न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आंगनबाड़ी सेविका, सहायिका, पारंपरिक ग्रामप्रधानों को सरकार का दीवाली गिफ्ट, मिलेगा बढ़ा हुआ मानदेय

झारखंड कैबिनेट की बैठक में लिये गये कई फैसले

275

Ranchi: सरकार ने सेविका, सहायिका, आंगनबाड़ी सेविका, मानकी, ग्राम प्रधान और मुंडा को दीवाली गिफ्ट दिया है. सोमवार को हुई कैबिनेट की बैठक में इन सभी के वेतनमान में वृद्धि की गयी है. सीएम रघुवर की कैबिनेट में कुल 16 प्रस्तावों पर मुहर लगी है. धनतेरस पर झारखंड की रघुवर सरकार ने धन वर्षा की है. अब मानकी को 3000, ग्राम प्रधान को 2000 और मुंडा को 2000 दिया जायेगा. इसके अलावा अन्य श्रेणी के सामाजिक और प्रशासनिक कार्य करनेवाले लोगों को सरकार ने सुविधा दी है. सामाजिक और प्रशासनिक कार्य करनेवाले लोगों को एक हजार रुपए सम्मान राशि दिये जाने का निर्णय सरकार ने लिया है. सरकार ने आंगनबाड़ी सेविका, सहायिका और लघु आंगनबाड़ी सेविकाओं को दीपावली का तोहफा दिया है. सरकार ने इन तीनों के मानदेय में वृद्धि और इंसेंटिव में वृद्धि की है. सेविका के मानदेय में 1500 रुपये की वृद्धि की है. वहीं सहायिका के मानदेय में 750 और लघु आंगनबाड़ी सेविका के मानदेय में 1250 रुपए की वृद्धि की है.

इसे भी पढ़ें – महाधिवक्ता के गलत तथ्य से HC ने शाह ब्रदर्स को किस्तो में बकाया लौटाने को कहा था, अब सरकार ने महाधिवक्ता से कहा कोर्ट से करें पुनर्विचार का अनुरोध

 

बिरसा मुंडा संग्रहालय के लए 3.57 करोड़ की स्वीकृति

झारखंड कैबिनेट की बैठक में नगर विकास विभाग के प्रस्ताव को भी मंजूरी मिली है. सरकार ने पुराने बिरसा मुंडा जेल परिसर में बननेवाले संग्रहालय के लिए 3 करोड़ 57 लाख 28 हजार रुपए की स्वीकृति दी. यहां भगवान बिरसा मुंडा की 25 फीट ऊंची प्रतिमा लगाई जायेगी. इसके अलावा झारखंड के 10 अन्य शहीदों की प्रतिमाएं भी लगाई जाएंगी.

इसे भी पढ़ें – सरकार का दावा- लैंड बैंक में 1189134 एकड़ जमीन, फिर भी लटके हैं बड़े प्रोजेक्ट

एक लाख रुपये की सहायता राशि

कैबिनेट ने कल्याण विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए एसटी-एससी के वैसे छात्र-छात्राएं जो संघ लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा में उत्तीर्ण हुए हैं, उन्हें मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार के लिए प्रोत्साहित करेगी. इसके लिए सरकार ने एक लाख रुपए सहायता राशि देने की घोषणा की है. सरकार ने इसके लिए शर्त रखी है कि लाभ पानेवाले विद्यार्थियों को झारखंड से इंटर और स्नातक होना आवश्यक है. सरकार ने कल्याण विभाग का नाम भी बदला है. कल्याण विभाग का नया नाम अनुसूचित जाति, जनजाति पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक कल्याण विभाग होगा. केन्द्र के अनुरूप नाम बदला गया है.

इसे भी पढ़ें – स्टैचू ऑफ यूनिटी से विस्थापित हुए आदिवासियों ने सरकार को सौंपा ज्ञापन

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: