न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मुख्य सचिव न बनाये जाने से नाराज डीके तिवारी गये 15 दिनों की छुट्टी पर

5 अक्टूबर को बुलायी थी सभी जिला योजना पदाधिकारियों की बैठक

762

Ranchi: वर्तमान मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी को दिसंबर तक का एक्सटेंशन मिलने से नाराज डीके तिवारी 15 दनों की छुट्टी पर चले गये हैं. श्री तिवारी मुख्य सचिव बनने के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे. शुक्रवार को सुधीर त्रिपाठी को सेवा विस्तार मिलने के साथ ही उनके मुख्य सचिव बनने की संभावना खत्म हो गयी. डीके तिवारी ने 5 अक्टूबर को राज्य भर के जिला योजना पदाधिकारियों की महत्वपूर्ण बैठक बुलायी थी. अब उनके छुट्टी पर चले जाने के बाद इस बैठक पर संशय है. यिद यह बैठक होती भी है तो डीके तिवारी इसमें शामिल नहीं हा पायेंगे.

इसे भी पढ़ें: वर्तमान मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी को दिसंबर तक का एक्सटेंशन, किनारे कर दिये गये डीके तिवारी

दूसरी बार मिला है किसी सीएस को एक्सटेंशन

hosp3

यह प्रदेश में दूसरी बार हुआ है, जब किसी सीएस को एक्सटेंशन मिला है. इससे पहले पूर्व मुख्य सचिव एसके चौधरी को तीन महीने का एक्सटेंशन मिला था. कार्मिक ने अपराह्न तीन बजे इसका आदेश जारी कर दिया. सुधीर त्रिपाठी का कार्यकाल 30 सितंबर को समाप्त हो रहा था. इसके साथ तमाम कयास और अटकलों को विराम लग गया. सीएमओ ने सीएस के लिये पीएमओ को दो विकल्प सुझाये थे. इसमें पहला विकल्प वर्तमान सीएस सुधीर त्रिपाठी का एक्सटेंशन और दूसरा विकल्प डीके तिवारी को लॉन्ग टर्म के लिये सीएस बनाने का था. लेकिन पीएमओ ने वर्तमान सीएस सुधीर त्रिपाठी के नाम पर मुहर लगाई.

इसे भी पढ़ें: लापरवाही: दुष्‍कर्म पीड़िता को भर्ती करने में रिम्‍स ने लगा दिये 5 घंटे

ब्यूरोक्रेसी में फेरबदल की संभावना

ब्यूरोक्रेसी में फेरबदल की भी संभावना जताई जा रही है. प्रधान सचिव रैंक के दो अफसरों के केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में जाने के कारण प्रधान सचिव रैंक के दो पद खाली हो जायेंगे. इन पदों पर सचिव रैंक के अफसरों को प्रोन्नति दी जानी है. इस दौड़ में अजय कुमार सिंह, सत्येंद्र सिंह, डॉ नितिन मदन कुलकर्णी, केके सोन और पूजा सिंघल शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें: फिर किनारे किये गये काबिल अफसर, काम न आया भरोसा- झारखंड छोड़ रहे आईएएस

एक सीएस रैंक के अफसर के कारण फंसा था पेंच

एक सीएस रैंक के अफसर के कारण दिल्ली का मंतव्य जरूरी हो गया था. इस कारण राज्य सरकार ने दो अफसरों का नाम दिल्ली भेजा था. हालांकि डीके तिवारी दौड़ में सबसे आगे थे. लेकिन एक सीएस रैंक की पहुंच और पैरवी के कारण सुधीर त्रिपाठी को एक्सटेंशन देकर विवाद खत्म किया गया. फिर दिसंबर तक नये सीएस की तलाश होगी.

इसे भी पढ़ें: IL&FS संकट : 1,500 नॉन-बैंकिंग फाइनैंशल कंपनियों के रद्द हो सकते हैं लाइसेंस, झारखंड पर भी पड़ेगा असर

अमित खरे को भी मिला था दिलासा

पूर्व विकास आयुक्त अमित खरे को भी सीएस बनाने का सरकार ने पूरा भरोसा दिया था. लेकिन ऐन मौके पर सुधीर त्रिपाठी को सीएस बनाया गया. इसके बाद अमित खरे केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में चले गये. सत्ता के गलियारों में इसकी खूब चर्चा भी रही. खरे वर्तमान में केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्रालय में सचिव भी हैं. वहीं 30 सिंतबर को सीएस रैंक के अफसर उदय प्रताप सिंह भी रिटायर हो जायेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: