JharkhandRanchi

दूरगामी योजना बनाकर करें विकास कार्य, सरकार, एनजीओ और औद्योगिक घरानों के बीच समन्वय जरूरी: मरांडी

बोले बाबूलाल :

  • औद्योगिक घरानों को सीएसआर के तहत राशि खर्च करने में ईमानदार पहल करनी चाहिए
  • एसोचैम की ओर से राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया

Ranchi: समग्र विकास के लिए सरकारी और गैर सरकारी संस्थाओं के बीच समन्वय काफी जरूरी है. इस विकास में आम जन तक की भागीदारी होनी चाहिए. सामूहिक भागीदारी के साथ ही विकास संभव है.

Jharkhand Rai

उक्त बातें धनवार विधायक बाबूलाल मरांडी ने कही. वे शुक्रवार को एसोसिएट चेंबर ऑफ कॉमर्स (एसोचैम) की ओर से आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार को संबोधित कर रहे थे.

इस दौरान उन्होंने कहा कि कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटीज (सीएसआर) के तहत सरकारी और गैर सरकारी संस्थाओं को समाज के प्रति विशेष रूप से जुड़ाव रखने की जरूरत है. इसमें औद्योगिक घरानों की भूमिका भी अहम होती है.

उन्होंने कहा कि अमूमन यह देखा जाता है सीएसआर फंड का काफी दुरुपयोग हो जाता है. ऐसे में यह ध्यान रखा जाना चाहिए कि ऐसे फंड का सही उपयोग हो और आम जन के लिए हो. इस दौरान सीएसआर में बेहतर काम करने वाली संस्थाओं को सम्मानित भी किया गया.

Samford

इसे भी पढ़ें : पलामू: 11 साल का हुआ नीलाम्बर-पीताम्बर विश्वविद्यालय, अब भी बुनियादी सुविधाओं का है अभाव  

दूरगामी योजना बनाकर करें विकास

इस दौरान मरांडी ने कहा कि दूरगामी योजनाएं बनाकर सामाजिक विकास के क्षेत्र में ईमानदार पहल करें, ताकि समाज आगे बढ़े. सरकार के साथ मिलकर गैर सरकारी संस्थान ऐसी योजनाएं बनायें जिससे समाजिक विकास को गति मिले.

उन्होंने कहा कि शिक्षा, कृषि, पशुपालन आदि के क्षेत्र में सीएसआर के तहत विशेष योजनाएं बनाकर कार्य किया जाये, तो उसका सकारात्मक परिणाम सामने आयेगा. साथ ही समाज का सर्वांगीण विकास संभव हो सकेगा. सरकारी स्तर के अलावा गैर सरकारी स्तर पर भी सबों की सहभागिता जरूरी है.

इसे भी पढ़ें : #JREDA को नहीं मिल रहे सोलर पंप लेने वाले किसान, रुकी है कुसुम योजना, बढ़ रही परेशानी 

औद्योगिक घराने करें ईमानदार पहल

वहीं इस दौरान गढ़वा विधायक मिथिलेश कुमार ठाकुर ने कहा कि औद्योगिक घरानों को सीएसआर के तहत राशि खर्च करने में ईमानदार पहल करनी चाहिए.

ईमानदारी और समर्पण के भाव से कार्य हो, तो समाज का सर्वांगीण विकास संभव हो सकेगा. इसमें इस बात को ध्यान देना चाहिए कि जिस वर्ग विशेष के लिये ये योजनाएं बन रही है, उसका लाभ मिलें.

वहीं उद्योग विभाग के निदेशक कृपानंद झा ने कहा कि औद्योगिक विकास के लिए सामूहिक प्रयास जरूरी है. सरकार के साथ समन्वय स्थापित कर ऐसी नीतियां बनायी जानी चाहिए जिससे सभी को समान लाभ मिले.

इसे भी पढ़ें : गर्मी से पहले चरमरायी बिजली व्यवस्था सिकिदरी प्लांट बंद, #TTPS में कम हो रहा उत्पादन

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: