JharkhandRanchi

गुरु गोविंद सिंह के 354वें प्रकाश पर्व पर गुरुद्वारा में सजा दीवान

Ranchi : राजधानी के कृष्णा नगर कॉलोनी स्थित गुरुद्वारा साहिब में श्री गुरु गोबिन्द सिंह महाराज के 354वें प्रकाश पर्व के अवसर पर सुबह विशेष दीवान सजाया गया.

दीवान की शुरुआत स्त्री सत्संग सभा की शीतल मुंजाल द्वारा “राजन के राजा महाराजन के राजा तुम हो…” एवं ” वह परगटयो पूरख भगवंत रूप गुर गोबिन्द सूरा…” शबद गायन से हुई. मुख्य ग्रन्थी ज्ञानी जेवेन्दर सिंह ने कथावाचन कर गुरुगोविंद सिंह की जीवनी पर प्रकाश डालते हुए बताया कि उन्होंने खालसा का सृजन किया तथा उनके बलिदान को लोगों के लिए प्रेरणा बताया.

हजुरी रागी जत्था भाई महिपाल सिंह एवं साथियों ने “कृपा कर श्याम इहे बार दीजै…” एवं ” मेरा वैद्य गुरु गोविंदा हर हर नाम औखद मुख देवे काटे जम की फंदा…” एवं ‘ इन्हीं की कृपा के सजे हम हैं नहीं मो से गरीब करोर परे…’ तथा ” जो मांगे ठाकुर अपने ते सोई सोई देवै…” शबद गायन कर संगत को निहाल किया. उन्होंने उपस्थित साध संगत को वाहेगुरु का जाप भी कराया. सत्संग सभा के महासचिव रामकृष्ण मिढा ने साध संगत को प्रकाश पर्व की बधाई दी.

इसे भी पढ़ें- 32 आदिवासी संगठनों की कोर कमेटी ने किया ऐलान, सरना कोड नहीं मिला तो झारखंड, छत्तीसगढ़ सहित चार राज्यों में करेंगे चक्का जाम

श्री अनंद साहिब के पाठ, अरदास, हुक्मनामा एवं कढ़ाह प्रसाद वितरण के साथ सुबह के दीवान की समाप्ति हुई. इस मौके पर लंगर भी चलाया गया.

विशेष दीवान में द्वारका दास मुंजाल, हरगोविंद सिंह, अर्जुन मिढा, सूंदर दास मिढा, अमरजीत गिरधर, लेखराज अरोड़ा, महेश सुखीजा, इंदर मिढा, रमेश पपनेजा, लक्ष्मण दास मिढा, पवनजीत खत्री, प्रेम मिढा, रमेश गिरधर, प्रेम सुखीजा, वेद प्रकाश मिढा, अशोक मुंजाल, सुभाष मिढा, हरजीत बेदी, अजय धमीजा, जितेंद्र मुंजाल, हरजीत अरोड़ा, गुलशन मिढा, सुरजीत मुंजाल, अनूप गिरधर, हरीश मिढा, मोहन काठपाल, मोहन लाल अरोड़ा, नीरज गखड़, कवलजीत मिढा, जीतू काठपाल, सुरेश सरदाना, कमल अरोड़ा, राकेश गिरधर, अमन डावरा, गौरव मिढा, ज्ञान दुआ, मनीष गिरधर, गीता कटारिया, बीबी प्रीतम कौर, तीर्थी काठपालिया, बंसी मल्होत्रा, मंजीत कौर, नीता मिढा, इंदु पपनेजा, रेशमा गिरधर, उषा झंडई, बेबी मुंजाल, खुशबू मिढा, ममता थरेजा, रानी तलेजा, गूंज काठपाल समेत अन्य शामिल हुए.

सभा के मीडिया प्रभारी नरेश पपनेजा ने बताया कि लंगर की सेवा में अशोक गेरा, अर्जुन दास मिढा, सुरेश मिढा, चरणजीत मुंजाल, अनूप गिरधर, हरीश मिढा, बिनोद सुखीजा, राजकुमार सुखीजा एवं स्त्री सत्संग सभा की महिला श्रद्धालुओं तथा जोड़े की सेवा में बसंत काठपाल, प्रेम मिढा, लक्ष्मण अरोड़ा, सरदाना, गीता मिढा, उर्वशी अरोड़ा की उल्लेखनीय भागीदारी रही.

इसे भी पढ़ें- हेमंत सरकार में श्रम, नियोजन और कौशल विकास विभाग बना ‘शर्म नियोजन’ : भाजपा

Related Articles

Back to top button