न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अपराधियों में पुलिस का खौफ नहीं, थाने के पास ही मार देते हैं किसी को गोली

33

Ranchi : राजधानी रांची में अपराधियों को पुलिस का खौफ नहीं है. अपराधी जब चाहे कहीं भी अपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहे. कभी लूट, तो कभी हत्‍या की घटना को अंजाम दिया जा रहा है. अपराधी के हौसले इतने बुलंद हैं कि सीएम आवास के बाहर हत्‍या की घटना को अंजाम देकर आराम से फरार हो जा रहे हैं. तो कभी पुलिस से ही उनके हथियार छीन कर फरार हो जा रहे हैं. हाल के दिनों में लूट, छिनतई और हत्‍या की कई घटनाएं घटी है. जो भी घटनाएं हुई वो शहर के सबसे व्यस्ततम इलाकों में दिया गया. सभी मामले में पुलिस कार्रवाई भी कर रही है. लेकिन अपराधी हैं कि मानने को तैयार नहीं.एक के बाद बड़ी घटना को अंजमा देकर मजे से निकल जा रहे हैं.

mi banner add

इसे भी पढ़ें –झारखंड में 10 हजार से अधिक वारंटी हैं फरार, पुलिस नहीं कर पा रही है गिरफ्तार

रांची में अपराधियों का हौसला बुलंद

अपराधियों ने हाल के दिनों में जिस तरीके से शहर के व्यस्ततम इलाके में हत्या की घटना का अंजाम दिया है. शहर की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़ा होने लगे हैं. रांची में अपराधियों का हौसला इतना बुलंद इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अपराधी थाना के सामने हत्या कर आसानी से निकल जाते हैं. पिछले दिनों एसपीओ बुधु दास की हत्या गोंदा थाना से महज 100 मीटर की दूरी पर कर दी गयी थी. 4 नवंबर को अपराधियों ने कुख्यात अपराधी सोनू इमरोज की हत्या डेली मार्केट थाना से 50 मीटर की दूरी पर कर दी.

इसे भी पढ़ें –पलामू : टीपीसी के तीन समर्थक हथियार के साथ गिरफ्तार

Related Posts

गिरिडीह : बार-बार ड्रेस बदलकर सामने आ रही थी महिलायें, बच्चा चोर समझ लोगों ने घेरा

पुलिस ने पूछताछ की तो उन महिलाओं ने खुद को राजस्थान की निवासी बताया और कहा कि वे वहां सूखा पड़ जाने के कारण इस क्षेत्र में भीख मांगने आयी हैं

हाल के दिनों में हुई कुछ ऐसी हत्याएं जिससे शहर की कानून व्यवस्था पर सवाल उठने लगे हैं :

5 अक्टूबर को चावल व्यवसायी नरेंद्र सिंह होरा की हत्‍या अपराधियों ने राजधानी रांची के मेन रोड में गोली मार कर कर दी गई थी.

7 सितंबर को शहर के वीआईपी एरिया सीएम आवास कांके रोड में एसपीओ बुधु दास की गोली मार कर हत्या.

पॉश एरिया कांके रोड में अज्ञात अपराधियों ने पुलिसकर्मी से राइफल छीनकर भाग गया था. लेकिन फिर राइफल छोड़कर अपराधी फरार हो गए थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: