National

#DishaCase में आरोपियों के पुलिस #Encounter में मारे जाने की हो निष्पक्ष जांच: SC

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को हैदराबाद में सरकारी डॉक्‍टर के साथ गैंगरेप  और हत्या मामले के चार आरोपियों के मुठभेड़ में मारे जाने की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए.

प्रधान न्यायाधीश एस. ए. बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने दो जनहित याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान यह कहा. याचिकाओं में पिछले सप्ताह मुठभेड़ में मारे गये आरोपियों की स्वतंत्र जांच की मांग की गयी थी.

इसे भी पढ़ें- कांग्रेस राज्‍यसभा सदस्‍य धीरज साहू के घर #IncomeTax का छापा, एयरपोर्ट पर बरामद हुए 38 लाख रुपयों के खंगाले जा रहे स्रोत

advt

क्या कहा पीठ ने

पीठ ने कहा कि हमारा मानना है कि तेलंगाना में पशु चिकित्सक के साथ गैंगरेप और हत्या मामले के चार आरोपियों के मुठभेड़ में मारे जाने की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए. पीठ में न्यायमूर्ति एस. ए. नजीर और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना भी शामिल थे.

उसने कहा कि आपकी (तेलंगाना सरकार) कहानी के कई पहलू हैं, जिनकी जांच की आवश्यकता है. तेलंगाना सरकार की ओर से पेश हुए वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि किसी पुलिस कर्मी को गोली नहीं लगी है लेकिन वे आरोपियों द्वारा किये हमले में घायल हुए.

इसे भी पढ़ें- #JharkhandElection: सुबह 11 बजे तक 29.44% मतदान, 8 जिलों की 17 सीटों पर हो रही वोटिंग

ये हैं मारे गये चारो आरोपी

गौरतलब है कि हैदराबाद में सरकारी डॉक्‍टर के साथ गैंगरेप के चारों आरोपी मोहम्मद आरिफ, जोल्लू शिवा, जोल्लू नवीन और चिंतकुंता चेन्नाकेशवुलु पुलिस एनकाउंटर में मारे गये थे.

adv

यह एनकाउंटर नेशनल हाइवे-44 के पास हुआ. इसी जगह पर 27-28 नवंबर की रात को हैदराबाद में महिला डॉक्टर के साथ हैवानियत की वारदात को अंजाम दिया गया था.

पुलिस ने चारों आरोपियों को ढेर कर दिया था. पुलिस जांच के लिए चारों को क्राइम सीन रीक्रिएट करने के लिए लेकर गयी थी. लेकिन आरोपियों ने वहां से भागने की कोशिश की जिसके बाद चारों को पुलिस ने एनकांउटर कर मार गिराया था.

इसे भी पढ़ें- #CAB और NRC का विरोध जारी, वामदलों का 19 दिसंबर को देशव्यापी प्रदर्शन

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button