न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दो साल में भी नहीं बदली अग्निशमन विभाग की हालत, मैन पावर की कमी बरकरार  

55

Ranchi : : गर्मी आते ही राजधानी रांची सहित राज्य के 24 जिलो में अगलगी की घटनायें बढ़ी हैं. ऐसे में आग पर काबू पाने के लिए लोग अग्निशमन विभाग का सहारा लेते हैं. लेकिन इन दिनों अग्निशमन विभाग को खुद सहारे की जरूरत है. क्योंकि इन दिनों अग्निशमन विभाग मैन पावर की कमी से जूझ रहा है.

हालांकि दो साल पहले भी विभाग में हालात ऐसे ही थे. डोरंडा स्थित अग्निशमन विभाग की ओर कई बार सरकार को रिक्तियों के लिए प्रस्ताव भी भेजा गया, लेकिन अब तक इसे भरा नहीं जा सका है. हालात ये है कि राज्य में एक भी फायर स्टेशन पदाधिकारी नहीं हैं, जबकि इसके लिए 44 पद स्वीकृत किये जा चुके हैं. इन दो सालों में मुश्किल से दो या तीन बहालियां ही हो पायी हैं.

इसे भी पढ़ें – झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल और प्रदीप यादव राज्य के लिये हैं कोढ़ः सीएम

 433 कर्मियों के भरोसे चल रहा है अग्निशमन विभाग

झारखंड अग्निशमन विभाग में कर्मचारी और पदाधिकारी के कुल 875 पद स्वीकृत हैं. जबकि विभाग में 433 पदाधिकारियों और कर्मचारियों के भरोसे ही काम चल रहा है. यानी विभाग के पास आज भी आधे से ज्यादा 442 कर्मचारियों की कमी है. आधारभूत संरचना तो पर्याप्त है, लेकिन एक्सपर्ट की कमी है. साथ ही जो मैनपावर मौजूद है, वो एग्जिस्टिंग सिस्टम का हिस्सा बन चुके हैं. इससे साफ जाहिर होता है कि अग्निशमन विभाग जुगाड़ के भरोसे चल रहा है.

झारखंड के अन्य जिलों में कर्मचारियों की कमी

झारखंड में रांची, गिरिडीह, डालटनगंज, जमशेदपुर के गोलमुरी, मानगो, बहरागोड़ा, सरायकेला, आदित्यपुर चांडिल, बोकारो, गढ़वा, कोडरमा, धनबाद के झरिया और सिंदरी, चाईबासा, चतरा, लातेहार, गुमला, दुमका, गोड्डा, हजारीबाग, बरही, देवघर, साहिबगंज, पाकुड़, लोहरदगा, सिमडेगा, जामताड़ा, रामगढ़, खूंटी, चास और हुसैनाबाद में फायर स्टेशन हैं. साथ ही जमशेदपुर के सोनारी हवाई अड्डा और तेनुघाट बोकारो में भी फायर ब्रिगेड की सुविधा है, लेकिन इन सभी जगहों पर भी कर्मचारियों की कमी है.

70 फीसदी बहुमंजिली इमारतों में फायर फाइटिंग की बेहतर सुविधाएं नहीं

झारखंड की राजधानी रांची के सहित 24 जिले के 70 फीसदी बहुमंजिली इमारतों में फायर फाइटिंग की बेहतर सुविधाएं नहीं हैं. नगर विकास विभाग की ओर से बिल्डिंग बाईलॉज में यह स्पष्ट भी है कि जिस भवन की ऊंचाई 15 मीटर या इससे अधिक है, इसके अलावा जिस इमारत के ग्राउंड फ्लोर की लंबाई, चौड़ाई 500 वर्ग मीटर से ज्यादा है.

वहां फायर फाइटिंग की बेहतर और वैकल्पिक सुविधाएं देना जरूरी है. लेकिन बिल्डिंग बाइलॉज के नियम का राजधानी में अनुपालन नहीं हो रहा है और ना ही अन्य जिले भी इसका पालन कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – PM मोदी 15 मई को देवघर में करेंगे जनसभा, पांच IPS व 37 DSP संभालेंगे सुरक्षा की कमान

पद का नाम और स्वीकृत पद और मैन पावर की कमी

झारखंड अग्निशमन विभाग के द्वारा मिले आंकड़ों के अनुसार, राज्य अग्निशमन पदाधिकारी के लिए स्वीकृत पद 1 है. लेकिन इस पर फिलहाल कोई भी अधिकारी तैनात नहीं हैं. अपर अग्निशमन पदाधिकारी के 2 पद हैं और दोनों ही खाली हैं. प्रमंडलीय अग्निशमन पदाधिकारी के 6 पद हैं, लेकिन सभी पद वर्तमान में खाली हैं. अग्निशमन अधिकारी के 12 पद हैं, जिसपर वर्तमान में मात्र एक ही अग्निशमन अधिकारी हैं. जबकि 11 पद खाली हैं.

SMILE

फायर स्टेशन अफसर के 44 पद हैं, यहां भी सभी पद वर्तमान में रिक्त हैं. सब फायर स्टेशन अफसर के 44 पद हैं,  जिसमें वर्तमान में 34 कर्मचारी काम कर रहे हैं. यहां भी 10 पद खाली हैं. प्रधान अग्नि चालक के 221 पद हैं, जिसमें 151 वर्तमान में काम कर रहे हैं, जबकि 70 पद रिक्त हैं.

जबकि अग्नि चालक के 502 पद हैं, जिनमें फिलहाल 235 काम कर रहे हैं, 267 पद रिक्त हैं. स्टेनो सह कंप्यूटर ऑपरेटर के 8 पद हैं. सभी आठों पद वर्तमान में रिक्त हैं.

प्रधान लिपिक से लेखापाल के दो पद हैं. दोनों पद वर्तमान में खाली हैं. एलडीसी के 15 पद हैं, जिसमें से 6 पर वर्तमान में लोग काम कर रहे हैं, जबकि यहां 9 पद रिक्त हैं. आदेशपाल के 18 पद हैं, जिसमें में से मात्र दो ही लोग काम कर रहे हैं, जबकि 16 पद रिक्त हैं.

इसे भी पढ़ें –

हाल के दिनों में हुई अगलगी की घटना

22 मार्च 2019 – ओरमांझी थाना के पास बीएसएनएल टावर कैंपस में देर रात करीब 1.15 बजे भीषण आग लग गयी थी. कैंपस में रखे ऑप्टिकल फाइबर केबल और कवर पाइपों के बंडल में आग लग गयी थी.

28 मार्च 2019- चान्हो थाना क्षेत्र के चटवल गांव में भीषण आग लग गयी. इस भीषण आग में चटवल गांव के रहने वाले मोहम्मद जसीम का घर जल गया. आग लगने के कारण करीब आठ लाख रुपये से अधिक की संपत्ति जल गयी.

1 अप्रैल 2019-  कांटाटोली स्थित यूएनआइ हाइट्स नाम की एक कॉमर्शियल बिल्डिंग के चौथे तल्ले पर आग लग गयी. जिसमें लाखों की संपत्ति समेत कई महत्वपूर्ण कागजात जलकर खाक हो गये.

9 मई 2019-  हिनू स्थित आनंद प्लाजा में आग लगी. जिसके कारण थोड़ी देर के लिए अफरा-तफरी का माहौल बन गया था. शॉर्ट सर्किट के कारण आग लगी थी.

11 मई मांडर – थाना क्षेत्र के जोलहाटोली में एक घर में शॉट सर्किट से आग लग गयी. बिसहाखटनगा पंचायत क्षेत्र में हुये इस हादसे में एक महिला (25 वर्ष) पंछी उराईन और उसके पुत्र अनुदीप उरांव (4 साल) की जलने से मौत हो गयी थी.

इसे भी पढ़ें – NEWS WING IMPACT: जांच दल पहुंचा पीड़ित ईसाई परिवारों से मिलने, ग्रामसभा के फैसलों को किया निरस्त,…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: