JharkhandRanchi

DMFT : 2020 में अक्टूबर तक मिले मात्र 2273 करोड़, पिछले साल भी पूरा नहीं हुआ था लक्ष्य

Ranchi :माइनिंग इलाकों के विकास कार्यों में खर्च के लिए डीएमएफटी (District mineral foundation trust) फंड का इस्तेमाल किया जाता है. यह फंड विभिन्न जिलों में माइनिंग का काम कर रही कंपनियों से जिला प्रशासन को मिलता है. इस फंड की राशि से माइनिंग एरिया में रह रहे लोगों के डेवलपमेंट का काम किया जाता है. लेकिन इस फंड में मिलने वाली राशि में बीते साल भी कमी आयी थी. वहीं इस साल भी कमी देखी गयी है. इस साल मार्च से लेकर अक्टूबर तक केवल 2273 करोड़ रूपये ही फंड में आये हैं. कंपनियों का कहना है कि इस साल कोरोना के कारण काम प्रभावित हुआ है जिस कारण फंड में कमी आयी है.

इसे भी पढ़ें- बड़ी समस्याः झारखंड में हर पांचवां युवा बेरोजगार, कुल 8,65,764 रजिस्टर्ड बेरोजगार

2019 में भी नहीं पूरा हुआ था लक्ष्य

केंद्र सरकार ने इस योजना की शुरुआत 2015 में की थी. इस फंड का इस्तेमाल जिला प्रशासन की ओर से किया जाता है. डीएमएफटी को मिलने वाले हर साल के फंड में इस साल भारी कमी देखी जा रही है. 2019 में भी डीएमएफटी ने अपने लक्ष्य को पूरा नहीं किया था. 2019 की बात करें तो इस साल 8500 करोड़ रुपये का लक्ष्य तय किया गया था. लेकिन 1670 करोड़ रुपये ही फंड में जमा किये जा सके .

कोरोना के कारण प्रभावित हुई माइनिंग 

2019 में मार्च से अक्टूबर के बीच लगभग 2750 करोड़ रुपये जिलों ने कलेक्ट किये थे. जबकि साल 2020 (मार्च से अक्टूबर) तक में 2273 करोड़ रुपये फंड में मिला. बीते साल इन्हीं महीनों की तुलना में यह राशि 477 करोड़ रुपये कम है. खान विभाग की मानें तो कोरोना को लेकर माइनिंग प्रभावित हुई है. इसके पीछे का मुख्य कारण मजदूरों की उपलब्धता और वाहनों के आवाजाही में होने वाली परेशानी है. यही कारण है कि डीएमएफटी फंड मिलने में परेशानी आयी है. साल 2019 के वित्तीय वर्ष के शुरुआती महीना अप्रैल में 111 करोड़ का फंड मिला था, वहीं साल 2020 में यह फंड केवल 92 करोड़ रुपये का है.

इसे भी पढ़ें- चीन को भारत का करारा जवाब, चीनी नागरिकों की भारत यात्रा पर प्रतिबंध

रॉयल्टी का 30 फीसदी जाता है फंड में

डीएमएफटी फंड के तहत खनन से मिलने वाली  रॉयल्टी का 30 फीसदी लिया जाता है. इस फंड से पेयजल आपूर्ति, पर्यावरण संरक्षण, स्वास्थ्य सुविधा, शिक्षा सुविधा, महिला एवं बाल कल्याण, कौशल विकास, स्वच्छता, मॉडल आंगनबाड़ी, विद्यालय भवन द्वारा निर्माण कार्य किये जाते हैं. इस साल मार्च से कुछ जिलों में फंड कलेक्ट ही नहीं किया गया. मार्च से लेकर अक्टूबर तक में दुमका, गढ़वा, जामताड़ा, गिरिडीह, सिमडेगा और खूंटी जिलों से फंड जमा नहीं किया गया.

इसे भी पढ़ें- छुट्टियां मनाने से नहीं चूकते राहुल: एक बार फिर नया साल मनाने नानी के घर इटली रवाना

2019 और 2020 में  महीना-दर-महीना कमाई का अंतर  

 

महीना20192020

 

मार्च241

 

241
अप्रैल

 

11192
मई151

 

100
जून177125
जुलाई188155
अगस्त205165
सितंबर194192
अक्टूबर168176
नवंबर179176
दिसंबर194

 

803

(राशि करोड़ में)

 

इसे भी पढ़ें- नहीं रहे हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज विक्रमादित्य, सुबह 3:15 में ली आखिरी सांस

 

 

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: