न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मिट्टी के दीयों से सजा बाजार, जगह-जगह लगा है दिवाली बाजार

52

Chhaya

Ranchi: दीयों का त्यौहार दिवाली को अब कुछ ही दिन रह गये हैं. बाजार में हर ओर इसकी रौनक देखी जा रही है. राजधानी के अधिकांश चौक चौराहों में दिवाली के बाजार सज गये हैं. जहां अलग-अलग तरह के दीयें, रंगोली, खिलौने समेत अन्य सजावटी सामान मिल रहे हैं. दिवाली को देखते हुए इस बार बाजार में काफी कुछ नया है. पारंपरिक दीयों के साथ ही कई सजावटी दीये भी मिल रहे हैं. राजधानी के विभिन्न दुकानदारों ने बताया कि दिवाली के दो सप्ताह पूर्व से ही लोगों की खरीदारी शुरू हो जाती है. ऐसे में बाजार की तैयारी पहले से की जाती है.

इसे भी पढ़ें: महागठबंधन की कवायद तेज, नायडू ने शरद पवार और फारुक अब्दुल्ला से की मुलाकात

मैजिक से लेकर स्टैंड वाले दीये तक

बाजार में इस साल काफी अलग-अलग तरह के मिट्टी के दीये हैं. जिसमें पारंपरिक दीया सौ रुपये सैकड़ा है, डिजाइनर सिंगल दीया तीन रुपये पीस, बड़ा दीया डिजाइन वाले दस रुपये पीस, मैजिक दीया 40 रुपये, स्टैंड दीया 60 रुपये पीस, ढक्कन वाले दीये 80 रुपये पीस हैं.

इसे भी पढ़ें: बिजली नहीं होने के कारण अधर में लटका रिम्स हॉस्टल का निर्माण कार्य

रंगोली दीया और कलश भी

दिवाली के दिन रंगोली बनाना हर किसी को पसंद है. बाजार में इसके लिये भी अलग से दीये हैं. अलग-अलग डिजाइन वाले रंगोली दीया बाजार में मिल रहे हैं. जो स्वास्तिक, ओम आदि डिजाइनों में हैं. इन दीयों में पांच से लेकर 21 दीयों के सेट हैं. इनमें कई दीयों में कलश भी बने हैं. इनकी कीमत 60 रुपये से 200 रुपये तक है.

हर आकार के गणेश-लक्ष्मी

बाजार में गणेश-लक्ष्मी हर आकार के मिल रहे हैं. छोटे आकार के गणेश-लक्ष्मी 40 रुपये में उपलब्ध है. वहीं बाजार में सजे हुए गणेश-लक्ष्मी भी मिल रहे हैं. जिन्हें स्टोन मोती आदि से सजाया गया है. बाजार में 850 रुपये तक के गणेश-लक्ष्मी है. बाजार में छोटे आकार के कुबेर भी मिल रहे हैं, जिनकी कीमत 40 रुपये है.

इसे भी पढ़ें: कोई तो ले लो इनके दीये, इन्हें भी मनानी है दिवाली

मिट्टी के खिलौने भी

मिट्टी के खिलौनों के साथ बने बनाये घरौंदा भी बाजार में मिल रहे हैं. खिलौनों में हाथी, घोड़ा आदि तो वहीं घरौंदा में दो तल के घर मिल रहे हैं. खिलौनों की कीमत पंद्रह रुपये प्रति पीस है.

इसे भी पढ़ें: राज्य के 60 फीसदी कॉलेज रूसा के अनुदान से वंचित, इन कॉलेजों के पास नहीं है अपनी जमीन

बाजार में दिख रही तेजी

पुरानी रांची स्थित छोटानागपुर टेराकोटा शिल्प के संचालक जगदीश प्रजापति ने बताया कि बाजार में इस बार मिट्टी के दीयों के लिए लोगों में रूझान देखा जा रहा है. पिछले कुछ सालों से कृत्रिम लाइटों को लोग अधिक महत्व दे रहे थे, लेकिन इस बार दिवाली के दो सप्ताह पूर्व से ही दीयें समेत अन्य मिट्टी के सामानों की खरीदारी शुरू हो चुकी है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: