न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रिम्स में नयी बहाली नहीं होने देंगेः केंद्रीय आदिवासी मोर्चा

केंद्रीय आदिवासी मोर्चा ने किया आदिवासी युवा पंचायत का आयोजन

1,300

Ranchi: बहू बाजार, रांची में आदिवासी युवा पंचायत का आयोजन केंद्रीय आदिवासी मोर्चा के द्वारा किया गया. इसमें खूंटी, रामगढ़, गुमला से युवाओं ने भाग लिया. मुख्य अतिथि श्री बंधु तिर्की ने कहा कि झारखंड और देश अघोषित आपातकाल के दौर से गुजर रहा है. भूमि अधिग्रहण कानून में बदलाव, भूख से हो रही मौत, भीड़ द्वारा लोगों की हत्या, आदिवासी,  दलित,  अल्पसंख्यक और महिलाओं पर बढ़ती हिंसा, सामाजिक, कार्यकर्ता को प्रताड़ना, सरकार द्वारा प्रायोजित अभिव्यक्ति की स्वंत्रता पर हमला, आदिवासियों के पारंपरिक स्वशासन व्यस्था पर हमला हो रहा है. इस मायने में 2019 का चुनाव लोकतंत्र और संविधान के संरक्षण के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है. सत्तापक्ष लोकतंत्र को कमजोर करने मे तुला हुआ है. मौके पर मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष अजय टोप्पो ने कहा कि आदिवासी की स्थित बहुत गंभीर हो गयी है. 36400 एकड़ आदिवासी जमीन को गैर आदिवासी समाज को दे दिया गया. 4000 से भी अधिक दखल दिहानी की जमीन वापस नहीं की गयी. सरकार भूमि अधिग्रहण कानून का उल्लंघन कर पूंजीपतियों को जमीन कौड़ी के भाव में दे रही है.

इसे भी पढ़ेंः JMM ने मुख्यमंत्री और सांसद पर लगाया आचार संहिता उल्लंघन का आरोप

आदिवासी विरोधी है मौजूदा राज्य सरकार

महासचिव अलबिन लकड़ा ने कहा कि वर्तमान स्थानीय नीति रद्द हो. उन्होंने युवाओं से अपील की कि  संगठित होकर आंदोलन करे. आदिवासी समाज को बचाने हेतु एकजुट हों. आदिवासी समाज को विकास के नाम पर ठगने का काम किया जा रहा है. ये हम सहन नहीं करेंगे. मौके पर मोर्चा के संयोजक सुजित कुजूर ने कहा कि सरकार आदिवासी समाज के विरोध में जल, जंगल, जमीन को लूटने का काम कर रही है. आदिवासी के हितों में जो कानून बनाया गया, सरकार उसे तोड़ रही है. मोर्चा के सचिव ने कहा कि अभी जो रिम्स में 362 पद की नियुक्ति निकाली गयी है, उसमें आदिवसियों का पद शून्य है. हम किसी भी कीमत पर यह नियुक्ति नहीं होने देंगे. सबकी सहमति से ये निर्णय लिया गया कि 53 वार्ड,18 प्रखंड में मोर्चा की टीम का गठन किया जायेगा. 2 महीने के बाद राज स्तर का सम्मेलन किया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंः हॉरर किलिंग: परिजनों ने स्नातक छात्रा की हत्या कर शव को जलाया, पिता गिरफ्तार

कार्यक्रम में इनका रहा योगदान

कार्यक्रम को सफल बनाने में मुख्य रूप से राम कुमार नायक, माणिक तिर्की, शिबु तिर्की, आकाश तिर्की, सोनिया तिग्गा, दीपक लकड़ा, अरुण नागेसिया, प्रमोद खलखो नवीन और शशि टूटी आदि के नाम हैं.

इसे भी पढ़ेंः प्रधानमंत्री पकौड़ा बेचने को विवश करने के बाद अब चैकीदार बना रहे हैंः हेमंत सोरेन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: