न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

6000 विद्यालयों का विलय सरकार का उचित निर्णय नहीं: एनएसयूआई

156

Ranchi: एनएसयूआई की ओर से गरूवार को प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया. से संबोधित करते हुए एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने कहा कि राज्य में विद्यालयों के विलय के क्रम में लगभग 6000 विद्यालयों को या तो बंद किया गया या विलय कर दिया गया है. विद्यालय विलय का निर्णय लेना उचित नहीं है. सरकार को शिक्षा जन-जन तक पहुंचाने की योजना बनानी चाहिये, लेकिन सरकार विद्यालयों का विलय कर ग्रामीण क्षेत्रों से विद्यालयों को दूर करने की साजिश कर रही है. राज्य सरकार ने ऐसा करके राज्य की शैक्षणिक वातावरण को क्षीण करने का काम किया है.

इसे भी पढ़ें: बिजली कंपनी में ताबड़तोड़ तबादला, चीफ इंजीनियर सहित 33 इंजीनियर इधर से उधर

11 वर्षों से एक भी जेटेट परीक्षा का आयोजन नहीं

इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि पिछले 11 वर्षों से राज्य सरकार की ओर से एक भी झारखंड पात्रता परीक्षा आयोजित नहीं की गयी. जिससे युवाओं में निराशा और आक्रोश है. वहीं जेपीएससी द्वारा वर्तमान में असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए निकाली गयी विज्ञापन में भी कई तरह की त्रुटियां पाई गयी है. जिसे लेकर अभ्यर्थी लगातार आवाज उठा रहे हैं. वक्ताओं ने कहा कि राज्य में ऐसी स्थिति होने पर लोग शिक्षित कैसे होंगे यह विचारनीय है.

इसे भी पढ़ें: बोकारो: कैसे बढ़े किसानों की दोगुनी आय, जब सिंचाई व्यवस्था ही हो जाये फेल

विद्यालयों में अभी भी नहीं शिक्षक

विद्यालयों में शिक्षक नियुक्ति मामले का जिक्र करते हुए वक्ताओं ने कहा कि 102 स्कूलों में पढ़ाये जाने वाले 25 विषयों में से 14 विषयों के पदों पर उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद अब तक शिक्षकों का पदसृजन व नियुक्ति प्रक्रिया शुरू नहीं की गयी है. जो काफी दुर्भाग्यपूर्ण है.

इसे भी पढ़ें: न्यूनतम बैलेंस का खेलः चार साल में बैंकों ने वसूले 11,500 करोड़

सीबीसीएस का अनुपालन नहीं

इस दौरान बताया गया कि राज्य में सीबीसीएस का सही से अनुपालन नहीं किये जाने की वजह से विवि के शैक्षणिक सत्र काफी विलंब से चल रहे हैं. परीक्षा तथा परिणाम के नियत समय पर ना होने की वजह से छात्रों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर झारखंड सरकार ने भी छोड़े टैक्स के 2.50 रुपये, दाम में कुल पांच रुपये की आयी कमी

शैक्षणिक व्यवस्था ध्वस्त कर रही सरकार

राष्ट्रीय मीडिया संयोजक अभिनव भगत ने कहा कि रघुवर सरकार विद्यालयों को बंद करा कर शराब की दुकानें खुलवा कर कैसा विकास करना चाह रही है. सुदूर गांव में विद्यालयों के बंद होने से राज्य की साक्षरता दर में गिरावट तय है.

इसे भी पढ़ें: साइबर अपराधियों के गैंग में शामिल हो रहे हैं आईटीआई और पॉलिटेक्निक के छात्र

शिक्षा खोज यात्रा निकाली जायेगी

प्रदेश अध्यक्ष सैयद आमिर हाशमी ने कहा कि 5 अक्टूबर को राज्य के तमाम जिलों में एनएसयूआई की जिला कमेटी की ओर से बेहतर शिक्षा की खोज यात्रा निकाली जायेगी. राजधानी रांची में भी शुक्रवार की शाम को सरकार के खलिाफ बेहतर शिक्षा की खोज यात्रा निकाली जाएगी. संवाददाता सम्मेलन में एनएसयूआई के राष्ट्रीय मीडिया संयोजक अभिनव भगत, प्रदेश अध्यक्ष सैयद आमिर हाशमी, प्रदेश उपाध्यक्ष इंद्रजीत सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष ओम प्रकाश मिश्रा, रांची जिला अध्यक्ष विक्की कुमार, राष्ट्रीय प्रतिनिधि विवेक सिंह, जिला महासचिव जैद अहमद शामिल थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: