न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ढूंढे नहीं मिल रहींं डीवीसी बोकारो थर्मल कॉलोनी में सड़कें

20 साल पहले बनी थी कॉलोनी की सभी सड़कें

625

Bermo : बोकारो थर्मल स्थित डीवीसी की आवासीय कॉलोनी में ढूंढने से भी कहीं सड़क नहीं मिल रही है. बीस वर्ष पूर्व बनी कॉलोनी की सड़कों का कहीं नामो निशान नहीं रह गया है. सड़क के अभाव में कॉलोनी में सारे दिन चलने वाले वाहनों से उड़ने वाली धूल से होने वाली प्रदूषण के कारण कॉलोनीवासी, पैदल एवं दोपहिया वाहन चालक खासे परेशान रहते हैं.

इसे भी पढ़ें-रांची में अवैध तत्काल टिकटिंग के खिलाफ आरपीएफ और सीआईबी की टीम ने की छापामारी

कॉलोनी में लोगों का रहना दूभर

स्थानीय डीवीसी की आवासीय कॉलोनी में जीएम, एलसी, एफएम, मुर्गी फार्म, सीएमडी, लेवर क्वार्टर, सिक्स यूनिट टाईप क्वार्टर, निशन हाट, एचएमटी, जीएमटी, एनपीसीसी में कहीं भी सड़क नाम की कोई चीज नहीं रह गयी है. कुछ कॉलोनियों में सड़कों के अवशेष भी नहीं रह गये हैं. सड़क के अभाव में कच्चे रास्ते पर वाहनों के चलने से काफी मात्रा में धूल उड़ती हैं जिसके कारण कॉलोनीवासियों का बाहर में बैठना, खड़ा रहना या धूप में कपड़े सुखाना काफी दूभर हो गया है.

इसे भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव में रिफ्रेशमेंट चाहती है भाजपा, 7 सीट पर नये चेहरे को मैदान में उतारने की कवायद

सड़कों की कभी मरम्मत तक नहीं करवाई गयी

कॉलोनी में रहने वाले कामगारों का कहना है कि बीस वर्ष पूर्व डीवीसी के स्थानीय प्रबंधन द्वारा कॉलोनी के सभी सड़कों को बनवाया गया था. उसके बाद से आजतक कॉलोनी की सड़कों की कभी मरम्मत तक नहीं करवाई गयी है. मरम्मत के नाम पर जब भी सड़कों में बड़े गड्ढे बन जाते हैं. स्थानीय डीवीसी सिविल प्रबंधन उसमें बड़े बोल्डर एवं मिट्टी डलवा देता हैं जो कि और भी जानलेवा हो जाता है. सड़क के अभाव में स्थानीय महावीर मंदिर से पूरे जीएम कॉलोनी पानी टंकी होते हुए संत पॉल स्कूल तक, रेलवे स्टेशन से सिक्स यूनिट तक, डीवीसी जमा दो उच्च विद्यालय से निशन हाट, रेलवे गेट से एचएमटी कॉलोनी तक, बैंक ऑफ इंडिया से रेलवे स्टेशन तक, लेवर क्वार्टर तक की कॉलोनी में कहीं भी सड़क का कोई नामोनिशान नहीं है.

इसे भी पढ़ें-झामुमो ही जनता के समक्ष एकमात्र विकल्प, बूथ स्तर पर हो कार्य : डॉ जावेद अहमद

दो वर्ष पूर्व बनायी गयी थी मेन रोड

लगभग दो वर्ष पूर्व बोकारो थर्मल के मुख्य पथों में से लाल चैक चेक पोस्ट से हॉस्पिटल मोड़ तथा झारखंड चैक से पावर प्लांट गेट तक के सड़क का निर्माण करवाया गया था परंतु कॉलोनी की सड़कों की मरम्मत तक नहीं करवायी गयी थी.

इसे भी पढ़ें-पारा शिक्षकों ने बनायी रणनीति, स्‍थापना दिवस के दिन होगा ‘घेरा डालो-डेरा डालो’

बोकारो थर्मल की उपेक्षा कर रहा है डीवीसी प्रबंधन

डीवीसी एवं सप्लाई मजदूरों के यूनियन प्रतिनिधियों में से सदन सिंह, टीएन सिंह, जानकी महतो, ब्रजकिशोर सिंह, मो शाहजहां, भागीरथ शर्मा, हंसराज प्रसाद, बीके सिंह का कहना है कि डीवीसी के स्थानीय प्रबंधन के साथ-साथ मुख्यालय प्रबंधन के द्वारा बोकारो थर्मल के कामगारों के आवासों एवं कॉलोनियों तथा सड़कों की रख रखाव की पूरी तरह से उपेक्षा की जा रही है.

बोकारो थर्मल पावर प्लांट के द्वारा वर्ष के प्रथम तिमाही में डीवीसी को मुनाफा देने के बाद भी उसका अंशमात्र कॉलोनी के रखरखाव पर खर्च नहीं किया गया. डीवीसी सिविल के विभागीय अधिकारी कहते हैं कि फंड के अभाव में कॉलोनी की सड़कों का निर्माण नहीं करवाया जा रहा है. डीवीसी के स्थानीय डीजीएम पीके सिंह का कहना है कि कॉलोनी के सड़कों के निर्माण के लिए डीवीसी के द्वारा टेंडर करवा लिया गया है और जल्द ही सड़क निर्माण का काम आरंभ किया जाएगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: