न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बिजली को लेकर धनबाद से मैथन तक प्रदर्शन, डीवीसी का किया घेराव

डीवीसी का घेराव कर सौंपा ज्ञापन कहा, बिजली दे अन्यथा अधिकारियों की भी काटी जाएगी बिजली

121

Dhanbad : पिछले कई माह से बिजली संकट झेल रहे कोयलांचलवासियों का गुस्सा गुरुवार को सड़क पर देखने को मिला. निरसा विधायक अरूप चटर्जी, झारखंड पेट्रोलियम डीलर एसोसिएशन, जिला चैंबर ऑफ कॉमर्स सहित गैर राजनीतिक संगठनों के अलावा सैकड़ों की संख्या में आम लोगों ने रणधीर वर्मा चौक पर सरकार के खिलाफ एक दिवसीय धरना देते हुए जमकर प्रदर्शन किया. इसके बाद सैकड़ों की संख्या में लोग डीवीसी एवं मैथन प्रोजेक्ट का घेरावकर ज्ञापन सौंपा. मौके पर विधायक अरुण चटर्जी  ने कहा कि पिछले कई महीनों से जिले में 12 से 14 घंटे तक बिजली की कटौती जारी है. राज्य सरकार इस पर कोई ध्यान नहीं दे रही है.  झारखंड की कोयला से पूरा देश रोशनी के उजाले में जी रहे हैं और यहां की जनता कोयले की कालिख जैसे अंधेरे में अपनी रातें गुजारने को विवश है.

इसे भी पढ़ें-करोड़ों के मुआवजे पर दलालों की नजर, पहले भी खाते से निकाले जा चुके हैं 1.2 करोड़

बिजली के कारण पानी भी लोगों का मिलना मुश्किल

साथ ही कहा कि  बिजली की लचर व्यवस्था के खिलाफ भाजपा छोड़ अन्य राजनीतिक पार्टियों ने भी आंदोलन कर रही है. फिर भी सरकार कोई ठोस कदम नहीं उठा पा रही है. उन्होंने लोगों से अपील की है कि यदि सरकार 24 घंटे बिजली नहीं देती  है तो बिजली बिल का भुगतान नहीं करें.

वहीं जिप सदस्य अशोक सिंह ने कहा कि बिजली के कारण पानी भी लोगों का मिलना मुश्किल हो गया है फिर भी सरकार कुंभकर्ण का नींद सोई हुई है. रघुवर सरकार जनता के बीच जब वह अपनी भाषण देते हैं तो चिल्ला चिल्ला कर कहते हैं कि 24 घंटे प्रत्येक दिन बिजली मिलेगी. लेकिन प्रदेश में 24 घंटे क्या सही से 10 घंटे भी बिजली नहीं मिल रही है.

इसे भी पढ़ेंःसुप्रीम कोर्ट ने IPC की धारा 497 को किया रद्द, कहा महिला-पुरुष एक समान, विवाहेतर संबंध अपराध नहीं

बिजली नहीं रहने से व्यवसाय पर बुरा असर

यह सरकार के कार्यकाल में ही इस तरह  की समस्या  उत्पन्न हुई है. हम लोगों की मांग है कि डीवीसी से  डायरेक्ट बिजली मिले और भुगतान भी लोग डीवीसी को ही करें.  साथ ही कहा कि डीवीसी लोगों को बिजली दें अन्यथा  मैथन एवं डीवीसी के अधिकारियों को भी जनता बिजली काटने का काम करेगी. जिला चेंबर अध्यक्ष राजेश गुप्ता ने कहा कि बिजली नहीं रहने से व्यवसाय में भी बहुत ज्यादा असर पड़ रहा है. सरकार अगर बिजली में सुधार नहीं करती है तो इसका असर महंगाई पर पड़ेगा.

वहीं बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राधेश्याम गोस्वामी ने कहा कि कोयला और बिजली दोनों यहां की है फिर भी यहां की जनता अंधेरे में  और प्रदेश की जनता  रोशनी के उजाले में जी रहे है. यह है रघुवर सरकार की कार्य, जनता भी रघुवर सरकार के कार्य करने की क्षमता देख चुकी है. आगामी चुनाव में इसकी जवाब जनता  जरूर देगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: