मार्टिन रेसर ने कहा कि हम आगे चलकर हर प्रोजेक्ट के लिए लोन नहीं देंगे.अमेरिकी सरकार ने गुरुवार को एक कार्यक्रम का अनुमोदन किया है, जिसके तहत चीन को मिलने वाले लोन में कमी की जा सके.

विकास दर 27साल के निचले स्तर पर

पड़ोसी देश चीन की विकास दर 1992 के बाद अपने सबसे निचले स्तर पर पहुंच गयी  है. तीसरी तिमाही में देश की जीडीपी छह फीसदी रही, जो कि दूसरी तिमाही में 6.2 फीसदी थी.अमेरिका के साथ व्यापार युद्ध चलने और सुस्ती के कारण यह कमी देखने को मिली है.

Mayfair 2-1-2020

हालांकि चीन की विकास दर इस साल छह से 6.5 फीसदी रहने का अनुमान है.चीन के राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार देश को आर्थिक मोर्चे पर देश के अंदर ही नहीं बल्कि  विदेश में भी बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.लेकिन इन सबके बावजूद लोगों की जीवन स्थिति में सुधार हुआ है.

ब्यूरो ने कहा है कि अमेरिका के साथ जारी व्यापार युद्ध के कारण विकास दर में गिरावट देखने को मिली है. 2018 में देश की जीडीपी 6.6 फीसदी थी.चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपने अमेरिकी समकक्ष को लिखे एक पत्र में आपसी सम्मान के आधार पर मतभेदों को निपटाने और पारस्परिक लाभ के लिए सहयोग बढ़ाने का अनुरोध किया है. ऐसा इसलिए ताकि चीन-अमेरिकी रिश्तों को सही रास्ते पर लाया जा सके.

इसे भी पढ़ें :  #EconomySlowdown : कुमार मंगलम बिड़ला की नजर में  देश की अर्थव्यवस्था रसातल के करीब पहुंच गयी

 

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like